खबरे VIDEO NEWS: नो स्कूल नो फीस को लेकर जिला अभिभावक मंच उतरा सड़क पर, फीम निरस्तीकरण की मांग, दिये 600 आवेदन, देखे दीपक खताबिया की रिपोर्ट REPORT: सांसद निधि से अशंदान राशि स्‍वीकृत, सात दिव्‍यांगो को मोटोराईज्‍ड ट्राईसिकल वितरित, पढें खबर NEWS: मुख्यमंत्री ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर ऋण वितरण कार्यक्रम सम्‍पन्‍न, पढें खबर BIG NEWS: मोदी सरकार कर रही हरित क्रांति को समाप्त करने की साजिश, देश के 62 करोड़ किसान मजदूर काले कानून के खिलाफ उठायेगे आवाज-अजीत काठेड़, पढें खबर APRADH BREAKING: छोटीसादडी पुलिस की कार्रवाही, 1300 किलोग्राम अवैध डोडाचूरा सहित दो तस्कर गिरफ्तार, एक ट्क जप्त, पढें खबर APRADH BREAKING: जावरा पुलिस की बड़ी कार्रवाही, 80 ग्राम ब्राउन शुगर के साथ 3 आरोपी गिरफ्तार, हुसैन खां से हुई थी डील, पढें खबर POLITICS: चुनाव आयोग ने की उपचुनाव के लिए तैयारी, कोविड पेशेंट भी कर सकेेंगे अपने मत का अधिकार, मानना होंगे ये नियम, पढें खबर BIG NEWS: छोटीसादड़ी पुलिस के हत्थें चढ़ें तस्कर दशरथ व अमरसिंह, मुखबिर की सूचना पर हुई बड़ी कार्रवाही, पढें खबर  VIDEO NEWS: ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर योजना के अंतर्गत गांव धनेरियाकला में हितग्राहियों को वितरित किये विधायक बापू ने चेक, देखे रतन शर्मा की रिपोर्ट BETHAK: एसपी कलेक्टर पहुंचे कुकड़ेश्वर, सामाजिक कार्यकर्ता व आम जन के सुझाव जाने, पढें दशरथ नागदा की रिपोर्ट BIG NEWS: निंबाहेडा उप जिला चिकित्सालय में आखिर कब शुरु होगी सोनोग्राफी, उठने लगें सवाल, पढें पप्पू देतवाल की रिपोर्ट POLITICS: मंदसौर आ रहे है पूर्व सीएम कमलनाथ, उससें पहले हो सकती है उम्मीदवार की घोषणा, करेंगे जनसभा को संबोधित NEWS: कोयले में मिलावट करने वाले तीन ट्रेलर चालक गिरफ्तार, पढें खबर VIDEO NEWS: नीमच में तेज हवाओ के साथ बारिशए उमस से मिली राहतए किसानो के चेहरे पर आई मायुसी, देखे दीपक खताबिया की रिपोर्ट CORONA BREAKING: नीमच में कोरोना का तांडव जारी, पहली रिपोर्ट में चार नए कोरोना पाॅजिटिव, पढें अंडर कंवर रिपोर्टर की रिपोर्ट POLITICS: सीएम शिवराज ने बताया मोदी को किसानों का भगवान, फिर भगवान के नाम पर गर्माती नजर आई सियासत, दिग्विजय ने कसा तीखा तंज, पढें खबर,

VIDEO: सोनिया गांधी के ऐलान के बाद राहुल की करीबी मैडम नटराजन बनाई जा सकती है एमपी पीसीसी चीफ, देखे जर्नलिस्‍ट मुस्‍तफा हुसैन की

नीमच :-

कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी ने मध्य प्रदेश में सत्ता और संगठन के बीच समन्वय के लिए तालमेल कमेटी का गठन कर एमपी की कांग्रेस की राजनीति में एक बार फिर हलचल मचा दी है तालमेल कमेटी के गठन की इस कवायद के बाद एमपी में अब कांग्रेस नेताओ के कद मापने का काम शुरू हो चुका है.

कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी ने सत्ता और संगठन के बीच समन्वय के लिए जो समिति बनाई है उसमे शामिल सीएम कमलनाथ, पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया के नामो पर कोई अचरज नहीं हो रहा क्योकि इनको तो होना ही था, लेकिन बाकी बचे चार नामो  पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव, काबीना मंत्री जीतू पटवारी और पूर्व सांसद मिनाक्षी नटराजन के नाम पर बहस लाज़मी है. उसमे सबसे अधिक चर्चा में जो नाम है वह राहुल गांधी की करीबी मीनाक्षी नटराजन का है. जो नीमच - मंदसौर से सांसद रह चुकी है.

गौरतलब है की इस तालमेल कमेटी में वरिष्ठ नेताओ के अलावा जो चार अन्य नाम लिए गए है, वे युवा है और हाईकमान ने यह मेसेज देने की कोशिश की है की आने वाले समय में कांग्रेस के हीरो यह चार नेता ही होंगे. क्योकि चारो युवा है और सीधे दिल्ली  दरबार से जुड़े है. इसमें सिंधिया के लिए यह माना जा रहा है की वे राजयसभा में ले लिए जाएंगे और जीतू पटवारी सरकार में केबिनेट मंत्री है ऐसे मिनाक्षी नटराजन हाल फिलहाल सत्ता में कही नहीं है.ऐसे में जानकारों की माने तो हाईकमान उन्हें आगामी दिनों में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेवारी सौंप सकता है. 

यह बात सामने आने की कई ख़ास वजह है. वैसे मिनाक्षी नटराजन का नाम पहले भी कई बार प्रदेशाध्यक्ष को लेकर सुर्खियों में आ चुका है, पर वे किसी पद की जवाबदारी को टालती रही है. और उन्होंने तय किया है की वे पूरा साल देश के विभिन्न हिस्सों में घूमेगी और पद यात्राएं करके कांग्रेस को मजबूत करेगी. अब तक वे झारखंड, छत्तीसगढ़ और गुजरात में पद यात्रा कर चुकी है. लेकिन तालमेल कमेटी में उनको सदस्य बनाकर हाईकमान ने उन्हें एमपी की तरफ भेजा है. वही वे ऐसी नेता है जिनका प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह से बेहतर रिश्ता है. जबकि सिंधिया का तालमेल इन तीनो से नहीं बैठता. वही राजनीति में भले सिंधिया और नटराजन राहुल के करीबी हो पर दोनों नेताओ में शीत युद्ध जगजाहिर है. और यह लड़ाई मालवा पर एकाधिकार की है. 

मालवा को सिंधिया घराना अपनी पूर्व स्टेट का हिस्सा मानता है और स्व. माधव राव सिंधिया के समय से ही सिंधियाओं की मालवा में जबरदस्त फॉलोविंग रही है. लेकिन मीनाक्षी नटराजन जब से नीमच मंदसौर संसदीय सीट से चुनाव लड़ने लगी तब से मालवा में एकाधिकार और वर्चस्व की लड़ाई दोनों में छिड़ गयी. ज्योतिरादित्य सिंधिया के खासुलखास माने जाने वाले कांग्रेस नेता स्व.महेंद्र सिंह कालूखेड़ा तो पब्लिक मीटिंग तक में मैडम नटराजन के खिलाफ बोला करते थे. उन्होंने तो यहाँ तक कह दिया था की नटराजन हाईकमान का रौब जमाकर कांग्रेस में अपनी तानाशाही चलाती है. तब से जो बात बिगड़ी थी वो कभी बन नहीं पायी.

ऐसे हालातो के चलते कमलनाथ और दिग्विजय सिंह के लिए सबसे मुफीद नाम नटराजन का है क्योकि नटराजन आलाकमान की ख़ास है और उनके नाम पर आलाकमान की हरी झंडी आसानी से मिल जायेगी. फिर प्रदेश कांग्रेस को महिला अध्यक्ष मिलेगी. वैसे नटराजन के फॉलोवर्स पूरे प्रदेश में है और वे संगठन के काम में ही अधिक रूचि लेती है इन्ही सब कारणों के चलते ज्योही तालमेल कमेटी में उनका नाम आया यह चर्चा आम हो गयी की मैडम पीसीसी चीफ बन सकती है.

इस मामले में जब हमने नीमच के पूर्व विधायक और कांग्रेस के कद्दावर नेता नंदकिशोर पटेल से बात की तो उनका कहना था की नटराजन मालवा में हुए किसान आंदोलन की अगुआ रही, वे देश भर में कांग्रेस को मजबूत करने के लिए पदयात्राएं भी करती रही है. उनहोंने हमेशा कांग्रेस संगठन को मजबूती देने का काम किया है पार्टी उन्हें कोई भी पद सौंपे उनमे नेतृत्व और कार्य करने की क्षमता है वही नीमच जिला कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष संजीव पगारिया कहते है नटराजन मैडम ने हमेशा कांग्रेस को मजबूती दी है उन्हें कोई भी जिम्मेवारी सौंपी जाती है तो वे बखूबी निभाएगी


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.