खबरे OMG ! कोरोना का खौफ, ग्वालियर में 50 जूनियर रेजिडेंट डॉक्टरों ने दिए इस्तीफे, पढें खबर BIG BREAKING: 10 से ज्‍यादा अज्ञात बदमाश, गैस सिलेंडर से भरें पिकअप वाहन को रोका, लूट लिया सिलेंडर, पुलिस ने किया प्रकरण दर्ज, पढें खबर LOCK DOWN: लॉक डाउन, पुलिस और प्रशासन गंभीर, नियमों का उल्‍लंघन करनें वालों से लगवाई उठक-बैठक, पढें कमलेश चौहान की खबर BIG NEWS: कोरोना वायरस की महामारी, ऑल इंडिया श्‍वेतांबर स्‍थान ने बढ़ाए कदम, भोजनशाला में सौंपा आटा और राशि, पढें दीपक खताबिया की खबर LOCK DOWN: कोरोना वायरस से जंग, आगामी 11 और 12 मार्च को जिला संर्पूण रूप से लॉक डाउन, पुलिस ने निकाला फ्लैग मार्च, नगरवासियों ने बरसाए फूल, पढें दशरथ नागदा की खबर BIG NEWS: कोरोना संकट के समय किसानों के साथ है केन्द्र सरकार, भाजपा किसान मोर्चा भी डटा है मुस्तैदी से, गुप्ता, पढें खबर BIG NEWS: 40 घंटे में बनाई सेनेटाइजर मशीन, सेनेटाइजर मशीन भानपुरा अस्पताल को समर्पित, पढें खबर NEWS: ग्राम पंचायत बोरखेड़ी कला द्वारा पिपलिया चारण में मास्क वितरण, पंचायत के चारों गांव होंगे सेनिटाइज, पढें खबर VIDEO: लॉकडाउन के बीच जिला प्रशासन की सबसे बडी कार्रवाही, कुकडेश्वर में व्यापारी का गोदाम सील, तलघर में रखी थी एक्सपायरी डेट की खाद सामग्री, देखे दशरथ नागदा की रिपोर्ट BIG NEWS: लॉक डाउन खुलने के बाद हालात का सामना करने की रूपरेखा बनानी चाहिए, अनिल चौरसिया, पढें खबर BIG NEWS: कोरोना वायरस से जंग, सहकारिता मंत्री आंजना के निर्देश पर अस्‍पताल में वेंटिलेटर सुविधा शुरू, पढें खबर BIG BREAKING NEWS: नीमच जिला 2 दिनों के लिए संर्पूण लॉक डाउन, जिला कलेक्‍टर ने जारी किए आदेश, पढें खबर BIG NEWS: कोरोना संक्रमण से बचाने के लिये आयुष विभाग कर रहा ग्रामीणों को सजग, रतनगढ एवं लुहारिया चुंडावत में पिलाया गया आयुर्वेदिक काढ़ा, पढ़े खबर BIG NEWS: कोरोना जंग, ग्रामीण क्षेत्र में मुस्तेद है ग्रामीण विकास अमला, कुंडला पंचायत में पिलाया त्रिकुट आयुर्वेद एवम तुलसी काढ़ा, पढें दिनेश वीरवाल की खबर

BIG REPORT: कोरोना के साए में शुरु हुआ शक्ति की भक्ति का महापर्व, बुधवार को हुई घटस्‍थापना, परंपरा के अनुसार होगी पूजा-अर्चना, पढें खबर

Image not avalible

BIG REPORT: कोरोना के साए में शुरु हुआ शक्ति की भक्ति का महापर्व, बुधवार को हुई घटस्‍थापना, परंपरा के अनुसार होगी पूजा-अर्चना, पढें खबर

मंदसौर :-

मंदसौर, कोरोना के साए में शक्ति की भक्ति का महापर्व चैत्र नवरात्रि महापर्व की शुरुआत बुधवार से हुई। बुधवार को घटस्थापना के साथ मातरानी की आराधना का यह पर्व शुरु हुआ। जो नो दिनों तक चलेगा। मातारानी की आराधना के लिए इस नवरात्रि को बड़ी नवरात्रि माना जाता है। अभी देश और दुनिया में कोरोना वायरस महामारी आई है। इसके चलते हर कोई दहशत में है।

नवरात्रि के इस दौर में दुर्गा सप्तशती के मंत्रों का जाप और हवन करने से इस महामारी का विनाश हो सकेगा। कोरोना के प्रभाव के कारण मंदिरों में आयोजन तो नहीं हुए लेकिन परंपरा अनुसार पूजा-अर्चना हुई। नालछा माता मंदिर पर पुजारी ने मास्क पहनकर घटस्थापना के साथ परंपरा अनुसार पूजा-अर्चना की।

तिथियों का नहीं होगा हास, इस बार नो दिनों की होगी नवरात्रि-

पंडित राकेश भट्ट ने बताया कि इस बार नवरात्रि के दौर में तिथियों का हास नहीं होगा। ऐसे में नवरात्रि पूरे नो दिनों की होगी। 25 मार्च से नवरात्रि शुरू हो रही है। जो 2 अप्रैल को रामनवती तक रहेगी। इस बार की नवरात्रि कई कारणों की वजह से खास मानी जा रही है। इस बार किसी तिथि का क्षय नहीं है जिस वजह से मां दुर्गा की उपासना के लिए पूरे नौ दिन मिलेंगे। दूसरा नवरात्रि में कई शुभ योग भी बन रहे हैं।

नवसंवत्सर में राहु और केतु-

जानकारोंर के अनुसार नवसंवत्सर के प्रारंभिक समय में राहु और केतु क्रमश मिथुन और धनु राशियों में होंगे और सितंबर 2020 तक इन्ही राशियों में रहेंगे और इसके बाद राहु वृषभ राशि में तथा केतु वृश्चिक राशि में होंगे। इन दोनों ग्रहों को अचानक लाभ और अचानक हानि के लिए जाना जाता है। राहु और केतु को विष्फोटक ग्रह भी माना जाता है। इनसे संक्रमण रोगए बुरी घटनाओं, युद्ध और विद्रोहों आदि का भी विचार किया जाता ह। इसलिए इस दौरान उथल-पुथल होने के संकेत हैं।

भैंसरुपी महिषासुर का देवी दुर्गा नेकिया था वध-

पौराणिक कथा के अनुसार देवी दुर्गा ने भैंस रूपी असुर महिषासुर का वध किया था। पौराणिक कथाओं के अनुसार महिषासुर के एकाग्र ध्यान से बाध्य होकर देवताओं ने उसे अजय होने का वरदान दे दिया। उसे वरदान देने के बाद देवताओं को चिंता हुई कि वह अब अपनी शक्ति का गलत प्रयोग करेगा और प्रत्याशित प्रतिफल स्वरूप महिषासुर ने नरक का विस्तार स्वर्ग के द्वार तक कर दिया। महिषासुर ने देवताओं के सभी अधिकार छीन लिए थे और स्वयं स्वर्गलोक का मालिक बन बैठा।

देवताओं को महिषासुर के प्रकोप से पृथ्वी पर विचरण करना पड़ रहा थे। तब देवताओं ने देवी दुर्गा की रचना की। ऐसा माना जाता है कि देवी दुर्गा के निर्माण में सारे देवताओं का एक समान बल लगाया गया था। महिषासुर का नाश करने के लिए सभी देवताओं ने अपने अपने अस्त्र देवी दुर्गा को दिए थे और इन देवताओं के सम्मिलित प्रयास से देवी दुर्गा और बलवान हो गईं थी।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.