खबरे BIG BREAKING : नीमच पुलिस की ताबड़तोड कार्यवाही, 12 साल की लड़की के दुष्कर्म हुए केश में, 24 घंटे के पहले आरोपी गिरफ्तार, पढ़े खबर BADI KHABAR : देश भर में ‘मेरी सहेली’ अभियान शुरू, महिलाओं को दी अभियान की जानकारी,पढें खबर OMG : एक ऐसा पार्क , जिसमें पेड़ नहीं, बल्कि पोल दिखेंगे, मौज.मस्ती नहीं, रूल्स सीखेंगे,क्या हैं खास,पढें खबर REPORT : नीमच आने से पहले पढ़ लेवें ये खबर, नही तो आपको भी जाना होगा हाॅस्पिटल, क्या है पूरा मामला, पढें ग्राउंड जीरो से हिमांशु राजोरा की खबर BIG NEWS: आटोमेटिक मशीन नापेगी शरीर का ट्रेम्पेचर- शहर वासियों के लिये कल डेमो के साथ होगी लांच- निर्धारित दामों पर मिलेगी, पढें खबर BIG NEWS : गोहत्या निरोधक कानून, किस तरह हो रहा दुरुपयोग,जाने क्या कहता हैं संविधान,पढें खबर POLITICAL NEWS: उमरावसिंह गुर्जर पहुंचे नाहरगढ व कयामपुर ब्लाक में, राकेश पाटीदार को जिताने का कर रहे आव्हान, पढें खबर BIG BREAKING : कोरोना वायरस के कारण देशभर में लगे लॉकडाउन को लेकर भारत सरकार ने बड़ा फैसला, 30 नवंबर तक जारी रहेगा लॉकडाउन, पढ़े खबर BIG BREAKING : भारत ने अगर बालाकोट जैसी सर्जिकल स्ट्राइक फिर की तो दुश्मन का पता आसानी से लगा लेगा, जानिए BECA समझौते से जुड़ी जरूरी बातें, पढ़े खबर BIG BREAKING : किसान के लिए सरकार ने दी खुशखबर, मध्य प्रदेश में बंजर जमीन से होगी कमाई जानिए क्या है रास्ता पढ़े खबर OMG ! कार में बैठने से मना किया तो छात्रा को गोली मारी, धर्म बदलने का दबाव बना रहा था आरोपी, पढ़े खबर BIG BREAKING : आम आदमी के लिए बड़ी खबर! बदल गया आपकी रसोई गैस सिलेंडर बुकिंग का फोन नंबर, फटाफट ऐसे करें चेक, पढ़े खबर BADI KHABAR : सिंगल यूज प्लास्टिक की रोकथाम के लिए शपथ दिलवाई गई, पर्यावरण शुद्ध होगा तभी मानव जीवन स्वस्थ्य होगा , पढें खबर

BADI KHABAR : कोविड-19- भारत में बदलेगा कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज का तरीका, इन दवाओं पर ट्रायल के बाद हुआ फैसला, पढे खबर

Image not avalible

BADI KHABAR : कोविड-19- भारत में बदलेगा कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज का तरीका, इन दवाओं पर ट्रायल के बाद हुआ फैसला, पढे खबर

डेस्‍क :-

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के मामलों के पाए जाने की रफ्तार धीरे-धीरे कम हो गई है. इस बीच स्वास्थ्य विभाग ने तय किया है मौजूदा समय में कोविड ट्रीटमेंट के प्रोटोकॉल की समीक्षा की जाएगी. विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक बड़े ट्रायल रिजल्ट के बाद यह फैसला लिया गया. डब्ल्यूएचओ की अगुवाई में चार दवाओं पर ट्रायल किया गया जो मृत्यु दर को कम करने में बहुत कम मददगार या असफल साबित हुई। इनमें एंटीवायरल ड्रग रेमेडिसविर, मलेरिया ड्रग हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन, एक एंटी-एचआईवी संयोजन लोपिनवीर और रीटोनवीर और इम्युनोमोड्यूलेटर इंटरफेरॉन हैं. पहली दो दवाइयां कोरोना के उन मरीजों के लिए हैं, जिन्हें संक्रमण के हल्के लक्षण हैं। 

अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि प्रोटोकॉल की समीक्षा अगले संयुक्त टास्क फोर्स की बैठक में की जाएगी, जिसकी अध्यक्षता डॉ. वीके पॉल, सदस्य (स्वास्थ्य) और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव करेंगे।

हम क्लिनिकल मैनेजमेंट प्रोटोकॉल को फिर से करेंगे रिवाइज-
रिपोर्ट के अनुसार डॉ. भार्गव ने कहा, श्हां, हम नए रिजल्ट को ध्यान में रखते हुए क्लिनिकल मैनेजमेंट प्रोटोकॉल को फिर से रिवाइज करेंगे.श् बता दें एचसीक्यू को भारत के ड्रग्स कंट्रोलर जनरल द्वारा मामूली रूप से बीमार कोविड -19 रोगियों में उपयोग के लिए मंजूरी दे दी गई है. वहीं इमरजेंसी के लिए रेमेडिसविर को मंजूरी मिली है।
डब्ल्यूएचओ की सॉलिडैरिटी ट्रायल के नाम से जानी जाने वाली इस स्टडी में कहा गया है कि अब 30 देशों के 405 अस्पतालों में इन दवाओं  के असर पर संदेह है. इस स्टडी में कोविड -19 के 11,266 वयस्क संक्रमितों को शामिल किया गया था. उनमें से, 2,750 को रेमेडिसविर, 954 एचसीक्यू, 1,411 लोपिनवीर, 651 इंटरफेरॉन प्लस लोपिनवीर, 1,412 केवल इंटरफेरॉन, और 4,088 को अन्य दवाएं दी गई जिन पर कोई स्टडी नहीं हुई थी।

ये दवाएं काम करती हैं या नहीं-
भारत भी ट्रायल्स का हिस्सा था और इन चार दवाओं का परीक्षण हुआ. आईसीएमआर के अनुसा 15 अक्टूबर, 2020 तक 937 कोविड रोगियों और 26 रैंडर जगहों पर इसका ट्रायल हुआ. विशेषज्ञों का कहना है कि इस ट्रायल में कुछ महत्वपूर्ण सवालों के जवाब मिले. पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया के संस्थापक डॉ. के श्रीनाथ रेड्डी ने कहा कि श्इस ट्रायल का उद्देश्य यह देखना था कि ये दवाएं काम करती हैं या नहीं. हमने पाया है कि ये काम नहीं करते हैं, और जवाब हासिल करना जरूरी था।

स्टडी के सहलेखक रेड्डी ने कहा कि श्इंटरफेरॉन जैसी दवाओं के ट्रायल से पता चला है कि यह अस्पताल में भर्ती मरीजों को लगभग नुकसान पहुंचाने की कगार पर है, इसलिए इसे जारी रखने का कोई मतलब नहीं है.श् अब हम अन्य उपलब्ध दवाओं की कोशिश कर सकते हैं जो सस्ती भी हो सकती हैं।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.