खबरे REPORT : विधायक कि खरीद फरोख्त लोकतंत्र की हत्या, शिवराज सरकार बचाने के लिए कर रहे हैं खरीद फरोख्त, पढ़े खबर DUSSEHRA 2020 : एक ओर जहां आज विजयदशमी के मौके पर पूरे देश में रावण के पुतलों का दहन किया जाता है, यहां रावण दहन नहीं होता जानिए क्या है मामला, पढ़े खबर BRAKING NEWS : जेपी नड्डा बोले, राजस्थान में सरकार नाम की चीज नहीं, कांग्रेस दिशाहीन हो चुकी है, पढे खबर BREAKING NEWS : हमारी किस्मत में है तो फोड़ रहे नारियल चुनावी सभा में बोले शिवराज पढ़े खबर BREAKING NEWS : जिले में वाहन पलटा, एक की मौत, 13 घायल,पुलिस मोके पर, पढ़े खबर BRAKING NEWS : कोरोना को देखते हुए, विश्व प्रसिद्ध पुष्कर मेले के आयोजन पर संशय बरकरार, आयोजन की संभावन कम,पढें खबर BREAKING NEWS : जिले में कैमरे में कैद हुआ बाघ, इलाके को अलर्ट कर दिया गया है, पढ़े खबर REPORT : फिर रुलाने की तैयारी, प्याज 73 रुपये किलो तक पहुंचा भाव, पढ़े खबर NEWS : क्षेत्र में कायम रही कन्या पूजन परम्परा, पैर धुलाकर तिलक किया और कराया भोजन, पढ़े मेहबूब मेव की खबर NEWS :क्षेत्र में कायम रही कन्या पूजन परम्परा, पैर धुलाकर तिलक किया और कराया भोजन पढ़े मेहबूब मेव की खबर NEWS : सिंगोली पुलिस थाने पर हुई शस्त्र पूजा, विजयादशमी पर शस्त्र पूजा की है प्राचीन परम्परा, पढ़े मेहबूब मेव की खबर REPORT : जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती एंव फारुखा अब्दुला के असंवेधानिक बयान के विरोध में जय भारत मंच मालवा प्रांत द्वारा पुतला दहन किया, पढ़े रामेश्वर नागदा की खबर

UPCHUNAAV 2020: उपचुनाव में दांव पर ज्योतिरादित्य सिंधिया की सियासी सल्तनत, 4 सीट हारे तो गढ़ में हो जाएगा गेमओवर, जानिए क्या है कांग्रेस का प्लान, पढें खबर

Image not avalible

UPCHUNAAV 2020: उपचुनाव में दांव पर ज्योतिरादित्य सिंधिया की सियासी सल्तनत, 4 सीट हारे तो गढ़ में हो जाएगा गेमओवर, जानिए क्या है कांग्रेस का प्लान, पढें खबर

डेस्‍क :-

भोपाल. गुना और ग्वालियर ये दोनों ही सिंधिया परिवार के परंपरागत संसदीय क्षेत्र रहे हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता माधवराव सिंधिया पहले ग्वालियर सीट से सांसद चुने गए थे। बाद में भाजपा नेता जयभान सिंह पवैया के मजबूती से उभरने के कारण उन्हें ग्वालियर छोडऩा पड़ा। फिर वे गुना आ गए।

माधवराव सिंधिया के निधन के बाद जब से ज्योतिरादित्य ने सियासत में कदम रखा है, तब से गुना संसदीय सीट को राजनीतिक विरासत माना। अब कांग्रेस का गेमप्लान इसी सीट के कोर एरिया में सिंधिया की सल्तनत में सेंध लगाकर ध्वस्त करने का है। इसके तहत कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेताओं को इन सीटों पर उतारा है। एक-एक बूथ की मॉनीटरिंग की जा रही है।

गुना जिला: दिग्विजय रियासत के लिए बड़ा मौका, जयवर्धन जुटे-

गुना की जंग में सिंधिया सल्तनत और दिग्विजय रियासत बड़ा फैक्टर है। गुना की चार में से तीन सीटें अभी सिंधिया समर्थकों से बाहर हैं। इनमें एक सीट पर दिग्विजय के पुत्र जयवर्धन सिंह और एक पर छोटे भाई लक्ष्मण सिंह काबिज हैं। एक सीट पर भाजपा विधायक गोपीलाल जाटव हैं।

बमोरी सीट पर सिंधिया समर्थक मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस का गेमप्लान अब गुना में सिसौदिया की हार पर फोकस करना है। सिसौदिया यदि हार जाते हैं तो पार्टी स्तर पर भाजपा और कांग्रेस की दो-दो सीटें हो जाएंगी। लेकिन, सिसौदिया की हार सिंधिया के लिए गुना में गेमओवर जैसी होगी।

यहां दिग्विजय के पुत्र जयवर्धन सिंह जुटे हुए हैं। हर बूथ तक उनकी पहुंच है। एक बड़ा फैक्टर पूर्व मंत्री कन्हैयालाल अग्रवाल को कांग्रेस प्रत्याशी बनाना है। सिसौदिया पिछली बार 27 हजार वोट से जीते थे, जबकि अग्रवाल निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में 28 हजार से ज्यादा वोट ले गए थे। तब, भाजपा ने अग्रवाल को टिकट नहीं दिया था। वे निर्दलीय उतरे थे। इस बार कांग्रेस ने उन्हें टिकट देकर मैदान में मुकाबला कांटे का कर दिया है।

गुना सीट से मिलते हैं कम वोट-

हालांकि सिंधिया को हमेशा मलाल रहा है कि गुना सीट से उन्हें बेहद कम वोट मिलते हैं। यहां तक कि जब वे खुद चुनाव लड़ते हैं, तब भी गुना सीट उनका ज्यादा साथ नहीं देती। इसलिए यदि बामोरी से सिसौदिया हारे तो सिंधिया इस पूरे जिले से बाहर हो जाएंगे।

ग्वालियर जिला: अंचल का कंट्रोल यहां से पर दांव-पेंच हैं जुदा-

पूरे ग्वालियर-चंबल अंचल की सियासत ग्वालियर से कंट्रोल होती है। यहां अभी 6 में से 3 सीटों पर उपचुनाव है। इनमें सिंधिया समर्थक दो मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ग्वालियर और इमरती देवी डबरा से मैदान में हैं। तीसरी सीट ग्वालियर पूर्व से मुन्नालाल गोयल बाकी विधायक के रूप में भाजपा के टिकट पर हैं।

कांग्रेस गेमप्लान के तहत तीनों सीट पर सिंधिया समर्थकों को हराने के लिए ताकत लगा रही है। ग्वालियर में कंट्रोल रूम बनाया गया है। यहां पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, लाखन सिंह के साथ रामनिवास रावत, अशोक सिंह को कांग्रेस ने जुटा रखा है। पहले लाखन सिंह को सिंधिया समर्थक माना जाता रहा है, लेकिन सत्ता परिवर्तन के पहले वे सिंधिया से दूर हो गए थे।

कांग्रेस के निशाने पर मंत्री तोमर की सीट है, क्योंकि यहां उनके लिए भितरघात के भंवर से भी जूझने की चुनौती है, जो कांग्रेस की राह आसान कर सकती है। यहां पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया की नाराजगी खत्म नहीं हुई है।

पवैया को सिंधिया का विरोधी माना जाता है। पिछली बार वे तोमर से हारे थे। अब तोमर की जीत के साथ पवैया के सियासी कॅरियर पर सवालिया निशान लग जाएगा। इस कारण यहां भितरघात के दांव-पेंच ज्यादा हैं।

स्थिति: समर्थक हारे तो एक भी सीट नहीं-

ग्वालियर ग्रामीण सीट भाजपा के पास है। दक्षिण पर कांग्रेस के प्रवीण पाठक और भितरवार से लाखन सिंह विधायक हैं। सिंधिया समर्थकों के हाथ से उपचुनाव वाली तीन सीटें निकल गईं तो भाजपा के पास एक सीट रहेगी। इस तरह सिंधिया के लिए यहां गेमओवर हो जाएगा।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.