खबरे BREAKING NEWS : सिंचाई पानी की मांग को लेकर किसानों ने लगाया जाम, शाम सात बजे खोला जाम, पढ़े खबर BREAKING NEWS : कोटा में पकड़ा शातिर बाइक चोरो, पलक जपकते ही उड़ा लेते थे मोटरसाईकिल, पढ़े खबर NEWS : पश्चिमी विक्षोभ का असर तापमान पर, शीतलहर चलने की संभावना, पढ़े खबर BREAKING NEWS : युवक का अपरहण कर पांच लाख की मांगी फिरौती, पुलिस की बड़ी कार्यवाई, एक बाइक के साथ दो आरोपियों को किया गिरफ्तार, पढ़े खबर BREAKING NEWS : कड़ाके की सर्दी में मासूम बच्चो को लेकर आधी रात थाने पहुंचे ग्रामीण, पढ़े खबर BREAKING NEWS : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और सांसद ज्याेतिरादित्य सिंधिया के बीच हुई मुलाकात महज 10 मिनट में हुई खत्म, पढ़े खबर OMG : चचेरा भाई ही निकला दुष्कर्मी और हत्यारा, घर में सोते समय बच्ची को उठाकर कुएं पर ले गया, दुष्कर्म किया और फिर गला दबाकर मार डाला, आरोपी गिरफ्तार, पढें कैलाश शर्मा की खबर BREAKING NEWS : रोडवेज में लोग सफर कर अपने घर ले जा रहे है कोरोना संक्रमण को, पढ़े खबर NEWS : अधूरी सडक़ निर्माण से आए दिन हो रहे बड़े हादसे, जिम्मेदार हो रहे मौन, पढ़े खबर NEWS : उज्जैन हॉकी फीडर सेन्टर हेतु खिलाड़ियों का चयन 7 दिसम्बर को, पढ़े खबर NEWS : कलेक्टर के निर्देशन में, औषधी विक्रेताओं का एक लायसेंस निरस्त और 5 लायसेंस निलम्बित, पढ़े खबर NEWS : एक संक्रमित मिलने पर घर से 100 मीटर एरिया ही बनेगा कंटेनमेंट जोन, पढ़े खबर BREAKING NEWS : पहले पत्नी पर चाकू से किया जानलेवा हमला, फिर किया खुद को घायल, पढ़े खबर BREAKING NEWS : 8 साल की चचेरी बहन से भाई ने किया रेप फिर कर दी हत्या, अपना गुनाह छुपाने के लिए शव को फेका कुंए में, पढ़े खबर SOCIAL ACTIVITY : कार्तिक पूर्णिमा पर महिला व बालिकाओं ने की गंगा माता की पूजा कर टाटियो का तिराई, पढें दशरथ नागदा की खबर 

REPORT : दुनियाभर के सेंट्रल बैंकों को बेचना पड़ रहा है सोना, 10 साल में पहली बार आखिर क्यों, पढ़े खबर

Image not avalible

REPORT : दुनियाभर के सेंट्रल बैंकों को बेचना पड़ रहा है सोना, 10 साल में पहली बार आखिर क्यों, पढ़े खबर

डेस्क :-

नई दिल्ली. बीते एक दशक में ऐसा पहली बार हुआ है कि केंद्रीय बैंकों ने सोने की बिक्री की है. दरअसल, कोरोना वायरस महामारी के बीच सोने की कीमतें नये उच्चतम स्तर पर पहुंच गईं, जिसके बाद सोना उत्पादक कुछ देशों ने लाभ उठाने की कोशिश की. तीसरी तिमाही में सोने की कुल बिक्री करीब 12.1 टन रही. पिछले साल केंद्रीय बैंकों ने करीब 141.9 टन सोने की खरीद की थी. वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल से इसकी जानकरी मिलती है. जिन देशों के केंद्रीय बैंकों ने सबसे ज्यादा सोने की बिक्री की, उसमें सबसे पहले उजबेकिस्तान और तुर्की रहे. रूस के केंद्रीय बैंक ने भी बीते 13 साल में पहली बार किसी एक तिमाही में सोने की बिक्री की है l

अगले साल केंद्रीय बैंक बड़े स्तर पर खरीद सकते हैं सोना

इस साल एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड्स में बढते निवेश की वजह से सोने की कीमतों में तेजी आई है. लेकिन, बीते कुछ सालों में देखें तो केंद्रीय बैंकों ने सोने की खूब खरीद की है. पिछले महीने ही सिटिग्रुप ने अनुमान लगाया था कि 2021 में एक बार फिर बड़े स्तर पर केंद्रीय बैंक सोने की खरीद करेंगे. 2018 और 2019 में रिकॉर्ड खरीदारी के बाद इस साल इसमें सुस्ती देखने को मिल रही है.

तुर्की और उजबेकिस्तान ने कितना बेचा सोना?

जानकारों का कहना है कि यह कोई आश्चर्य की बात नहीं कि मौजूदा स्थिति में ये बैंक अपने गोल्ड रिज़र्व की ओर देखें. तीसरी तिमाही में तुर्की और उजबेकिस्तान के केंद्रीय बैंकों ने क्रमश: 22.3 टन और 34.9 टन सोने की बिक्री की है. उजबेकिस्तान अब अपने इंटरनेशनल रिज़र्व को डाईवर्सिफाई करने की दिशा में बढ़ रहा है l

तीसरी तिमाही के आंकड़ों से पता चलता है कि साल-दर-साल स्तर पर सोने की मांग में 19 फीसदी की गिरावट आई है. वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल का कहना है कि सोने की मांग में यह गिरावट भारतीय ज्वेलरी की डिमांड कम होने की वजह से है. इसका एक कारण यह भी है कि चीन में ज्वेलरी की खपत में कमी आई है l

बाजार में सोने के दाम पर पड़ेगा असर

दरअसल, कोरोना वायरस महामारी के बीच अधिकतर देश वित्तीय प्रोत्साहन का ऐलान कर रहे हैं. वर्तमान में सोने की कीमतों में तेजी का देखते हुए इस संकट से निपटने के​लिए केंद्रीय बैंक सोना बेच रहे हैं. अगर आगे भी अन्य केंद्रीय बैंक सोना बेचने का फैसला लेते हैं तो इससे सोने के दाम पर असर पड़ेगा, क्योंकि बीते कुछ समय में सोने की सबसे ज्यादा खरीद केंद्रीय बैंकों ने ही की है. हालांकि, माना जा रहा है कि सोने के दाम पर यह असर छोटी अवधि के लिए ही होगा l

सोने की खरीद या बिक्री क्यों करते हैं केंद्रीय बैंक

आपको बता दें कि किसी भी देश का केंद्रीय बैंक अपनी करंसी के अवमूल्यन को देखते हुए सोना—खरीदने या बेचने का फैसला लेता है. इसे मोटे तौर पर समझें तो ज्यादातर देश अपने विदेशी मुद्रा भंडार को डॉलर में ही रखते हैं. ऐसे में अगर डॉलर मजबूत होता है या उस देश की मुद्रा कमजोर होती है तो उसे डॉलर की खरीद करने में या अन्य देनदारियां डॉलर में चुकाना महंगा पड़ता है. इसके बदले सोने के पर्याप्त भंडारण की स्थिति में केंद्रीय बैंक सोने को मुद्रा में बदलकर अपनी देनदारियां चुका सकता है. इससे डॉलर पर आत्मनिर्भरता भी घटती है और सोने के दामों में तुलनात्मक रूप से स्थिरता की वजह से नुकसान भी कम होता है l

दुनिया के सबसे ज्यादा सोना रखने वाले देश

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट बताती हैं कि दुनिया में सबसे ज्यादा सोने का भंडार अमेरिका के पास है. अमेरिका के पास कुल 8,133.5 टन सोना रिजर्व में है. जर्मनी दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सोने के भंडार रखने वाला देश है. जर्मनी की ऑफिशियल गोल्ड होल्डिंग 3,369.70 टन है. सोने का यह भंडार देश के विदेशी मुद्रा भंडार का 70 फीसदी है. इटली के पास 2,451.8 टन सोना जमा है. यह सोना देश के विदेशी मुद्रा भंडार का 68 फीसदी है. वहीं, फ्रांस दुनिया का चौथा सबसे बड़ा सोने का भंडार रखने वाला देश है. फ्रांस के पास 2,436 टन सोने का भंडार है. यह सोना फ्रांस के विदेशी मुद्रा भंडार का 63 फीसदी है. इस लिस्ट में भारत का नंबर 11वां है. भारत के पास फिलहाल 608.7 टन सोने का रिजर्व है l


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.