खबरे BREAKING NEWS : जहरीली शराब कांड का मुख्य आरोपी हुआ गिरफ़्तार, पुलिस से बचते हुए पहुंच गया था यहा तक, पढ़े खबर MUSAM KHABAR : 26 से 31 जनवरी इन जगहों पर पड़ेगी कड़कड़ाती ठंड, तेजी से गिरेगा पारा, पढ़े खबर BADI KHABAR : भाजपा विधायक ने कर डाली अलग विंध्य प्रदेश की मांग, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा-कि मध्यप्रदेश अखंड है, पढें खबर BIG NEWS : नगर पालिका चुनाव कांग्रेस के दो और प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित, पढ़े कैलाश शर्मा की खबर   BIG NEWS : कोरोना संकट के बाद, शिक्षा के मंदिर खुले, पहले दिन स्कूलों में खुशियों भरा माहौल, पढें खबर BREAKING NEWS : ब्लड बैंक के संचालक से ठगे 39 लाख, डॉक्टर हुआ गिरफ़्तार, इस तरह हुआ खुलासा, पढ़े खबर VIDEO NEWS : एमपी के लिये आज का दिन बड़ा, शुरू होगी कोर्ट में भौतिक रूप से सुनावई, इन्हे ही मिलेगी अनुमति, ये दुकाने रहेगी बंद, देखे एडिटर नवीन पाटीदार के साथ BIG BREAKING: मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने आदेश जारी किया, आज से कोर्ट में शुरू होगी भौतिक सुनवाई, गाइडलाइन का करना होगा पालन, पढें खबर BIG NEWS : राम मंदिर निर्माण के लिए सिंधिया ने दिया 5 लाख का दान, ट्वीट कर कहा राम काज कीन्हे बिना मोहि कहां विश्राम, पढें खबर BREAKING NEWS : कर्फ्यू हटा लेकिन एक साथ खड़े नहीं हो सकते पांच से ज्यादा व्यक्ति, जरूरतों अनुसार किए गए ये बदलाव, पढ़े खबर BREAKING NEWS : गांव में बन रही थी कच्ची शराब, विभाग ने 125 किलो महुआ लाहन किया जब्त, पढ़े खबर PILITICS NEWS : कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस करेगी सोमवार को रैली, एक हजार ट्रैक्टरो पर किसानों को लाने का बनाया लक्ष्य, पढ़े खबर BADI KHABAR : खुशी बदली गम में, सुबह होना था भोज, लेकिन उसी दोपहर घर से उठी मां-बेटी की अर्थी, पढ़े खबर

BIG NEWS : चीन की दर्जनों कंपनियों को डाला ब्लेक लिस्ट में, मानवाधिकार का उल्लंघन करने का लगा आरोप, पढ़े खबर

Image not avalible

BIG NEWS : चीन की दर्जनों कंपनियों को डाला ब्लेक लिस्ट में, मानवाधिकार का उल्लंघन करने का लगा आरोप, पढ़े खबर

डेस्क :-

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के प्रशासन ने अपने कार्यालय में अपने अंतिम सप्ताहों में चीन के साथ तनाव को और तेज कर दिया है। अमेरिका ने देश की शीर्ष चिपमेकर सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल और चीनी ड्रोन निर्माता एसजेड डीजेआई टेक्नोलॉजी कंपनी लिमिटेड सहित दर्जनों चीनी कंपनियों को शुक्रवार को ब्लैकलिस्ट कर दिया।

छवि को चमकाने की कोशिश

इस कदम को व्यापार और कई आर्थिक मुद्दों पर वाशिंगटन और बीजिंग के बीच छिड़ी लंबी लड़ाई में अपनी छवि को चमकाने के रिपब्लिकन ट्रम्प के नए प्रयासों के रूप में देखा जा रहा है। अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने कहा कि सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प के खिलाफ कार्रवाई इसलिए की गई है क्योंकि बीजिंग सैन्य प्रयोजनों के लिए नागरिक टेक्नोलॉजी का दोहन कर रहा है और इससे उपजी चिंता को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

विरोध की अनुमति नहीं देगा

सचिव विल्बर रॉस ने एक बयान में कहा कि कॉमर्स डिपार्टमेंट एडवांस अमेरिकी टेक्नोलॉजी को सेना के विरोध में इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं देगा। डिपार्टमेंट ने यह भी कहा कि वह एजीसीयू साइंसटेच के साथ-साथ दुनिया की सबसे बड़ी ड्रोन कंपनी डीजेआई और कुआंग-ची ग्रुप को कथित तौर पर मानवाधिकारों का हनन करने के लिए ब्लैकलिस्ट की सूची में डाल रहा है। विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने एक अलग रिलीज में कहा कि अमेरिका उपलब्ध सभी उपायों का उपयोग करेगा, जिसमें (चीनी) कंपनियों द्वारा टेक्नोलॉजी का बेजा इस्तेमाल और अमेरिकी वस्तुओं और टेक्नोलॉजी का शोषण रोकने की कार्रवाई भी शामिल है।

लेकिन अमेरिका के कुछ सांसदों, उद्योग के अधिकारियों ने सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प के खिलाफ शुक्रवार के कदम के प्रभाव के बारे में सवाल उठाए हैं। आम तौर पर, लिस्टेड कंपनियों को कॉमर्स डिपार्टमेंट से लाइसेंस के लिए आवेदन करना आवश्यक है जिनकी काफी कड़ाई से स्क्रूटिनी की जाती है।

चुनौती का सामना करना होगा

सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प को तब भी कठिन समीक्षा स्टैंडर्ड का सामना करना पड़ेगा जब यह 10 नैनोमीटर या इससे छोटे और अत्यधिक उन्नत अमेरिकी चिपमेकिंग इक्विपमेंट के लिए लाइसेंस चाहेगा। कॉमर्स डिपार्टमेंट ने कहा कि कंपनी को भेजे गए अन्य सभी आइटम्स के लिए लाइसेंस की समीक्षा हर मामले के आधार पर की जाएगी। हम इसे बुरे लोगों की लिस्ट में डाल रहे हैं। कॉमर्स विभाग के पूर्व अधिकारी विलियम रेन्स ने कहा कि एजेंसी पहले से ही सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प को ब्लैकलिस्ट करने का माहौल बना रही थी।

डराने वाला कदम था

हाउस फॉरेन अफेयर्स कमिटी के सदस्य रिपब्लिकन प्रतिनिधि माइकल मैक काल ने भी रेन्स से सहमति जताई और कहा कि यह कदम डराने के लिए ज्यादा था। उहोंने एक बयान में कहा कि मुझे चिंता है कि यह इरादे से भटका हुआ है, और इससे अमेरिका के एक्सपोर्ट कंट्रोल से बचने का रास्ता निकाल सकते हैं। लेकिन चीनी अधिकारियों ने वाशिंगटन के इस ब्लैकलिस्टिंग वाले क़दम का खुलकर विरोध किया।

शुक्रवार को एशिया सोसायटी को संबोधित करते हुए चीन के राज्य कॉउंसिलर वांग यी ने अमेरिकी प्रतिबंधों की लिस्ट को नोट किया और वाशिंगटन से चीनी कंपनियों पर मनमाने दमन को रोकने का आह्वान किया।

बीजिंग अधिकारों की रक्षा करेगा

चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा कि अगर यह सच है, तो ब्लैकलिस्टिंग करना चीनी कंपनियों के अमेरिकी उत्पीड़न का सबूत होगा। बीजिंग अपने अधिकारों की रक्षा के लिए सभी आवश्यक उपाय करना जारी रखेगा। मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने शुक्रवार को बीजिंग में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हम अमेरिका से अपील करते हैं कि वह विदेशी कंपनियों का अनुचित उत्पीड़न करने वाला गलत व्यवहार बंद करे।

70 कंपनियों की लिस्ट जारी

कॉमर्स डिपार्टमेंट ने ब्लैकलिस्ट 70 कंपनियों और सहयोगी कंपनियों की लिस्ट जारी की, जिसमें 60 चीनी कंपनियां शामिल हैं। एजेंसी ने कहा कि कॉमर्स डिपार्टमेंट ने चीन की उन कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया है जो कथित तौर पर मानव अधिकारों के हनन और साउथ चाइना सी में कृत्रिम द्वीपों के सैन्यीकरण में लिप्त हैं। इनमें वे कंपनियां भी शामिल हैं जिन्होंने अमेरिकी ट्रेड सीक्रेट को चुरा कर चाइना का मिलिट्री बेस स्थापित करने में मदद की।

इससे पहले भी कंपनियों पर बैन

इससे पहले जिन कंपनियों को प्रतिबंधित किया जा चुका है उसमें इक्विपमेंट की निर्माता हुआवे टेक्नोलॉजी, जेडटीई कॉर्प, हिकविजन के साथ 150 दूसरी संबंधित कंपनियां हैं। इनमें से कुछ एक कंपनियों पर चाइना के उइघुर मुसलमानों के मानवाधिकार का उल्लंघन करने का आरोप है। सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प का शेयर शुक्रवार को हांगकांग में 5.2% गिर गया। सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प पहले से ही वाशिंगटन के नजरों में चढ़ा हुआ था।

सितंबर में कॉमर्स डिपार्टमेंट ने सप्लायर्स के लिए निर्यात लाइसेंस के नियमों को सख्त बना दिया गया था।

पिछले महीने बनी थी लिस्ट

पिछले महीने डिफेंस डिपार्टमेंट ने एक अलग से ब्लैक लिस्ट बनाई जिसमें उन चीनी मिलिट्री कंपनियों को जोड़ा गया जो अगले साल से अमेरिकी निवेशकों को शेयर खरीदने से प्रतिबंधित कर रही थी। सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प ने कई बार कहा है कि उसका चीनी सेना से कोई संबंध नहीं है। सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग इंटरनेशनल कॉर्प सबसे बड़ा चीनी चिप निर्माता है, लेकिन ताइवान से पीछे है। इसमें कंप्यूटर चिप्स के निर्माण के लिए फाउंड्री बनाने की मांग की है जो टीएसएमसी के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकती हैं।

अमेरिका और चीन के रिश्ते में तनाव

वाशिंगटन और बीजिंग के बीच संबंध पिछले एक साल में काफी बिगड़ गए हैं क्योंकि दुनिया की शीर्ष दो अर्थव्यवस्थाओं कोरोना वायरस महामारी के प्रसार साउथ चाइना सी में मिलिट्री बेस का निर्माण और हांगकांग में मानवाधिकार के उल्लंघन को लेकर आपस में जंग छिड़ा हुआ है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NETWORK PVT LTD 2020. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.