RELATIONSHIP: ... इस कारण मर्द करते हैं एक-साथ दो औरतों से प्यार

Image not avalible

RELATIONSHIP: ... इस कारण मर्द करते हैं एक-साथ दो औरतों से प्यार

VOMP डेस्‍क :-

प्यार का रिश्ता सभी रिश्तों में सबसे अहम होता है लेकिन तब क्या जब यह दिल एक नहीं दो लोगो के लिए धड़कने लगे। आप सोच रहे होंगे क्या यह हकीकत है जी हां यह सो फीसदी सत्य है। यह बिलकुल मुमकिन है कि एक रिश्ते में होते हुए भी आपको किसी दूसरे इंसान से बेहद प्यार हो जाएं।

दिल पर किसी का बस नहीं होता। यह बहुत चंचल होता है लेकिन कभी-कभी यह चंचलता हमें ऐसी मुसीबत में डाल देती है जिसे हम जानकर भी अनदेखा कर देते है। Relationship Triangle एक बहुत ही पेचीदा मामला है आइये कोशिश करते है इस रिश्ते को जानने और समझने की-
 
1. किसी भी महिला या पुरुष के मन में एक ही समय में किसी ओर के लिए प्रेमाभाव हो सकता है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी ज़िंदगी कैसी चल रही है।
 
2. त्रिकोणीय प्रेम का एक कारण यह भी होता है जब आपका आपके रिश्ते पर से भरोसा उठ जाता है और आप एक नए रिश्ते में बंधने की कोशिश करते है। जब ऐसे मुश्कित हालात सामने होते है तो यह समझ पाना मुश्किल हो जाता है की यह प्यार हे या महज आकर्षण।
 
3. कई बार यह भी होता है कि हम किसी से बहुत ज्यादा प्रभावित हो जाते है और हमारे मन में उसके प्रति प्रेम का भाव उत्पन्न हो जाता है।


4. कभी कभी दो लोगों का एक समान व्यक्तित्व भी बेहद प्रेम की वजह बन जाता है।
 
5. कुछ लोगों ने अपनी आप बीती में यह भी कहा है कि अगर आप किसी से प्यार करते है लेकिन इस दौरान अगर कोई ऐसा व्यक्ति टकराता है जो आपके प्रेमी से ज्यादा खूबसूरत और आकर्षक हो ऐसी परिस्थिति में भी त्रिकोणीय प्रेम की संभावनाएं बढ़ जाती है।
 
6. चिकित्सकों और साइकायट्रिस्ट के अनुसार रिश्तों में गलतफहमी या रिश्तों में टकराव भी त्रिकोणीय प्रेम को बढ़ावा देता है। लेकिन उनका यह भी कहना है कि यह सिर्फ और सिर्फ एक आकर्षण हे और कुछ नहीं।
 
7. अपने घर परिवार से दूर रह रहे लोगों में अक्सर एक तरह के रिश्ते बन जाते है| इसकी मुख्य वजह भात्मक सहयोग की जरुरत होती है।

 समाज शास्त्रियों और शिक्षा शास्त्रियों के अनुसार प्यार एक भावात्मक रिश्ता होता है कोई कैसे अपने भावात्मक रिश्तो के साथ खिलवाड़ कर सकता है। उनके अनुसार यह बिलकुल गलत है और ऐसे ही रिश्तों की वजह से आज हमारे देश में लिव इन रिलेशन बढ़ते जा रहे हैं। सामाजिक और सदियों से चली आ रही हमारी परम्पराओं के अनुसार भी यह गलत है क्योंकि एक रिश्ते के होते हुए दूसरा रिश्ता बनाना हमारी सीमाओ के बहार है। भारत में इस तरह की परंपरा कभी नहीं रही लेकिन यह हो रहा है इसे झुठलाया नहीं जा सकता है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.