GROND ZERO : पढ़िए सीएम मेहबूबा मुफती का गाँव का इलाका बना आतंकियों का गढ़, और क्या है कश्मीर की सबसे खूबसूरत चीज़, कश्मीर से लौटकर अब्दुल हुसैन बुरहानी की रिपोर्ट

Image not avalible

GROND ZERO : पढ़िए सीएम मेहबूबा मुफती का गाँव का इलाका बना आतंकियों का गढ़, और क्या है कश्मीर की सबसे खूबसूरत चीज़, कश्मीर से लौटकर अब्दुल हुसैन बुरहानी की रिपोर्ट

नीमच :-

कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हर भारतीय की ख्वाहिश होती है की एक बार ज़मीन की जन्नत कश्मीर को ज़रूर देखे बीते दिनों वॉइस ऑफ़ एमपी के जांबाज़  रिपोर्टर अब्दुल हुसैन बुरहानी  आठ दिन की कश्मीर यात्रा पर गए थे वहा उन्होंने जम्मू कश्मीर में घूमते हुए वहा के हालातो का जायजा लिया ग्राउंड ज़ीरो से यह ख़ास रिपोर्ट आपके लिए कश्मीर क्या बोला PART 2

जम्मू कश्मीर की आठ दिवसीय यात्रा के दौरान जब इस प्रदेश को पूरी तरह से जानने का मौका मिला तब मैंने इस बात पर गौर किया कि आख़िर इतने खूबसूरत इलाके को जिसे धरती का स्वर्ग कहा गया है वहां आखिरकार आतंकवाद एवं दहशतगर्दों की घुसपैठ कहां से है? जब वहां पूरी बारीकी से जाकर पड़ताल की तो देखा की जम्मू-कश्मीर प्रदेश के अनंतनाग एवं बिजबिहाड़ा दोनों ऐसे संवेदनशील इलाके हैं जहाँ से इस प्रदेश मे आतंकवाद पनपता है।यह दोनों शहर  जम्मू से श्रीनगर जाते समय रास्ते में पढ़ते हैं।

बिजबिहाड़ा मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती का गाँव है
बिजबीहाड़ा जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती का गांव है जो अत्यंत संवेदनशील है।ये हमेशा आतंकियों के निशाने पर रहता है। अनंतनाग यहां का वह इलाका है जो आतंकवादियों का गढ़ एवं उनकी पनाहगाह माना जाता है।कश्मीर में जो 10%कश्मीरी मुस्लिम पड़ोसी देश पाकिस्तान एवं दहशतगर्दों द्वारा बहकाकर देशद्रोही बना दिए गए हैं वह इसी इलाके में निवास करते हैं।यही से वे भारतीय सेना के जवानों एवं अन्य आने जाने वाले आम लोगों की बसों एवं फोर व्हीलर गाड़ियों आदि पर उपद्रव के समय  पत्थरबाजी की घटनाओं को अंजाम देते हैं।इसीलिए यह जम्मू कश्मीर का सबसे खतरनाक इलाका माना जाता है। उपद्रव एवं आतंकवाद को पनाह यही मिलती है।सेना द्वारा आतंकीयों के खिलाफ कार्यवाही करने पर यहां के चंद भटके हुए नौजवान भारतीय सेना पर पत्थरबाजी एवं पत्थरों से हमला करते हैं।एक तरह से यहां का मुख्य हथियार पत्थर ही है।

जम्मू कश्मीर देश का पहला प्रदेश है
शायद जम्मू कश्मीर देश का एकमात्र ऐसा प्रदेश है जहां की राजधानी साल में दो बार बदलती है।यहां वर्ष में महीने प्रदेश की राजधानी जम्मू एवं एवं 6 महीने कश्मीर रहती है। इसका मुख्य कारण है कि साल में 6 माह श्रीनगर में बर्फएवं कड़ाके की ठंडी पड़ती है तब यहां से जम्मू तक के सारे मार्ग बर्फबारी के कारण अधिकतर समय अवरुद्ध रहते हैं जिससे यहां राजकीय एवं प्रशासनिक कार्यों में काफी दिक्कत आती है।इसी के चलते यहां उन 6 महीनों में राजधानी जम्मू रहती है एवं  बाकी के 6 महिनो में जब मौसम सामान्य रहता है तब राजधानी श्रीनगर रहती है।जिससे यहां के प्रशासनिक कार्य वर्षभर अवरुद्ध हुए बिना सुचारु रुप से चलते हैं।

देश की सबसे खूबसूरत एवं सबसे बड़ी चेनानी नाशरी टनल यहीं है
देश की सबसे बड़ी 9 किलोमीटर लंबी गुफा जिसे टनल कहा जाता है वह यहीं पर है।यहां से इस नवीन टनल द्वारा  जम्मू से श्रीनगर तक का सफर  काफी आसान हो चला है। यहां के ड्राइवर एवं जानकार लोग बताते हैं कि इस नई टनल के बनने से जम्मू से श्रीनगर के रास्ते में 4 घंटे की बचत हो जाती है।जहां पहले जम्मू से श्रीनगर के लगभग 12 घंटे  सफर में में लगते थे वहां अब लगभग 8 घंटे लगते हैं।इस टनल ने सफर काफी आसान कर दिया है।

इस टनल की सबसे बड़ी खूबी की बात यह है कि इस टनल में लाइटें भरपूर है जिससे यहां 24 घंटे भरपूर उजाला रहता है।एवं आने एवं एवं जाने के लिए फोर लेन मार्ग होने से आवागमन काफी सुलभ रहता है।इसके अतिरिक्त इस टनल में मोबाइल टावर.आग लगने के वक्त बचाव हेतु सारे उपकरण. आपातकालीन व्यवस्था के लिए आपात निकास द्वार एवं इस तरह की सभी लेटेस्ट टेक्नोलॉजी मौजूद है जो किसी भी दुर्घटना के समय तत्काल सहायता प्रदान करती है।इसके अतिरिक्त यहां पूरे मार्ग पर बड़े-बड़े सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं जिससे कि कंट्रोल रूम द्वारा टनल में आने जाने वाली सभी गाड़ियों की पूरी तरह से निगरानी रखी जाती है।टनल में घुसते समय एवं निकलते वक्त इन गाड़ियों की बाकायदा  चेकिंग की जाती है।

पूर्व में सबसे बड़ी थी जवाहर टनल
इससे पहले यहां की सबसे बड़ी टनल जवाहर टनल मानी जाती थी जो कि 3 किलोमीटर लंबी थी मगर इस 9 किलोमीटर लंबी नवीन टनल ने जम्मू से कश्मीर के इस सँकरे मार्ग में फोरलेन सुविधा उपलब्ध कराकर घंटे का सफर मिनटों में पूरा करने की महत्वपूर्ण सौगात दी।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.