खबरे NEWS: राजकुमार अहीर की आंधी में ना फूल टीकेगा और ना ही ट्रैक्टर, जावद की जनता राजकुमार अहीर पर लूटा रही अपना प्यार एक तरफा लहर चल पड़ी है राजकुमार अहीर के नाम की, पढें खबर NEWS: सकल ब्राह्मण समाज कल्याण समिति नीमच ग्रामीण इकाई का गठन, मोहन नागदा अध्यक्ष ,पुष्कर नागदा कोषाध्यक्ष दीपक शर्मा सचिव मनोनीत, पढें खबर VIDEO: माफ करो महाराज हमारा नेता तो शिवराज पर ये क्‍या बोल गये जावद विधानसभा के भाजपा प्रत्‍याशी सकलेचा, देखे ग्राउण्‍ड जीरो से श्‍याम गुर्जर के साथ ये विडियों खबर POLITICS: कांग्रेस प्रत्याशी आंजना ने किया क्षैत्र में जनसंपर्क अभियान का श्री गणेश, क्षैत्रावासियों का मिल रहा भरपूर स्नेह और समर्थन, पढें खबर APRADH: विधानसभा चुनाव, ऑपरेशन शिकंजा के तहत नीमच पुलिस द्वारा 50 फरार वारंटियों को किया गिरफ्तार, पढें खबर NEWS: विधानसभा चुनाव, स्टेशन रोड़ एवं कमल चैक पर जादू के माध्यम से करीब 500 मतदाताओं को मतदान हेतु किया प्रेरित, पढें खबर SHOK KHABAR: नही रहे शेषमल रघुनाथ जी महात्‍मा, जैन परिवार मे शोक की लहर, पढें खबर NEWS: चुनाव के बीच आईटी सेल मजबूत करने में जुटी बीजेपी, गुजरात से बुलाए गए एक्सपर्ट, पढें खबर MORNING BULLETIN : सिर्फ एक क्लिक में पढ़ें, अभी तक की पिपलिया की बड़ी खबरें BUSINESS: यहा क्लिक करेगें तो जानेगें नीमच सर्राफा भाव COMMODITY MARKET: कमोडिटी बाजार में आज कहां लगाएं दांव GADGETS: दिवाली के बाद शाओमी ने की बड़ी घोषणा, अपने इन स्‍मार्टफोन की कीमतों में की बड़ी कटौती AUTOMOBILE: CNG में सिर्फ दो वेरिएंट में आएगी Hyundai सेंट्रो, ये होंगे फीचर्स

NEWS: अब आधार से लिंक होगा क्राइम रिकॉर्ड, कोर्ट में आधार अनिवार्य

Image not avalible

NEWS: अब आधार से लिंक होगा क्राइम रिकॉर्ड, कोर्ट में आधार अनिवार्य

भोपाल :-

यदि आप अदालत में कोई नया मामला पेश करने जा रहें है तो अपना आधार कार्ड रखना न भूले। अब अदालत में लगने वाले हर मामले में आधार नंबर अनिवार्य कर दिया गया है। मामला आपराधिक हो या सिविल, या फिर चैक बाउंस का, आपको अपना और जिसके विरुद्ध मामला पेश किया जा रहा है उसका आधार नंबर और मोबाइल नंबर देना अनिवार्य कर दिया गया है। इसके लिए राजधानी की जिला अदालत में दो सेंट्रल फाइलिंग काउंटर बनाए गए हैं। इसमें 20 से ज्यादा न्यायिक कर्मचारियों को ट्रेनिंग देकर सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के लिए तैयार किया गया है। अदालत के मुख्य प्रवेश द्वार के दोनों तरफ दो हॉल में सेंट्रल फाइलिंग काउंटर बनाए गए हैं।

क्यों लागू किया जा रहा है सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम

धीरेे-धीरे इस सिस्टम के जरिए अदालत में पेश होने वाले हर मामला की जानकारी के साथ ही पक्षकारों के आधार नंबर के आधार पर उनसे संबंधित सभी जानकारी एक जगह इकट्ठा हो जाएगी। जिन लोगों के खिलाफ हत्या, लूट, डकैती, चोरी, धोखाधड़ी, मारपीट, शिकार, मोटर दुर्घटना से संबंधित मामले, चैक बाउंस के मामले, दहेज प्रताड़ना और दहेज हत्या जैसे अन्य गंभीर अपराधों से संबंधित लोगों की जानकारी उनके आधार नंबर से आसानी से पता लग जाएगी। किस व्यक्ति के खिलाफ कुल कितने अपराध लंबित हैं और कितने अपराधों में वह फरार चल रहा है, इसकी पूरी जानकारी सिस्टम पर मौजूद रहेगी। इससे अपराध करने वाले व्यक्ति पर अदालतें लगाम लगा सकेगी।

शुरुआत में आ रहीं दिक्कतें

सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के लागू करने से शुरूआत में दिक्कतें आ रहीं है। आम तौर पर सीधे अदालत में पेश होने वाले मामले अब सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के जरिए ही दर्ज किए जा रहें हैं। इससे वकीलों और पक्षकारों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि यह सिस्टम एक दम नया है इसलिए इसे व्यवहार में लाने में थोड़ा वक्त लगना लाजिमी है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.