खबरे VIDEO: नीमच में तेजी से गिर रहा है जलसंकट, सूखने लगे हैंडपंप-तालाब, दूरदराज से पानी लाना पड़़ रहा है पा, देखे विडियों न्‍यूज BIG NEWS: जयपुर ASP जांगिड बनें चित्‍तौडगढ ASP, शर्मा APO उदयपुर, पढें खबर NEWS: सचिव ने किया आदर्श आचार संहिता का उलंघन, CEO जिला पंचायत ने किया तत्काल प्रभाव से निलंबित, पढें हुसैन बोहरा की खबर ANALYSIS: अब दिग्विजय खेल पाएंगे साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ ''सॉफ्ट हिंदुत्व'' का कार्ड, पढें खबर BIG NEWS: अगर आप भी पहनतें है सोनें-चांदी के जेवर, तो हो जाए सावधान, पढें और जानें OMG: बदलने जा रहा है 1 जुलाई से रेलवे का टाइम टेबल, इन ट्रेन पर होगा असर, पढें खबर NEWS: नपा की अमृत योजना, किया उद्यान बनानें का निर्माणकार्य शुरू, फिर बीच में आया निजी जमीन का विवाद, पढें खबर BIG NEWS: दो वार्ड, दो पार्षद, और एक गली, एक बारिश और रोड की खस्‍ताहाल, पसरा कीचड, रहवासियों को परेशानी, दी आंदोलन की चेतावनी, पढें खबर NEWS: आकांक्षा वेलफेयर फाउंडेशन, महावीर जयंति के चलते पक्षीयों के पानी पीनें के लिए लगाए सकोरे, पढें खबर BIG NEWS: शादी समारोह में आए मेहमानों को किया मतदान के लिए जागरूक, बनाया सेल्फी जोन, पढें खबर BIG NEWS: MP, कारोबारी की कार में मिले 40 से 45 लाख रुपए और 1 किलो सोना, पुलिस ने किया जब्‍त, पढें खबर NEWS: नौकरी में जिस तरह कर्मचारियों की उम्र तय, उसी तरह राजनीति में नेताओं की उम्र और मापदंड तय हो, पढें खबर NEWS: मंदसौर की सुगंधदेवी की आवाज ने सोनू निगम, शंकर महादेवन से लेकर दिलेर मेहंदी तक का जीता दिल, पढें खबर NEWS: बिजली मेंटेनेंस के दावो की खुली पोल, गांव में तीसरे दिन भी लाइनों में आए फाल्ट को नहीं ढूंढ पाया विभाग, पढें कैलाश शर्मा की खबर

NEWS: अब आधार से लिंक होगा क्राइम रिकॉर्ड, कोर्ट में आधार अनिवार्य

Image not avalible

NEWS: अब आधार से लिंक होगा क्राइम रिकॉर्ड, कोर्ट में आधार अनिवार्य

भोपाल :-

यदि आप अदालत में कोई नया मामला पेश करने जा रहें है तो अपना आधार कार्ड रखना न भूले। अब अदालत में लगने वाले हर मामले में आधार नंबर अनिवार्य कर दिया गया है। मामला आपराधिक हो या सिविल, या फिर चैक बाउंस का, आपको अपना और जिसके विरुद्ध मामला पेश किया जा रहा है उसका आधार नंबर और मोबाइल नंबर देना अनिवार्य कर दिया गया है। इसके लिए राजधानी की जिला अदालत में दो सेंट्रल फाइलिंग काउंटर बनाए गए हैं। इसमें 20 से ज्यादा न्यायिक कर्मचारियों को ट्रेनिंग देकर सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के लिए तैयार किया गया है। अदालत के मुख्य प्रवेश द्वार के दोनों तरफ दो हॉल में सेंट्रल फाइलिंग काउंटर बनाए गए हैं।

क्यों लागू किया जा रहा है सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम

धीरेे-धीरे इस सिस्टम के जरिए अदालत में पेश होने वाले हर मामला की जानकारी के साथ ही पक्षकारों के आधार नंबर के आधार पर उनसे संबंधित सभी जानकारी एक जगह इकट्ठा हो जाएगी। जिन लोगों के खिलाफ हत्या, लूट, डकैती, चोरी, धोखाधड़ी, मारपीट, शिकार, मोटर दुर्घटना से संबंधित मामले, चैक बाउंस के मामले, दहेज प्रताड़ना और दहेज हत्या जैसे अन्य गंभीर अपराधों से संबंधित लोगों की जानकारी उनके आधार नंबर से आसानी से पता लग जाएगी। किस व्यक्ति के खिलाफ कुल कितने अपराध लंबित हैं और कितने अपराधों में वह फरार चल रहा है, इसकी पूरी जानकारी सिस्टम पर मौजूद रहेगी। इससे अपराध करने वाले व्यक्ति पर अदालतें लगाम लगा सकेगी।

शुरुआत में आ रहीं दिक्कतें

सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के लागू करने से शुरूआत में दिक्कतें आ रहीं है। आम तौर पर सीधे अदालत में पेश होने वाले मामले अब सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के जरिए ही दर्ज किए जा रहें हैं। इससे वकीलों और पक्षकारों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि यह सिस्टम एक दम नया है इसलिए इसे व्यवहार में लाने में थोड़ा वक्त लगना लाजिमी है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.