खबरे COMMODITY MARKET: लंबा रखें नजरिया, शेयर में बनेगा ढेर सारा पैसा BUSINESS: यहा क्लिक करेगें तो जानेगें नीमच सर्राफा भाव AUTOMOBILE: MG Hector SUV कल होगी लॉन्च, जानें डीटेल GADGETS: Whatsapp पर आएगा नया फीचर, स्टेटस अपडेट नहीं करेंगे परेशान RELASHANSHIP: पत्नी या गर्लफ्रेंड को खुश रखने का ये है 'साइंटिफिक' तरीका HEALTH: लिवर को हेल्दी बनाए रखना है तो ये चीजें खाएं TODAY HISTORY: 27 जून का इतिहास, जानें इस दिन की अहम घटनाओं को TOTKE: विवाह का हर संकट दूर करेंगे गुरुवार के असरदार टोटके, जल्द होगी कुंवारों की शादी JYOTISH: 27 मई का राशिफल, मकर राशि के कारोबारियों को होगा बंपर धन लाभ NEWS DIGEST: 27 जून को शहर में होने वाले राजनीति आयोजन एक क्लिक पर जाने BIG REPORT: प्रदेश के तेज तर्राट आईएस अफसर संजय शुक्‍ल होंगे नीमच के प्रभारी सचिव, राज्‍य शासन ने जारी किए आदेश, पढें अभिषेक शर्मा की खास रिपोर्ट OMG ! चूरू में दलित युवक से दरिंदगी, बेरहमी से पीटकर खींच ली जुबान, पढें खबर WOW: राजस्थान का कालू है देश का नंबर 1 पुलिस स्टेशन, ये हैं टॉप 10, पढें खबर

NEWS: अब आधार से लिंक होगा क्राइम रिकॉर्ड, कोर्ट में आधार अनिवार्य

Image not avalible

NEWS: अब आधार से लिंक होगा क्राइम रिकॉर्ड, कोर्ट में आधार अनिवार्य

भोपाल :-

यदि आप अदालत में कोई नया मामला पेश करने जा रहें है तो अपना आधार कार्ड रखना न भूले। अब अदालत में लगने वाले हर मामले में आधार नंबर अनिवार्य कर दिया गया है। मामला आपराधिक हो या सिविल, या फिर चैक बाउंस का, आपको अपना और जिसके विरुद्ध मामला पेश किया जा रहा है उसका आधार नंबर और मोबाइल नंबर देना अनिवार्य कर दिया गया है। इसके लिए राजधानी की जिला अदालत में दो सेंट्रल फाइलिंग काउंटर बनाए गए हैं। इसमें 20 से ज्यादा न्यायिक कर्मचारियों को ट्रेनिंग देकर सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के लिए तैयार किया गया है। अदालत के मुख्य प्रवेश द्वार के दोनों तरफ दो हॉल में सेंट्रल फाइलिंग काउंटर बनाए गए हैं।

क्यों लागू किया जा रहा है सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम

धीरेे-धीरे इस सिस्टम के जरिए अदालत में पेश होने वाले हर मामला की जानकारी के साथ ही पक्षकारों के आधार नंबर के आधार पर उनसे संबंधित सभी जानकारी एक जगह इकट्ठा हो जाएगी। जिन लोगों के खिलाफ हत्या, लूट, डकैती, चोरी, धोखाधड़ी, मारपीट, शिकार, मोटर दुर्घटना से संबंधित मामले, चैक बाउंस के मामले, दहेज प्रताड़ना और दहेज हत्या जैसे अन्य गंभीर अपराधों से संबंधित लोगों की जानकारी उनके आधार नंबर से आसानी से पता लग जाएगी। किस व्यक्ति के खिलाफ कुल कितने अपराध लंबित हैं और कितने अपराधों में वह फरार चल रहा है, इसकी पूरी जानकारी सिस्टम पर मौजूद रहेगी। इससे अपराध करने वाले व्यक्ति पर अदालतें लगाम लगा सकेगी।

शुरुआत में आ रहीं दिक्कतें

सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के लागू करने से शुरूआत में दिक्कतें आ रहीं है। आम तौर पर सीधे अदालत में पेश होने वाले मामले अब सेंट्रल फाइलिंग सिस्टम के जरिए ही दर्ज किए जा रहें हैं। इससे वकीलों और पक्षकारों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि यह सिस्टम एक दम नया है इसलिए इसे व्यवहार में लाने में थोड़ा वक्त लगना लाजिमी है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.