NEWS: सरकार अब ला रही है 100 रुपये का सिक्‍का, जानिए खास बातें

Image not avalible

NEWS: सरकार अब ला रही है 100 रुपये का सिक्‍का, जानिए खास बातें

नीमच :-

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और दक्षिण भारत के सुपरस्टार रहे डा. एमजी रामचंद्रन की जन्‍म शताब्‍दी के दिन सरकार 100 और 5 रुपये का एक नया सिक्‍का जारी करेगी. यह घोषणा वित्‍त मंत्रालय ने 11 सितंबर को जारी एक अधिसूचना में दी है.

 Follow

ANI ✔@ANI

Finance Ministry issued notification about introduction of Rs 100 coin & Rs 5 coin to commemorate birth centenary of Dr MG Ramachandaran

8:31 PM - Sep 12, 2017

Twitter Ads info and privacy
100 रुपए के सिक्के की खास बातें 
सिक्के पर एमजी रामचंद्रन की आकृति होगी और इसके नीचे 'DR M G Ramachandran Birth Centenary' लिखा होगा. 100 रुपए के नए सिक्‍के के अगले भाग के बीच में अशोक स्‍तंभ पर शेर का मुख होगा और इसके नीचे देवनागिरी लिपी में ‘सत्‍यमेव जयते’ लिखा होगा. इसके ऊपर रुपये का निशान और 100 रुपये का मूल्‍य भी छपा होगा.

100 रुपये का सिक्का चांदी (50 फीसदी), कॉपर (40 फीसदी), निकल और जिंक (5-5 फीसदी) से मिलकर बना होगा. इस सिक्के का वजन 35 ग्राम होगा.

View image on Twitter

View image on Twitter

 Follow

CNBC-TV18 ✔@CNBCTV18Live

@FinMinIndia Says Modifications To Coinage Act For Introduction Of New Rs 100 Coin

6:39 PM - Sep 12, 2017

Twitter Ads info and privacy

5 रुपये के सिक्के की खास बातें
5 रुपये के सिक्के का वजन 6 ग्राम होगा. 5 रुपये के सिक्के में कॉपर (75 फीसदी), जिंक (20 फीसदी) और निकेल (5 फीसदी) का मिश्रण होगा अभी 1, 2, 5 और 10 रुपये के सिक्के चलन में हैं. इस सिक्‍के के एक भाग पर अशोक स्तंभ बना होगा, जिसके नीचे सत्यमेव जयते लिखा होगा.

इस सिक्‍के पर अशोक स्तंभ के साथ एक तरफ भारत और INDIA भी लिखा होगा. साथ ही इसके नीचे अंकों में 5 लिखा होगा. सिक्के के पिछले भाग पर डा. एमजी रामचंद्रन की फोटो बनी होगी और इस फोटो के नीचे 1917-2017 लिखा होगा. 5 रुपये का नया सिक्का 23 मिलीमीटर का होगा.

कौन है एमजी रामचंद्रन?
एमजी रामचंद्रन 1977 से 1987 तक तमिलनाडु के तीन बार मुख्यमंत्री रहे. अपना राजनीतिक करियर शुरू करने से पहले वह दक्षिण भारतीय फिल्मों के बड़े अभिनेता और फिल्म निर्माता थे. 17 जनवरी 1917 को श्रीलंका के कैंडी में जन्मे रामचंद्रन ने ही 1972 में एआईडीएमके की स्थापना की. वर्ष 1988 में उन्हें मरणोपरांत देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया. रामचंद्रन ही पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता को भी राजनीति में लेकर आए थे.


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.