KHABAR: शादियों के सीजन में बिगड़ रहा आम आदमी का बजट, जीएसटी लागू होने से बढ़े सभी वस्तुओं के दाम ?, पढें अब्दुल हुसैन बुरहानी की खास खबर

Image not avalible

KHABAR: शादियों के सीजन में बिगड़ रहा आम आदमी का बजट, जीएसटी लागू होने से बढ़े सभी वस्तुओं के दाम ?, पढें अब्दुल हुसैन बुरहानी की खास खबर

डेस्‍क :-

देवउठनी ग्यारस निकलने के पश्चात अब शुरू हो रहे शादी के सीजन के लिए लोगों ने अभी से बुकिंग करना शुरू कर दिया है, लेकिन जीएसटी (गुड्स सर्विस टैक्स) लागू होने के पश्चात अब शादियों का बजट बढ़ता जा रहा है,  जिन घरों में शादी है, उनके लिए सबसे बड़ी मुश्किल गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स यानी जीएसटी बन गया है ।

सभी ने बढ़ाये रेट्स
बैंड वाले, मैरिज गार्डन, टेंट हाउस, ज्वेलर्स, कपड़े, हलवाई, लाइट डेकोरेशन, शादी के कार्ड की छपाई, फोटो एवं वीडियो ग्राफी आदि सभी ने जीएसटी के चलते अपने रेट बढ़ा दिए हैं । इन सभी पर 12 से 18 प्रतिशत पर जीएसटी का प्रावधान है, इसीलिए यह सभी तय रेट पर अलग से जीएसटी लगाकर सारा भार शादी करने वाले पर डाल रहे हैं, तो जाहिर है इसकी मार शादी वाले घर को काफी जबरदस्त रूप से पड़ रही है, इससे उनका सारा बजट गड़बड़ा रहा है इस बात में कोई अतिशयोक्ति नहीं है ।

शादी से संबंधित जरूरी वस्तुएं एवं उन पर लगने वाले जीएसटी की दर
  1 टेन्ट                 18%
  2 लाइट्स            18%
  3 मैरिज गार्डन     18%
  4 डेकोरेशन।        18%
  5 शादी के कार्ड्स  18%
  6 वीडियोग्राफी।    18%
  7 फोटोग्राफी         18%
  8   बैंड                 18
  9  जूते                 18%
  10 बग्घी               18%
   
लगभग इतना बजट बढ़ जाएगा शादी का
इन सभी वस्तुओं पर लगने वाले जीएसटी की रोशनी में देखा जाए तो यह पता चलता है कि शादी का बजट दस लाख रुपए पर लगभग डेढ़ लाख रुपया बढ़ जाएगा। याने के पहले जो शादी दस लाख रुपए में होती थी, अब उसके लिए साढ़े ग्यारह लाख रुपए खर्च करना होंगे, जो कि आम मध्यम वर्गीय व्यक्ति एवं उसके परिवार के लिए काफी ज्यादा कहलाएगा

यह निकलता है निष्कर्ष
यह बात तो तय है कि जीएसटी लगने के पश्चात लोगों को शादी का खर्च काफी अधिक हो जाएगा एवं उनको पहले से काफी ज्यादा दाम चुकाने होंगे अतः देखने में जा रहा है कि लोग अब सुविधाओं में कटौती कर रहे हैं अर्थ जो जरूरी चीज है वही खरीद रहे हैं एवं बाकी की चीजों में कटौती कर रहे हैं जिसका असर निश्चित रुप से बाजार पर पड़ रहा है एवं बाजार में शादियों के सीजन में होने वाले विक्रय में पहले से कमी आई है ।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.