खबरे BIG REPORT: अस्पताल की चौथी मंजिल से कूदा युवक, इलाज के दौरान तोड़ा दम, पढें खबर NEWS: समाजसेवी जणवा ने की कंबले वितरित, गरीबों व असहाय की सेवा ही सबसे बड़ा पुण्य, जणवा, पढें कैलाशचंद शर्मा की खबर OMG ! अंतिम संस्‍कार में गए थे परिजन और समाजजन, शमशान में हुई यें घटना, जान बचाकर भागे एक के बाद एक, पढें खबर OMG ! मां-बेटी का गला घोंट उतारा मौत के घाट, फिर जंगल में पेट्रोल डालकर जलाया, सजी-संवरी थी महिला, पढें खबर TOP NEWS: मिलावटखोर सावधान, शुद्ध के लिए युद्ध में सड़क पर उतरे मंत्री और हज़ारों योद्धा, पढें खबर BIG REPORT: सिंहस्थ घोटाला में सांसद डामोर के बाद अब अगला नंबर किसका, दर्ज होंगी 100 FIR, पढें खबर BIG BREAKING: बघाना में अज्ञात कारणों के चलतें युवतीं ने फांसी लगाकर की आत्‍महत्‍या, पुलिस मौके पर, पढें महेंद्र अहीर की खबर SHOK KHABAR: नहीं रहीं तारादेवी गोयल, परिवार में शोक की लहर, शवयात्रा आज शाम 4 बजें, पढें खबर BIG NEWS: केन्द्र की भाजपा सरकार के विरूद्ध भारत बचाओं रैली का आयोजन, नीमच जिले के कांग्रेस जनों ने दिल्ली में निभाई सहभागिता, पढें खबर NEWS: जावद नगर बनेगा खाटू धाम, बाबा श्‍याम पहुंचेंगे नगर में, आंलौकित श्रृंगार के साथ भव्‍य भजन संध्‍या का आयोजन, पढें संदीप बाफना की खबर OMG ! युवक कर रहें थे इस बेशकीमती लकडी की तस्‍करी, वन विभाग ने की कार्रवाही, पिकअप वाहन और लकडी जब्‍त, 3 आरोपियों को किया गिरफ्तार, पढें संतोष गुर्जर की खबर BIG NEWS: नेशनल लोक अदालत का आयोजन सम्‍पन्‍न, इन्‍हें मिली 5 साल पुरानें प्रकरण से मुक्ति, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर WOW: अस्‍पताल ले जातें समय महिला को रास्‍तें में हुई प्रसव पीडा, एंबुलेंस स्‍टॉफ ने कराया सुरक्षित प्रसव, जच्‍चा-बच्‍चा दोनों सुरक्षित, पढें खबर

NEWS: एमपी राजस्‍थान सीमांकन मामला, मशीन से हुआ सीमांकन, एमपी को हो सकता है बड़ा नुकसान, आकाश बाउंड्री खनन क्षेत्र भी जायेगा राजस्थान में, पढें मेहबूब मेव की खबर

Image not avalible

NEWS: एमपी राजस्‍थान सीमांकन मामला, मशीन से हुआ सीमांकन, एमपी को हो सकता है बड़ा नुकसान, आकाश बाउंड्री खनन क्षेत्र भी जायेगा राजस्थान में, पढें मेहबूब मेव की खबर

सिंगोली :-

आधुनिक उपकरण के सहारे बुधवार को प्रदेश सीमा पर हुए सीमांकन को अंतिम परिणाम मान लिया गया तो मध्य प्रदेश को भारी नुकसान हो सकता है। यह मानना है उन तमाम लोगो का जो बतौर व्यवसाय और जनप्रतिनिधि की हैसियत से इस क्षेत्र से जुड़े रहे है। 

टीएस 11 नामक भू सीमांकन करने वाली जिस मशीन से बुधवार को प्रदेश सीमा का सीमांकन हुआ उससे विवादित निर्माण तो प्रदेश सीमा में दर्शा दिया गया है लेकिन जो भू-भाग पहले मध्यप्रदेश में मान लिया गया था वह तो जा ही रहा है, नीमच जिले का आकाश बाउंड्री नामक खदान क्षेत्र भी राजस्थान में जाने वाला है। इससे तो यही लगता है कि बीते 8 नवंबर से प्रदेश सीमा छुड़ाने के लिए हो रही मशक्कत पर, पानी फिरता नजर आ रहा है।  मंगलवार को भू अभिलेख अधिकारीयों द्वारा प्रस्तुत रियासत कालीन 1936 के नक्शे के विरुद्ध आधुनिक मशीन से प्राप्त परिणाम वर्ष 2014 के सीमांकन के भी विरुद्ध जा रहा है ।

वर्ष 1914 में जरीब से हुए सीमांकन से करीब 700 मीटर पूर्व की ओर स्थित पुलिया के पास राज्य सीमा बिंदु तय हुआ था, लेकिन कुछ कर्मचारियों के आधुनिक मशीन से सीमांकन करने की सलाह प्रदेश को महंगी पड़ते दिख रही हैं । बुधवार को इस मशीन ने अपना परिणाम दे दिया, जिसमें सीमा बिंदु 9.6 माइलस्टोन से महज 112 मीटर पूर्व की ओर जबकि उत्तर की ओर भी विवादित स्थल के बाद ही सीमा बिंदु होना बताया गया है। मशीन से हुए सीमांकन को अंतिम परिणाम मान लिया गया तो प्रदेश की 600 मीटर भूमि के साथ साथ आकाश बाउंड्री नामक वह समूचा खदान क्षेत्र भी राजस्थान में चला जाएगा जिससे प्रदेश को बड़े राजस्व की प्राप्ति हो रही है । 

मंगलवार को जब रियासत कालीन दस्तावेज प्रस्तुत किये गए तब कुछ राजस्व कर्मचारियों ने पुराने दस्तावेजों की बजाय मशीन को अधिक तवज्जो देने से भू अभिलेख अधिकारियों को कुछ निराशा महसूस हुई थी । हालांकि बतौर ओपचारिकता दस्तावेज रख लिए गये थे, लेकिन बुधवार को मशीन की सहायता से ही सीमांकन किया गया। मशीन ने रियासत कालीन दस्तावेजों को तो नकारा ही है वर्ष 2014 के सीमांकन और मौके पर बने पंचनामे को भी नकार दिया है। राजस्थान की ओर से उस समय कोई दबाव नहीं था, जब उन्हें रियासत कालीन नक्शा बताया गया तो वह उसे मानने को भी तैयार थे। लोग मान रहे हैं कि सीमांकन के दौरान कुछ अनाधिकृत व्यक्ति भी आपस में बहस कर रियासत कालीन दस्तावेजों के विरुद्ध मशीन से सीमांकन करवाने में ज्यादा रूचि ले रहे थे। उस समय संदेह व्यक्त किया गया जा रहा है कि कहीं ना कहीं उनका निजी स्वार्थ हो सकता है लेकिन परिणाम सामने आने के बाद यह संदेह की पुष्टि होते लग रही है। क्योंकि इसमें प्रदेश के बड़े भूभाग के साथ साथ प्रदेश सीमा में स्थित आकाश बाउंड्री नामक उस खदान के जाने का भी खतरा बढ़ गया है जिस पर राजस्थान के अधिकांश लोगों की नजर है। कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि राजस्थान के कुछ लोगों ने प्रदेश की सीमा में अवैध कब्जे भी कर रखे हैं, संभवत उन्हें भी इसका सीधा सीधा लाभ मिल सकता है। 

हालांकि इस संबंध में भू अभिलेख अधिकारी की ओर से कहा गया है कि यह अंतिम परिणाम नहीं है यदि हमें ज्यादा नुकसान होता है तो पुराने दस्तावेज़ और जरीब से भी सीमांकन करवाया जा सकता है। इस मामले में सीमांकन प्रभारी नायब तहसीलदार शंकर सिंह चौहान ने बताया की पहले क्या हुआ उन्हें नहीं मालूम मशीन से हुआ सीमांकन स्थाई माना जाएगा और इसी के आधार पर सीमा बिंदु तय करेंगे। मशीन द्वारा हुए सीमांकन में उन्होंने 12 बिंदु के आधार पर सीमा का निर्धारण किया जाना बताया है। उन्होंने बताया कि सिंगोली तहसील के महाराजपुरा से प्राचीन बिंदु को ही आधार मानकर सीमांकन शुरू किया गया था। प्रदेश सीमा पर स्थित 9.6 माइलस्टोन तक उन्होंने मशीन के लिए नए सिरे से 12 बिंदु स्थापित कर प्रदेश सीमा का निर्धारण किया है । 

उधर ग्रामीण इस पद्धति के विरुद्ध है, वह इस पर संदेह व्यक्त कर रहे है।उनका मानना है कि इससे प्रदेश को भारी नुकसान होने वाला है। मध्य प्रदेश के बड़े भू भाग के साथ-साथ खदान क्षेत्र भी राजस्थान में चलाया जाएगा और प्रदेश के क्षेत्रीय लोगों के सामने रोजगार की समस्या पैदा हो जाएगी।

इनका कहना है -

टीएसएम से हुए सीमांकन पर ग्रामीण संदेह व्यक्त कर रहे हैं। यदि प्रदेश को इससे नुकसान होता है तो हम इसे संशोधित भी कर सकते। हैं यह अंतिम परिणाम नहीं है जरूरी हुआ तो जरीब से भी सीमांकन किया जा सकता है।
- बी एल खराड़ी, अधीक्षक भू अभिलेख शाखा नीमच

मुझे भी जानकारी मिली है कि मशीन से जो सीमांकन हुआ उससे प्रदेश का बड़ा भू भाग राजस्थान में जा रहा है । नये सीमांकन से राज्य सीमा बिंदु तय होता है तो मध्य प्रदेश की बेशकीमती भूमि जिसमे महत्वपूर्ण आकाश बाउंड्री खदान भी राजस्थान में चली जाएगी इससे मध्यप्रदेश को भारी नुकसान होने वाला है । नये सीमा बिंदुओं मे कही ना कही भारी चूक है जो प्रदेश हित मे नही है । विषय गंभीर है प्रदेश के मुखिया को अवगत करा कर मामले मे हस्तक्षेप की मांग करेंगे ।
दुलीचंद जैन, पूर्व विधायक जावद क्षेत्र

आकाश बाउंड्री मध्य प्रदेश स्वामित्व की है वह वर्षों से खदान लीजधारी रहे हैं। मशीन से सीमांकन से खदान क्षेत्र भी राजस्थान में चला जाएगा इससे प्रदेश के क्षेत्रीय लोगों की सबके सामने रोजगार की समस्या पैदा होगी। 
- रामचंद्र गुर्जर ग्रामीण माता खेड़ा, आकाश बाउंड्री खदान लीजधारी


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.