खबरे NEWS: टायर फैक्‍टरी में ब्‍लास्‍ट से लगी भीषण आग, 80 कर्मचारी फैक्‍टरी के अंदर, 4 गंभीर रूप से झुलसें, बाकीं लापता, सूचना के बाद भी फायर ब्रिगेड 20 मीनट देरी से, पढें खबर BIG NEWS: मंदसौर बधवार गोलीकाण्ड, आरोपी मनीष के पिता की ईलाज के दौरान मौत, पढें खबर OMG ! उडता पंजाब डीपी और पीयूएस है ऑनलाईन क्रिकेट सट्टा बाजार के सबसे बडे बुक्‍की, जांच एजेसिंयो के रडार पर, पढें श्‍याम गुर्जर की चौका देने वाली खबर VIDEO: मालवा के किसान आंदोलन के इलाके में कांग्रेस की हार का ये कारण सुन चौक जायेगें आप, बता रहे है वरिष्‍ठ पत्रकार मुस्‍तफा हुसैन सीधी बात चीत में POLITICS: पढिए ये क्‍या बोले मोदी की आयुष्मान व शिवराज के सम्बल कार्ड योजना नी युवा नेता रमेश राजोरा, पढें खबर NEWS: नामुमकिन को मुमकीन कर दिखाया, एकांतेश्‍वर भक्ति मंडल की मेहनत रंग लाई, शहर में घुमने वाले मानसिक रूप से पीडित व्‍यक्ति को आप पहचान नहीं पाओंगे, पढें अभिषेंक शर्मा की खबर OMG ! नीमच में कंप्यूटर से भी तेज है इनका दिमाग, चुटकी में कर लेते हे गणित के सवाल, अगर आपके बच्‍चे का भी हो ऐसा दिमाग तो ये विडियों न्‍यूज जरूर देखें NEWS: नपाध्‍यक्ष हत्‍याकांड में पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने किया ट्वीट, पढें और जाने मामा की जबानी, पढें खबर NEWS: जोडेश्वर श्याम पर सोमवार को चढे़गा स्वर्ण कलश व ध्वाजा दंड, बोली लगाने का रविवार शाम 5 बजे तक आखिरी समय, पढें खबर NEWS: थाना नीमच केंट की हवालात से भागने वाले एक आरोपी को 02 माह का कारावास एवं जुर्माना, पढें खबर NEWS: कच्ची मिट्टी की दीवार गिरा रहा था युवक, खुद ही नीचे दब गया, मौत, परिवार में शोक की लहर, पढें खबर NEWS: बंधवार हत्याकांड, पुलिस की कार्रवाई को मृतक के बेटे ने बताया स्क्रिप्टिड, की CBI जांच की मांग, पढें खबर NEWS: जिले के चौकीं प्रभारियों में एक बार फिर बदलाव, एसआई सुनील कुमार बने सरवानियां चोकी प्रभारी, पढ़ें खबर MORNING BULLETIN : सिर्फ एक क्लिक में पढ़ें, अभी तक की पिपलिया की बड़ी खबरें WOW: डिजीटल इंडिया के तहत पेंशन आपके द्वार योजना का शुभारंभ, घर बैठे मिलेगा लाभ, पढें खबर

TOTKE: शिव का अंश ही था उनका सबसे बड़ा दुश्मन

Image not avalible

TOTKE: शिव का अंश ही था उनका सबसे बड़ा दुश्मन

डेस्‍क :-

शिवजी का एक चौथा पुत्र था जिसका नाम था जलंधर। जलंधर शिव का सबसे बड़ा दुश्मन बना। श्रीमद्मदेवी भागवत पुराण के अनुसार असुर जलंधर शिव का अंश था, लेकिन उसे इसका पता नहीं था। जलंधर बहुत ही शक्तिशाली असुर था। इंद्र को पराजित कर जलंधर तीनों लोकों का स्वामी बन बैठा था। यमराज भी उससे डरते थे। श्रीमद्मदेवी भागवत पुराण के अनुसार एक बार भगवान शिव ने अपना तेज समुद्र में फेंक दिया इससे जलंधर उत्पन्न हुआ। माना जाता है कि जलंधर में अपार शक्ति थी और उसकी शक्ति का कारण थी उसकी पत्नी वृंदा।

वृंदा के पतिव्रत धर्म के कारण सभी देवी-देवता मिलकर भी जलंधर को पराजित नहीं कर पा रहे थे। जलंधर को इससे अपने शक्तिशाली होने का अभिमान हो गया और वह वृंदा के पतिव्रत धर्म की अवहेलना करके देवताओं के विरुद्ध कार्य कर उनकी स्त्रियों को सताने लगा। जलंधर को मालूम था कि ब्रह्मांड में सबसे शक्तिशाली कोई है तो वे हैं देवों के देव महादेव। जलंधर ने खुद को सर्वशक्तिमान रूप में स्थापित करने के लिए क्रमशः पहले इंद्र को परास्त किया और त्रिलोधिपति बन गया। इसके बाद उसने विष्णु लोक पर आक्रमण किया। जलंधर ने विष्णु को परास्त कर देवी लक्ष्मी को विष्णु से छीन लेने की योजना बनाई।

इसके चलते उसने बैकुंठ पर आक्रमण कर दिया। लेकिन देवी लक्ष्मी ने जलंधर से कहा कि हम दोनों ही जल से उत्पन्न हुए हैं इसलिए हम भाई-बहन हैं। देवी लक्ष्मी की बातों से जलंधर प्रभावित हुआ और लक्ष्मी को बहन मानकर बैकुंठ से चला गया। इसके बाद उसने कैलाश पर आक्रमण करने की योजना बनाई और अपने सभी असुरों को इकट्ठा किया और कैलाश जाकर देवी पार्वती को पत्नी बनाने के लिए प्रयास करने लगा। इससे देवी पार्वती क्रोधित हो गईं और तब महादेव को जलंधर से युद्घ करना पड़ा। लेकिन वृंदा के सतीत्व के कारण भगवान शिव का हर प्रहार जलंधर निष्फल कर देता था।

अंत में देवताओं ने मिलकर योजना बनाई और भगवान विष्णु जलंधर का वेष धारण करके वृंदा के पास पहुंच गए। वृंदा भगवान विष्णु को अपना पति जलंधर समझकर उनके साथ पत्नी के समान व्यवहार करने लगी। इससे वृंदा का पतिव्रत धर्म टूट गया और शिव ने जलंधर का वध कर दिया। विष्णु द्वारा सतीत्व भंग किए जाने पर वृंदा ने आत्मदाह कर लिया, तब उसकी राख के ऊपर तुलसी का एक पौधा जन्म। तुलसी देवी वृंदा का ही स्वरूप है जिसे भगवान विष्णु लक्ष्मी से भी अधिक प्रिय मानते हैं। भारत के पंजाब प्रांत में वर्तमान जालंधर नगर जलंधर के नाम पर ही है। जालंधर में आज भी असुरराज जलंधर की पत्नी देवी वृंदा का मंदिर मोहल्ला कोट किशनचंद में स्थित है। मान्यता है कि यहां एक प्राचीन गुफा थी, जो सीधी हरिद्वार तक जाती थी। माना जाता है कि प्राचीनकाल में इस नगर के आसपास 12 तालाब हुआ करते थे। नगर में जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ता था।

Source-Google

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.