खबरे NEWS: लोकेश गांग को मिली प्रदेश कांग्रेस मे बडी जिम्‍मेदारी, हुवे प्रदेश सचिव नियुक्त, पढें खबर WOW: नीमच जिला पाटीदार समाज ने शुरू की नई योजना, मां उमिया दान पात्र के जरीये गांव-गांव से एकत्र‍ित करेगें दान, पढें खबर NEWS: प्रर्वतक रमेश मुनि मसा. ने लिया संथारा, गतिमान, पढें खबर NEWS: जोकचन्द्र की अगुवाई में हजारों अफीम किसानों ने भरी हुंकार, विभिन्न मांगों को लेकर मंदसौर में हल्ला बोल रैली, घेराव व सभा के बाद डीएनसी को सौंपा ज्ञापन, पढें खबर VIDEO: यदि आप राजस्‍थान की सस्‍ती समझ कर शराब पी रहे है तो हो जाईये सावधान, राजस्‍थान मे बनाई जा रही नकली शराब की पोल खोलती नवीन पाटीदार की स्‍पेशल रिपोर्ट BIG BREAKING: मंदसौर मेडिकल कॉलेज मामला, विधायक सिसौदिया प्रतिनिधि मंडल के साथ पहुंचे कलेक्‍टर के समक्ष, कही ये बडी बात, पढें खबर BIG NEWS: हिस्ट्रीशीटरो के घर पहुंची पुलिस, अपराध नहीं करने की दी हिदायत, पढें कैलाश शर्मा की खबर BIG REPORT: कांग्रेस विधायक डंग का बडा बयान, कहा, 30 अक्‍टूबर तक हो किसानों की कर्जमाफी, नहीं तो किसानों के हित में होगी फाइट, पढें खबर BIG NEWS: तहसीलदार गणेश लाल पांचाल ने किया आकस्मिक निरीक्षण, 20 कर्मचारी मिले अनुपस्थित, जारी किया नोटिस, मांगा 3 दिनों के अंदर जवाब, पढें कैलाश शर्मा की खबर BIG REPORT: हॉकी खिलाड़ियों की मौत पर सीएम कमलनाथ और खेल मंत्री ने जताया शोक, पढें खबर NEWS: साप्ताहिक बैठक में हुई सभी विभागों की प्रगति रिपोर्ट के संबंध में चर्चा, दिए आवश्‍यक निर्देश, पढें कैलाश शर्मा की खबर NEWS: स्‍वर्णकार समाजजनों ने धुमधाम से मनाया अजमीठ जयंती महोत्‍सव, निकाली भव्‍य वाहन रैली, पढें खबर NEWS: गूंजे अजमीढ़ के जयकारे, शहर समेत जिलेभर में स्वर्णकार समाजजनों ने मनाई अजमीढ़ जयंती, पढें खबर WOW: यातायात नियमों का पालन कर तेज गति से वाहन ना चलाएं, जीवन अमूल्य है, पुलिस ने दी स्‍कूली बच्‍चों को समझाईश, पढें खबर OMG ! स्कूल से घर जाते समय रास्ते में 11 बच्चों ने गटका खाया कुछ ऐसा, तुरंत बिगड़ी तबियत, अस्पताल में भर्ती, उपचार जारी, पढें खबर DIWALI SPECIAL: दीपावली को लेकर बाजारों में सजने लगी दुकानें, चमकने लगा कुंभकारों की उम्मीदों का दीपक, पढें खबर

OMG ! टिकट ही नहीं मुख्यमंत्री पद की भी दावेदार हो सकती है यह बाबा बिग्रेड

Image not avalible

OMG ! टिकट ही नहीं मुख्यमंत्री पद की भी दावेदार हो सकती है यह बाबा बिग्रेड

नीमच :-

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने अपने खिलाफ उठ रहे विरोध के तूफान को थामने के लिए प्रदेश के पांच बाबाओं को आनन–फानन में राज्यमंत्री का दर्जा तो दे दिया है, लेकिन उनका यह पांसा आने वाले दिनों में भाजपा को भारी भी पड़ सकता है.

इस तरह की चर्चा अब जोरो पर है कि यह बाबा लोग अब आने वाले दिनों में न सिर्फ विधानसभा, लोकसभा टिकट के दावेदार हो गए हैं बल्कि साधुओं के दम पर राजनीति करने वाली भाजपा में मुख्यमंत्री पद के दावेदार तक हो सकते हैं. शिवराज के इस फैसले ने पद की चाहत में बैठे पार्टी के सैकड़ों दमदार विधायकों, कर्मठ नेताओं को झटका दिया हो लेकिन एक नई बाबा ब्रिगेड़ से जरूर पार्टी को नवाज दिया है.

सेकंड लाइन खड़ी हो गई
पार्टी नेता मानते हैं कि उमा भारती, योगी आदित्यनाथ, साध्वी निरंजना ज्योति जैसे साधु नेताओं के साथ यह सेकंड लाइन खड़ी हो गई है. उल्लेखनीय है जिन पांच बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है उनमें से दो बाबा याने योगेंद्र महंत एवं कम्प्यूटर बाबा खुले तौर पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के खिलाफ नर्मदा घोटाला रथ यात्रा निकालने वाले थे. वे पूरे साधु समाज को इकट्‌ठा कर रहे थे. साथ ही नर्मदा किनारे से लगे गांवों में जन समर्थन जुटाने की तैयारी में भी लग गए थे.

उन्होंने आरोप लगाए थे कि मुख्यमंत्री की नमामि नर्मदा यात्रा के दौरान जो साढ़े छह करोड़ पौधों को रोपा गया है उसमें घोटाला हुआ है. वे धमकी दे रहे थे कि साधु समाज नर्मदा के नाम पर हुई इस राजनीति की पोल खोलेगा और एक एक पौधे की गिनती करेगा. उन्होंने बाकायदा सूचना के अधिकार के तहत संबंधित इलाकों से जानकारियां जुटा ली थी. यह लोग नर्मदा के अवैध उत्खनन को भी निशाना बना रहे थे. इसमें हो रहे राजनीतिक – प्रशासनिक गठजोड़ को एक्सपोज करने की धमकी दे रहे थे.

सिध्दु, केसी त्यागी को मात दे रहे
एक वरिष्ठ नेता टिप्पणी करते हैं कि किसी घुटे हुए नेता को मात दे ऐसा काम यह बाबा ब्रिगेड कर रही थी. शिवराज ने इसको भांप लिया और सौदा राज्यमंत्री के स्तर पर आकर पट गया. अब इसका आगे का घटनाक्रम देखिए– जिस ताकत से बाबा शिवराज के खिलाफ खड़े हुए थे, अब पद मिलते ही उतनी ही ताकत से शिवराज का गुणगान कर रहे हैं. क्या कोई दलबदल कर आया नेता भी इतना दम रखता है. ये लोग तो जद नेता केसी त्यागी, नवजोत सिंह सिध्दु के बराबर दिख रहे हैं. सोशल मीडिया में इनके पलटने वाले वीडियो चल रहे हैं और ये बखूबी जनता और मीडिया का सामना कर रहे हैं. ये पक्के लक्षण नेताओं के हैं और ये बताते हैं कि ये बाबा लोग राजनीति के पक्के खिलाड़ी साबित होने वाले हैं.

इंदौर से टिकट ले सकते हैं भैय्यू महाराज
पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी मानते हैं कि इन पांचों बाबाओं में भैय्यू महाराज सबसे हाई प्रोफाइल हैं. उनके इंदौर आश्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, संघ प्रमुख मोहन भागवत तक आ चुके हैं. कई राज्यों के मुख्यमंत्री, राष्ट्रपति तक उनकी पहुंच है. उनका नाम कई बार इंदौर से लोकसभा टिकट के लिए उभरा था. इंदौर लोकसभा सीट पिछले तीन दशक से स्पीकर सुमित्रा महाजन के पास है. 2019 के चुनाव वे लडेंगी या नहीं इसे लेकर हालात स्पष्ट नहीं है. वे अपने 75 वर्ष पूरे कर रही हैं.

भैय्यू महाराज अभी 50 साल के युवा हैं. और ताई की तरह मराठी भाषी भी हैं. वे अगर चाहे तो टिकट के दावेदार हो सकते हैं. भाजपा का एक वर्ग जो ताई विरोधी है, कई बार महाराज का नाम चुनावी दावेदारी में उछाल चुका है. इस पूरे एपिसोड़ में भैय्यू महाराज की भूमिका शिवराज और बाबाओं के बीच मध्यस्थता करने की आ रही है. जिसके कारण उन्हें ‌विशेष तौर पर उपकृत किया गया है.

महंत चाहते हैं विधानसभा लड़ना
इसी तरह योगेश महंत की राजनीतक इच्छाएं प्रबल हैं. तीन बार वे पार्षद का चुनाव लड़ चुके हैं. कांग्रेस से उनकी नजदीकियां रही हैं. भाजपा के प्रत्याशी के खिलाफ वे मैदान पकड़ चुके हैं. अपने नजदीकी लोगों को वे कई बार बता चुके हैं कि वे चुनाव लड़ने वाले हैं. 2018 के विधानसभा चुनाव में वे टिकट के लिए दावेदारी न करे ऐसा नहीं दिखता.

महत्वाकांक्षी हैं कम्प्यूटर बाबा
कम्प्यूटर बाबा को नजदीकी से जानने वाले नेता कहते हैं कि किसी भी दल का नेता हो बाबा का उससे संपर्क है. सिंहस्थ हो या कोई और धार्मिक जमावड़ा बाबा ने समय समय पर अपना विरोध तो कभी समर्थन जताकर अपनी जगह मजबूत की है. वे महत्वाकांक्षी बाबा हैं, और चुनाव के समय उनकी राजनीतिक आकांक्षा से इंकार नहीं किया जा सकता. वे अपने कुनबे को ताकत देने के लिए टिकट भी मांग सकते हैं.

समर्थकों के लिए मांग सकते हैं टिकट
अन्य बाबाओं में नर्मदानंद एवं हरिहरानंद बाबाओं को लेकर चर्चा है कि उनका नर्मदा किनारों में प्रभाव क्षेत्र है. वे अगर चुनाव में भाजपा के किले को मजबूत कर सकते हैं तो अपने समर्थकों के लिए टिकट भी मांग सकते हैं.

सिंहस्थ से सरकार पर भारी
संघ से जुड़े एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि सिंहस्थ के बाद ही सरकार पर यह बाबा ब्रिगेड कहीं न कहीं भारी होती दिखाई दी है. सिंहस्थ में सुविधाओं को लेकर साधुओं ने जमकर विरोध किया था. नर्मदा का पानी शिप्रा में डालने को लेकर सरकार कटघरे में आई थी. उस मामले को जैसे-तैसे सरकार ने निपटाया और माहौल अनुकुल बना रहे इसलिए जूना अखाड़ा पीठाधीश्वर अवधेशानंद जी को सरकार के समर्थन में मोर्चा संभालना पड़ा था.

बाबा ब्रिगेड नया फेक्टर
पार्टी हलकों में चर्चा है कि शिवराज अब नर्मदा किनारे के क्षेत्रों में पौधारोपण, जल संरक्षण, जनजागरूकता अभियान का दायित्व देकर इन बाबाओं को एक तरह से सीधे राजनीति में उतार चुके हैं. निश्चित तौर पर 2018 चुनाव में अब प्रदेश में बाबा ब्रिगेड नया फेक्टर होगा.


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.