OMG! मर गई मां की ममता, मां ने संपत्ति के लालच में अपने ही कलेजे के टुकड़े को सुपारी देकर मरवा डाला, मां व जीजा सहित चार आरोपियों को किया गिरफ्तार, पढें कैलाश शर्मा की खबर

छोटीसादडी़ :-

छोटीसादड़ी। छोटीसादड़ी पुलिस ने शुक्रवार को 7 अप्रेल को एनएच 113 पर निम्बाहेड़ा रोड पर स्थित राती तलाई के पास युवक का शव संदिग्ध हालत में मिलने के मामले में गुत्थी सुलझा ली है। इस दिल दहला देने वाली घटना में कई सनसनीखेज खुलासे हुए।

थाना अधिकारी प्रवीण टाक ने बताया कि 7 अप्रैल को छोटी सादड़ी निवासी मोहित पुत्र गणपत लाल सुथार का शव का कारुंडा चौराहा से आगे रातीतलाई के पास पड़ा मिला था । उसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची थी तथा शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सुपुर्द कर दिया था। घटना के बाद मृतक मोहित के चाचा की रिपोर्ट पर पुलिस ने अनुसंधान शुरू किया।

थाना अधिकारी प्रवीण टाक ने इस मामले को गंभीरता से देखते हुए एक टीम गठित की ओर अनुसंधान शुरू किया।अनुसंधान में सामने आया कि मोहित व उसकी मां प्रेमलता के बीच संपत्ति का विवाद चल रहा है। उसके बाद पुलिस ने  घटना में कड़ी से कड़ी जोड़ते हुए युवक मोहित उसकी मां प्रेमलता और उसके जीजा सहित अन्य लोगों की कॉल डिटेल निकलवाई। टाक ने बताया कि मोहित की मां मोहित का प्लाट व संपत्ति बेच कर बंबोरी जाना चाहती थी।इस पर मोहित नाराज था और अपनी मां से आए दिन लड़ाई झगड़ा करता रहता था । उसकी मां प्रेमलता ढाई महीने से बंबोरी गांव में रह रही थी । हनुमान जयंती के दिन प्रेमलता छोटीसादड़ी आई थी। इस दौरान उसका मोहित से झगड़ा हो गया था और वापस बंबोरी चली गई थी । बंबोरी जाने के बाद प्रेमलता ने अपने कलेजे के टुकड़े का खून करने के लिए रघुनाथपुरा निवासी गणपत सिंह और अपने जमाई  किशन के साथ मिलकर मोहित को रास्ते से हटाने की योजना बनाई। योजना के मुताबिक प्रेमलता ने अपने बेटे की हत्या के लिए गणपत सिंह व अपने दामाद किशन को 1 लाख की सुपारी दी। प्रेमलता ने गणपत सिंह को 50 हज़ार एडवांस भी दे दिए थे। बाकी रुपए काम तमाम होने के बाद देने थे। मां को पता था कि उसका बेटा मोहित रानी खेड़ा निंबाहेड़ा के पास गणपत सिंह के ढाबे पर आता जाता रहता था। 7 अप्रैल के दिन मोहित बाइक लेकर गणपत सिंह के ढाबे पर पहुंचा।वहां गणपत सिंह व किशन ने मोहित को रोटी और चटनी में नींद की गोलियां मिला दी। उसके बाद मोहित बाइक लेकर छोटीसादड़ी आ रहा था।

योजना के मुताबिक गणपत सिंह व किशनलाल भी मोहित का पीछा करने लगे। एनएच113 पर सेमरड़ा गांव के समीप मोहित ने बाइक रोकी। इस बीच गणपतसिंह और  किशन भी वहां आ पहुंचे और मोहित को बियर पिलाई। इससे उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई।इस दौरान  किशनलाल व गणपतसिंह ने कपड़े से मोहित का गला दबा दिया और शव को कारुंडा चौराहे से आगे रातीतलाई के पास झाड़ियों में फेंक दिया। गला गणपतसिंह ने दबाया था और पैर किशनलाल में पकड़े थे। काम होने के बाद गणपतसिंह व किशन वापस निंबाहेड़ा पहुंच गए। ताकि किसी को इसकी भनक ना लगे। फिर अगले दिन सुबह दोनों बंबोरी पहुंचे और प्रेमलता से बाकी रुपयों का तकाजा करने लगे। पुलिस ने शुक्रवार को मां, जीजा सहित चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और कोर्ट में पेश किया। जहां से उसकी मां प्रेमलता को जेल भेजने के आदेश दिए


SHARE ON:-

image not found image not found

लोकप्रिय

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.