OMG! ऐसा हुआ तो रच जायेगा इतिहास, नीमच के 40 परिवारों में जागी अपने मालिकाना हक मिलने की आस, नपाध्‍यक्ष लाने वाले परिषद की बैठक में प्रस्‍ताव, ,पढें नवीन पाटीदार की खबर

Image not avalible

OMG! ऐसा हुआ तो रच जायेगा इतिहास, नीमच के 40 परिवारों में जागी अपने मालिकाना हक मिलने की आस, नपाध्‍यक्ष लाने वाले परिषद की बैठक में प्रस्‍ताव, ,पढें नवीन पाटीदार की खबर

नीमच :-

बंगला बंगीचा समस्‍या के साथ नीमच की एक और ऐसी समस्‍या है जो पिछलें कई सालों से 40 परिवार आज भी परेशानी का सामना करने को मजबूर है हॉ ये बात अलग है कि बंगला बंगीचा समस्‍या हल हो गई हो लेकिन तांगा अड्डे में रहने वाले कई परिवार आज भी अपने मालिकाना हक के लिये सघंर्ष कर रहें है 

बताया जाता है कि भारत-पाकिस्तान के बंटवारे के समय पाकिस्तान के सिंध प्रांत से सिंधी परिवार भारत आए थे। जिसमें से करीब 40-50 से अधिक परिवार नीमच आ गयें थे कुछ ने खुद को स्थापित कर लिया, लेकिन 40 परिवार अब भी विस्थापन की बाट जोह रहे है। 

लेकिन इस बार एक उम्‍मीद की किरण इनको जब दिखी जब नीमच आयें शिवराज सिंह चौहान व मंत्री माया सिंह के सामने नपाध्‍यक्ष राकेश जैन व पार्षद आकांक्षा जीतू तलरेजा ने इस हल करने की बात रखी जिस पर उन्‍हे सभी दस्‍तावेजो के साथ भोपाल बुलाया है क्‍योंकि करीब 150 से अधिक सदस्य पट्टे और जमीन के मालिकाना हक की खातिर कई जगह गुहार लगा चुकें हैं लेकिन किसी ने आज तक नही सुनी ।

इस मामले को लेकर जब हमने नपाध्‍यक्ष राकेश जैन पप्‍पू से बात करना चाही तो उनका कहना था हमारी सरकार ने जिस तरह बंगला बंगीचा समस्‍या को हल किया वैसे जल्‍द तांगा अड्डा समस्‍या को हल किया जायेंगा जिसे लेकर हमने नीमच आयें प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान व मंत्री माया सिंह के सामने मालिकाना हक को लेकर बात रखी थी जिस पर हम जल्‍द परिषद की बैठक में तांगा अड्डे को लेकर प्रस्‍ताव लाने वाले है 

इतिहास रच जायेगा

अगर नपाध्‍यक्ष राकेश जैन की स्‍थानिय सरकार इस विधानसभा से पहले बंगला बंगीचा समस्‍या की तरह तांगा अड्डा समस्‍या को हल करने में सफलता हासिल करती है एक इतिहास रच जायेगा 

70 साल से कोई सुनवाई नहीं
स्‍थानिय लोगो का कहना है कि आजादी के दौरान पाकिस्तान से नीमच पहुंचे थे। परिवार के मुखिया तो दुनिया में नहीं रहे। हर बार विस्थापन के दावे किए गए, लेकिन 70 साल में एक बार भी सुनवाई नहीं हुई। हमें जमीन का पट्टा तो मिलना ही चाहिए।

विस्थापित सिंधी समाज के सदस्यों की पीड़ा
- पाकिस्तान से आए तो तब से अब तक सिर्फ विस्थापन के दावे मिले।
- तांगा अड्डा क्षेत्र में टीन शेड और कच्चे मकान बनाकर रह रहे हैं, लेकिन स्वामित्व नहीं है।
- मूलभूत सुविधाओं को भी परिवार के सदस्य मोहताज है।
- छत है, लेकिन जमीन का मालिकाना हक आज तक नहीं।
- नपा से लेकर जिला प्रशासन तक कोई सुनने को राजी नहीं।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.