खबरे BREAKING NEWS : सिंचाई पानी की मांग को लेकर किसानों ने लगाया जाम, शाम सात बजे खोला जाम, पढ़े खबर BREAKING NEWS : कोटा में पकड़ा शातिर बाइक चोरो, पलक जपकते ही उड़ा लेते थे मोटरसाईकिल, पढ़े खबर NEWS : पश्चिमी विक्षोभ का असर तापमान पर, शीतलहर चलने की संभावना, पढ़े खबर BREAKING NEWS : युवक का अपरहण कर पांच लाख की मांगी फिरौती, पुलिस की बड़ी कार्यवाई, एक बाइक के साथ दो आरोपियों को किया गिरफ्तार, पढ़े खबर BREAKING NEWS : कड़ाके की सर्दी में मासूम बच्चो को लेकर आधी रात थाने पहुंचे ग्रामीण, पढ़े खबर BREAKING NEWS : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और सांसद ज्याेतिरादित्य सिंधिया के बीच हुई मुलाकात महज 10 मिनट में हुई खत्म, पढ़े खबर OMG : चचेरा भाई ही निकला दुष्कर्मी और हत्यारा, घर में सोते समय बच्ची को उठाकर कुएं पर ले गया, दुष्कर्म किया और फिर गला दबाकर मार डाला, आरोपी गिरफ्तार, पढें कैलाश शर्मा की खबर BREAKING NEWS : रोडवेज में लोग सफर कर अपने घर ले जा रहे है कोरोना संक्रमण को, पढ़े खबर NEWS : अधूरी सडक़ निर्माण से आए दिन हो रहे बड़े हादसे, जिम्मेदार हो रहे मौन, पढ़े खबर NEWS : उज्जैन हॉकी फीडर सेन्टर हेतु खिलाड़ियों का चयन 7 दिसम्बर को, पढ़े खबर NEWS : कलेक्टर के निर्देशन में, औषधी विक्रेताओं का एक लायसेंस निरस्त और 5 लायसेंस निलम्बित, पढ़े खबर NEWS : एक संक्रमित मिलने पर घर से 100 मीटर एरिया ही बनेगा कंटेनमेंट जोन, पढ़े खबर BREAKING NEWS : पहले पत्नी पर चाकू से किया जानलेवा हमला, फिर किया खुद को घायल, पढ़े खबर BREAKING NEWS : 8 साल की चचेरी बहन से भाई ने किया रेप फिर कर दी हत्या, अपना गुनाह छुपाने के लिए शव को फेका कुंए में, पढ़े खबर SOCIAL ACTIVITY : कार्तिक पूर्णिमा पर महिला व बालिकाओं ने की गंगा माता की पूजा कर टाटियो का तिराई, पढें दशरथ नागदा की खबर 

WOW: बढ़ते पेट्रोल के दाम, मप्र की मंडियों में किसानों की मौत और नेताओं के बेतुके आरोप प्रत्यारोपों के बीच आई एक अच्छी खबर, पढेगें तो जानेगें कौन है मेघा परमार

Image not avalible

WOW: बढ़ते पेट्रोल के दाम, मप्र की मंडियों में किसानों की मौत और नेताओं के बेतुके आरोप प्रत्यारोपों के बीच आई एक अच्छी खबर, पढेगें तो जानेगें कौन है मेघा परमार

नीमच :-

भोपाल। बढ़ते पेट्रोल के दाम, मप्र की मंडियों में किसानों की मौत और नेताओं के बेतुके आरोप प्रत्यारोपों के बीच एक अच्छी खबर आ रही है। मप्र की बेटी मेघा परमार ने दुनिया के ताज माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा लहरा दिया है। 24 वर्षीय मेघा ने 29029 फिट ऊंचाई पर 23 मई को सुबह 10:45 पर तिरंगा फहराया। चोटी पर पहुंचने में मेघा को 16 घंटे का टाइम लगा। मेघा सीहोर की रहने वाली है। वो अपने साथ सीहोर की मिट्टी लेकर गई थी। 29029 फिट ऊंचाई पर मेघा ने सीहोर की मिट्टी और पत्थर स्थापित किए। 

सीहोर के छोटे से गांव भोजनगर की 24 वर्षीय मेघा परमार ने बुधवार सुबह 10:45 बजे विश्व की सबसे ऊंची (29029 फीट) चोटी माउंट एवरेस्ट को फतह कर लिया। मेघा ने कहा कि मैं आज बहुत खुश हूं। मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा सपना पूरा हुआ है। मैंने बेस कैंप से कैंप नंबर 4 तक का सफर 18 मई को ही पूरा कर लिया था। 7600 मीटर की ऊंचाई और -15 से 20 डिग्री के बीच तापमान था। वातावरण में आॅक्सीजन लेवल कम हो गया तो शेरपा ने मेरे मास्क से ऑक्सीजन सिलेंडर जोड़ा। पर, इसे लगाने के बाद मैं 10 मीटर ही चली कि मेरा दम घुटने लगा, क्योंकि मुझे मास्क से आॅक्सीजन लेने की आदत नहीं थी। शेरपा ने देखा और दौड़कर मेरा मास्क लगा दिया और वो मुझे वापस बेस कैंप ले आए।

19 मई : जब लगा कि मेरा सपना अब पूरा नहीं होगा

सुबह कैंप नंबर 4 के आगे वातावरण में आॅक्सीजन लेवल शून्य होने और मेरे मास्क नहीं लगाने की जिद से परेशान होकर डॉक्टर्स ने एवरेस्ट समिट की अनुमति देने से मना कर दिया। मेरा सपना टूटने लगा। पर, मेरी जिद अटल थी। शाम को शेरपा और डॉक्टर्स ने कैंप से शिखर तक आॅक्सीजन मास्क लगाकर रखने की शर्त के साथ मुझे आगे बढ़ने की अनुमति दी।

20 मई : रवाना होने के बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा

सुबह डॉक्टर्स ने मेरी जांच की और शिखर के सफर के लिए मुझे फिट घोषित किया। शेरपा ने मुझे 10 से 15 मीटर की चढ़ाई के बाद ऑक्सीजन सिलेंडर बंद कर खुले वातावरण में सांस लेने की प्रैक्टिस कराई। इससे फायदा हुआ। पहले मास्क लगाने पर होने वाली घुटन बंद हो गई। सिलेंडर से आॅक्सीजन लेने के लिए शरीर तैयार हो गया। तय शेड्यूल के मुताबिक 20 मई की रात कैंप नंबर 2 में रेस्ट करना था लेकिन, सपना पूरा होने के जोश और उत्साह के कारण 21 मई की सुबह कैंप नंबर 3 का सफर कंप्लीट कर लिया। आगे रास्ता कठिन था, थकान भी काफी हो गई थी। इसे कम करने कैंप नंबर 3 में करीब 8 घंटे रेस्ट किया। लेकिन, पीछे मुड़कर नहीं देखा।

22 मई : बर्फीले तूफानों से जूझते हुई कैंप 4 पहुंची

कैंप 3 से रात को जब कैंप 4 की ओर बढ़े तो मौसम स्थिर था। तापमान -10 डिग्री से कम था। पूरी रात बर्फ की सफेद चादर से ढंकी पहाड़ियों पर तेज बर्फीली हवाओं ने कई बार रास्ता रोका। दोपहर होते-होते 22 मई को कैंप नंबर 4 में पहुंची।

23 मई : 3 किमी का सफर 15 घंटे में पूरा हुआ

22 मई की रात 8 बजे कैंप 4 से एवरेस्ट को छूने का सफर शुरू किया। यह कैंप 7900 मीटर की ऊंचाई पर है, जहां शिखर की ऊंचाई महज 948 मीटर बची थी। लेकिन, बर्फ की सीधी चट्‌टानों पर बने करीब 3 किमी लंबे रास्ते को पूरा करने में 15 घंटे लग गए। कैंप 4 से अभी 100 मीटर ही आगे बढ़े थे, तभी दोबारा सांस लेने में तकलीफ होने लगी। तत्काल पीठ पर बैग में रखे आॅक्सीजन सिलेंडर को ऑन किया और मास्क से आॅक्सीजन लेना शुरू किया। इसके बाद 884 मीटर की पूरी चढ़ाई आॅक्सीजन सिलेंडर के सहारे सुबह 10.45 बजे पूरी की। यहां 30 मिनट रुके। 

मेघा गांव में जश्न की तैयारी

मेघा के ट्रेनर रत्नेश पांडे ने बताया कि -20 डिग्री तापमान में रहने के बाद सामान्य वातावरण में आने में वक्त लगता है। इसलिए बेस कैंप 3 और 2 में करीब 7-7 घंटे का रेस्ट करने के बाद मेघा नीचे पहुंचीं। उधर, मेघा के गांव में जश्न मनाया गया। अब सब बेटी के घर लौटने का इंतजार कर रहे हैं। पिता दामोदर परमार और मां मंजू ने बताया कि मेघा ने सीहोर की मिट्टी एवरेस्ट के शिखर पर स्थापित कर दी है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.