VIDEO: फौजी की यलगार के बाद डॉक्‍टरों में मची खलबली, झूठे शपथ पत्र पर आवंटन करवा लिये सरकारी आवास, निकली लाखों की रिकवरी, पढें खबर

नीमच :-

नीमच जिला चिकित्सालय के कुछ डॉक्टरों द्वारा अपने पद का दुरुपयोग करते हुए झूठे शपथ पत्र दे शासकीय आवास अपने नाम आवंटित करवा लिए एवं लंबे समय से उस आवास में रह रहे थे । आवास आवंटित करवाने के एवज में 3 डॉक्टर एवं एक संविदा कर्मचारी ने जिला चिकित्सालय में इस बात के झूठे शपथ पत्र दिए थे कि उनके पास स्वयं का रहने का कोई मकान नीमच में आसपास नहीं है और उन्हें जिला चिकित्सालय में रहने हेतु आवास आवंटित किया जाए । 

इस बात की जानकारी का खुलासा भारतीय मानव अधिकार परिषद के जिला सदस्य परमजीत सिंह फौजी द्वारा सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत प्राप्त दस्तावेजों से हुआ । सूचना के अधिकार के तहत प्राप्त दस्तावेजों सहित फौजी ने इन तीन चिकित्सकों एवं एक संविदा कर्मी की लिखित शिकायत जिला कलेक्टर नीमच को की जिसपर जिला कलेक्टर नीमच द्वारा सीएमएचओ नीमच से जांच करवाई गई ।

जांच में यह पाया गया कि जिला चिकित्सालय में पदस्त 03 डॉक्टरों और एक संविदा कर्मी द्वारा झूठा शपथ पत्र दे आवास आवंटित करवा लिए हैं जबकि नीमच में ही आस-पास ही इनके स्वयं के भवन है । कलेक्टर जिला नीमच द्वारा मामले की गंभीरता देखते हुए तीनों डॉक्टरों डॉ बीएल रावत पर 1,47,600/-  डाक्टर संगीता भारती पर 1,13,400/-  डॉक्टर अनिल दुबे पर  4,35,600/- एवं संविदा कर्मी शिवकुमार शर्मा पर 98,400 /-  कुल 7 लाख 95 हजार की रिकवरी निकाल दी ।

रिकवरी का आदेश निकाल सीएमएचओ जिला नीमच को रिकवरी करने हेतु आदेशित किया गया है । वही पूरे मामले का खुलासा करने वाले परमजीत सिंह फौजी द्वारा यह कहा गया है कि डॉक्टरों पर मात्र रिकवरी की कार्यवाही से कुछ नहीं होगा दोषी डॉक्टरों के विरुद्ध झूठे शपथ पत्र देने एवं शासन के साथ धोखाधड़ी करने का प्रकरण भी दर्ज होना चाहिए जल्द ही समस्त दस्तावेजों सहित मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री एवं प्रमुख सचिव स्तर पर पूरे मामले की शिकायत कर डॉक्टरों के विरुद्ध धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज करने की मांग की जाएगी ।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.