NEWS: अच्‍छी खबर, अगर घर पर रह गया है ड्राइविंग लाइसेंस तो भी इसलिए नहीं कटेगा चालान, पढें खबर

Image not avalible

NEWS: अच्‍छी खबर, अगर घर पर रह गया है ड्राइविंग लाइसेंस तो भी इसलिए नहीं कटेगा चालान, पढें खबर

नीमच :-

अगर आप जल्दी-जल्दी में ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी की आरसी घर पर भूल आए तो भी आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि पुलिस अब आपका चालान नहीं काट सकती. दरअसल सरकार ने लाइसेंस की हार्ड कॉपी रखने की अनिवार्यता को खत्म कर दिया है. इसके लिए बस आपको आपने दस्तावेज की कॉपी डिजिटल लॉकर में रखनी होगी. ट्रैफिक पुलिस या अन्य एजेंसियां उन डॉक्युमेंट्स को जरूरत पड़ने पर डिजीलॉकर ऐप के जरिए पुष्टि कर सकेंगे.

अगर आप जल्दी-जल्दी में ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी की आरसीघर पर भूल आए तो भी आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि पुलिस अब आपका चालान नहीं काट सकती. दरअसल सरकार ने लाइसेंस की हार्ड कॉपी रखने की अनिवार्यता को खत्म कर दिया है. इसके लिए बस आपको आपने दस्तावेज की कॉपी डिजिटल लॉकर में रखनी होगी. ट्रैफिक पुलिस या अन्य एजेंसियां उन डॉक्युमेंट्स को जरूरत पड़ने पर डिजीलॉकर ऐप के जरिए पुष्टि कर सकेंगे. सरकार ने दिया आदेश-केंद्र ने राज्यों के परिवहन विभागों और ट्रैफिक पुलिस को निर्देश दिया है कि वे वेरिफिकेशन के लिए दस्तावेजों की ऑरिजिनल कॉपी न लें.

ऐसे समझें-आईटी ऐक्ट के प्रावधानों का हवाला देते हुए परिवहन मंत्रालय ने ट्रैफिक पुलिस और राज्यों के परिवहन विभागों से कहा है कि ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट और इंश्योरेंस पेपर जैसे दस्तावेजों की ऑरिजनल कॉपी वेरिफिकेशन के लिए न ली जाए. मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि डिजिलॉकर या एमपरिवहन ऐप पर मौजूद दस्तावेज की इलेक्ट्रॉनिक कॉपी इसके लिए मान्य होगी. इसका मतलब यह हुआ कि ट्रैफिक पुलिस अब अपने पास मौजूद मोबाइल से ड्राइवर या वाहन की जानकारी डेटाबेस से निकालकर इस्तेमाल कर सकती है. उसे ओरिजनल दस्तावेज लेने की जरूरत नहीं होगी.

क्या है डिजिटल लॉकर: डिजिटल रूप में दस्तावेज सहेजने और इन्हें जारी करने की सुविधा केंद्र सरकार मुहैया करा रही है. इस सुविधा का इस्तेमाल कर लोग विभिन्न सरकारी संस्थाओं द्वारा जारी दस्तावेज का जब-तब जरूरत पड़ने पर उपयोग कर सकते हैं, उनको अपलोड कर सकते हैं, ई-साइनिंग के जरिए खुद से सत्यापित कर सकते हैं और साझा भी कर सकते हैं. मौजूदा समय में डिजिलॉकर से दस्तावेज जारी करने वाले (इश्यूअर) 31 संगठन और 9 निवेदक (रिक्वेस्टर) संगठन जुड़े हुए हैं. डिजि लॉकर पर 76 लाख लोग रजिस्टर्ड हो चुके हैं.
 

कैसे खुलेगा अकाउंट: डिजिटल लॉकर या डिजिलॉकर का इस्तेमाल करने के लिए आपको https://digitallocker.gov.in, digilocker.gov.in/ पर अपना अकाउंट बनाना होगा. इसके लिए आपको अपने आधार कार्ड नंबर की जरूरत होगी.


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.