खबरे NEWS ROUND: पढियें जिले की हर एक छोटी खबर सिर्फ 5 मिनट में POLITICS: भड़भड़िया की गलियों में गूंजा चप्पा चप्पा भाजपा, धूमधाम से निकला नवनिर्वाचित विधायक श्री परिहार का विजय जुलूस, पढें खबर BIG BREAKING : विकास नगर में चैन स्नेचिंग, 73 वर्षीय महिला के गले से छीनी चैन, पुलिस मौक़े पर NEWS: शीत लहर से कंपकंपाया मप्र, अभी और बढ़ेगी ठण्ड, पढें खबर NEWS: जीत का जुनून, मंदसौर में यशपाल सिंह की जीत की खुशी में फ्रि शेविंग-कटिंग, पढें खबर NEWS: भागवत कथा, पं. शास्‍त्री बोले अवतार महापुरूश को जन्म देने वाली मां भगवान से भी बड़ी होती है, पढें खबर NEWS: चलो शिर्डी चलो शिर्डी, नीमच से नीमच से शिर्डी सांई बस यात्रा 18 को, पढें खबर NEWS: मनोहर नागदा के श्रीमुख से श्रीराम कथा ज्ञान गंगा का शंखनाद आज से, पढें खबर Ground Report: बघाना के लोग गंदगी व मच्छरों के आतंक से बेहाल, नपा के जिम्‍मेदार अधिकारी बेखबर, पढें महेन्‍द्र अहीर प्‍यासा की खबर BIG NEWS: नीमच में ठंड बढ़ने के कारण समय बदला...सोमवार से सुबह 9 बजे लगेंगे सरकारी व निजी स्कूल, पढें खबर

HEALTH: फल-सलाद से नहीं, इन चीजों से मिलेगा विटमिन-12

Image not avalible

HEALTH: फल-सलाद से नहीं, इन चीजों से मिलेगा विटमिन-12

डेस्क :-

'विटमिन' शब्द में 'वाइटैलिटी' का बोध निहित है। 'वाइटैलिटी' मतलब जैवीयता यानी विटमिन नहीं मिले, तो शरीर नहीं चल सकेगा। उनका कोई विकल्प नहीं। उन्हें हम अपने शरीर में बना नहीं सकते। ऐसे में बाहर से विटमिन लेने के सिवाय कोई चारा नहीं। जरूरी नहीं हर विटमिन जो आपके लिए हो, वह हर जीव के लिए भी विटमिन ही हो। बहुत से जानवर अपने शरीर में विटमिन-सी का निर्माण कर लेते हैं। अतः यह उनके लिए विटमिन नहीं है। लेकिन मनुष्य का शरीर विटमिन-सी नहीं बना सकता। उन्हें उसे बाहर से भोजन में लेना ही होगा। अगर नहीं मिला, तो उसकी कमी से स्कर्वी रोग हो सकता है। 

विटमिन बी-12 संरचना के तौर पर सबसे जटिल है। इसमें एक दुर्लभ तत्त्व कोबाल्ट होता है। यह ऐसा विटमिन है जो कोई जीव-जन्तु या पेड़-पौधे बना ही नहीं सकते। इसका निर्माण कुदरत ने केवल जीवाणुओं को सिखाया है। वे ही इसे बनाते हैं और सब तक यह पहुंचते हैं। गाय का ही उदाहरण लेते हैं। गाय घास खाती है। वह अधचबाई घास उसके उस पेट( आमाशय ) में जाती है। जिसके चार कक्ष हैं। फुर्सत में वह उसी घास की जुगाली करती है। दिलचस्प यह है कि गाय के पेट में अरबों जीवाणु होते हैं जो विटमिन बी-12 बनाते हैं। पाचक-रसों में सने घास के निवाले आंतों में पहुंचते हैं। वहीं से रक्त में अवशोषित हो जाते हैं। अब अपनी-हमारी बात। अव्वल तो आप और हम हर पत्ती-पौधा-फल धोकर खाते हैं। इससे सतह के जीवाणु साफ हो जाते हैं। फिर हमारे आमाशय में जीवाणुओं की वैसी व्यवस्था नहीं। तो इस तरह जब भोजन पचकर छोटी आंत पहुंचता है, तो उसमें विटमिन बी-12 नहीं होता। प्रकृति के सभी सदस्यों ने अपने बचाव के लिए कोई न कोई युक्ति गढ़ ली है। केवल इंसान को अपना इंतजाम करना है। 

किसी पौधे-पत्ते-बूटे-फल-सलाद को खाकर आपको बी-12 नहीं मिल सकता। लेकिन जानवरों से मिलने वाली वस्तुओं में इसकी मौजूदगी होती है। आप मांस, अंडा, दूध, दही, पनीर, छाछ, खीर कुछ भी ले सकते हैं। लेकिन बी-12 लेना तो पड़ेगा ही। वरना बड़ी समस्या हो सकती है। 

बी-12 बी-कॉम्प्लेक्स परिवार के आठ सदस्यों में से एक है। हमारा और कई जानवरों का शरीर इसे यकृत ( लिवर ) में स्टोर रखता है। यही कारण है कि पशुओं के कलेजे यह विटमिन पाने के अच्छे स्रोत में से एक माने जाते हैं। लेकिन बहुत से लोग यह नहीं खा सकते। उन्हें बी-12 की गोलियां या कैप्सूल लेने होंगे। इस बाबत वे अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं। 

बड़े काम का बी-12
शरीर में डीएनए निर्माण में विटमिन बी-12 की अहम भूमिका होती है। साथ ही यह वसा, प्रोटीन आदि के उपचय में भी खास भूमिका निभाता है। ऐसे में मनुष्य के शरीर की हर कोशिका इस विटमिन पर निर्भर है। हर कोशिका में डीएनए है। उसमें वसा है। प्रोटीन भी है। इन सबके संग होती तमाम रासायनिक क्रियाएं बिना इस विटमिन के पूरी नहीं हो सकेंगी। नतीजन नाभिक (न्यूक्लियस ) पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाएगा। कोशिका बड़ी तो होती जाएगी लेकिन उसका केंद्रक नहीं बढ़ेगा। जैसे किसी बुजुर्ग के शरीर में बच्चे का मन हो। 

कमी से यह नुकसान
विटमिन बी 12 की कमी से ब्लड के निर्माण में फर्क पड़ता है। इसके अभाव से लाल रक्त कोशिकाएं ,श्वेत रक्त कोशिकाएं व प्लेटलेट्स कम हो सकते हैं। हीमोग्लोबिन गिरने से कमजोरी आ सकती है। शरीर टूटता रहता है। कार्यक्षमता घट जाती है। बी-12 की कमी से होने वाला यह अनीमिया मेडिकल-जगत में मेगैलोब्लास्टिक अनीमिया के नाम से जाना जाता है। तन्त्रिका-तन्त्र पर पड़ता दुष्प्रभाव तन्त्रिकाओं(नर्व्स) को नुकसान पहुंचाता है। जिससे हाथ-पैरों में झुनझुनी व सुन्नपन हो सकता है। ये सब आगे चलकर मांसपेशीय कमजोरी में बदल जाते हैं। फिर चाल में बदलाव के साथ डगमगाहट हो सकती है और याद्दाश्त पर भी बुरा असर पड़ सकता है। देखना-सुनना-बोलना सब धीरे-धीरे कमजोर हो सकता है। 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.