खबरे BIG NEWS: अब प्रभारी मंत्री की तरह हर जिले में होंगे प्रभारी सचिव, 1994 बैच के संजय कुमार शुक्ला बनायें गये नीमच के प्रभारी सचिव, पढ़ें दिनेश वीरवाल की खबर SAROKAR: एक सप्ताह पहलें बोयी सोयाबीन, याद दिला रही है बाबा भारती के घौड़े और किसान की लहलहाती फसल की पढ़ें और देखें खरीफ सीजन की अंकुरित खुशहाल फसल की पहली तस्वीर दिनेश वीरवाल की ग्राउंड जीरो से ये खास खबर BIG NEWS: गौरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी के खिलाफ कानून बना रहा मध्य प्रदेश, होगी 5 साल की सजा VIDEO: इस शहर से एमपी पुलिस विभाग की शानदार पहल, अब गांव में निपटाए जायेगें झगडे, शुरू हुआ शांति अभियान, देखे विडियों न्‍यूज COMMODITY MARKET: लंबा रखें नजरिया, शेयर में बनेगा ढेर सारा पैसा BUSINESS: यहा क्लिक करेगें तो जानेगें नीमच सर्राफा भाव AUTOMOBILE: MG Hector SUV कल होगी लॉन्च, जानें डीटेल GADGETS: Whatsapp पर आएगा नया फीचर, स्टेटस अपडेट नहीं करेंगे परेशान RELASHANSHIP: पत्नी या गर्लफ्रेंड को खुश रखने का ये है 'साइंटिफिक' तरीका HEALTH: लिवर को हेल्दी बनाए रखना है तो ये चीजें खाएं TODAY HISTORY: 27 जून का इतिहास, जानें इस दिन की अहम घटनाओं को TOTKE: विवाह का हर संकट दूर करेंगे गुरुवार के असरदार टोटके, जल्द होगी कुंवारों की शादी JYOTISH: 27 मई का राशिफल, मकर राशि के कारोबारियों को होगा बंपर धन लाभ

HEALTH: बिस्‍तर से उठने नहीं देगा आपको ये दर्द, तनाव और लाइफस्‍टाइल हैं बड़े कारण

Image not avalible

HEALTH: बिस्‍तर से उठने नहीं देगा आपको ये दर्द, तनाव और लाइफस्‍टाइल हैं बड़े कारण

डेस्क :-

एंकायलूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित विशाल कुमार की उम्र अभी 34 साल ही है और वह पिछले आठ साल से पीठ के निचले हिस्से और कूल्हों में गंभीर दर्द की वजह से बिस्तर पर ही अपनी जिंदगी जी रहे थे। करीब 12 साल पहले विशाल को रीढ़ की हड्डी और कूल्हों में एंकायलूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस (एएस) होने का पता चला था। धीरे धीरे दर्द इतना बढ़ा कि उनकी जिंदगी बिस्तर तक ही सीमित रह गई। बाद में उन्हें टोटल हिप रिप्लेसमेंट (टीएचआर) का सहारा लिया। अब वह सामान्य जीवन बिता रहे हैं।

एंकायलूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के बारे में शालीमार बाग के मैक्स अस्पताल के ओर्थोपेडिक्स व ज्वॉइंट रिप्लेसमेंट विभाग के डॉयरेक्टर डॉ. पलाश गुप्ता ने कहा, ' यह आर्थराइटिस का ही एक प्रकार है, जिसमें रीढ़ की हड्डी में लगातार दर्द रहता है और गरदन से लेकर पीठ के निचले हिस्से तक में अकड़न आ जाती है। यह स्थिति हड्डियों के ज्यादा विकसित होने की वजह से होती है, जिसके हड्डियों में असामान्य फ्यूजन होने लगता है और मरीज को रुटीन का काम करना तक मुश्किल हो जाता है।'

उन्होंने कहा कि यह स्थिति आमतौर पर उन लोगों में ज्यादा देखने को मिलती है, जिनके रक्त में एचएलए-बी27 एंटीजन होता है। एचएलए-बी27 एंटीजन प्रोटीन है, जो सफेद रक्त कोशिकाओं की सतह पर होता है। यह प्रोटीन इम्यून सिस्टम को सही तरीके से काम नहीं करने देते जिससे इम्यून सिस्टम सेहतमंद कोशिकाओं पर अटैक करने लगते हैं और इसके परिणामस्वरूप एएस जैसी बीमारी होती है।

बीमारी के बारे में अधिक विस्तार से बताते हुए डॉ. गुप्ता ने कहा क‍ि स्वस्थ रीढ़ की हड्डी किसी भी दिशा में मुड़ और झुक सकती है लेकिन एएस प्रभावित स्पाइन में अकड़न आ जाती है। रीढ़ की हड्डी में अकड़न आने से रोगी के लिए स्पाइन को हिलाना लगभग नामुमकिन हो जाता है और एडवांस स्टेज में रोगी बिस्तर पर आ जाता है।

अस्वस्थ जीवनशैली, बैठने का तरीका सही न होना, बहुत ज्यादा तनाव होना और लगातार कई घंटों तक काम करते रहने से युवाओं में हड्डियों व जोड़ों की समस्या सबसे ज्यादा आती दिख रही है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.