POLITICS: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में रोज बढ रहे दाम, नवीन अग्रवाल बोले भाजपा कांग्रेस बना रही जतना को बेवकुफ, पढें खबर

Image not avalible

POLITICS: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में रोज बढ रहे दाम, नवीन अग्रवाल बोले भाजपा कांग्रेस बना रही जतना को बेवकुफ, पढें खबर

नीमच :-

नीमच पेट्रोल-डीजल की कीमतों के पांच साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचने पर आम आदमी पार्टी के नीमच विधानसभा प्रत्‍याशी नवीन अग्रवाल ने सरकार पर निशाना साधते हुवें उन्होंने सरकार से सवाल किया कि पेट्रोल व डीजल की कीमतें मई 2014 से ज्यादा क्यों हैं, जबकि उस समय अंतर्राष्ट्रीय कीमतें आज की तुलना में ज्यादा थीं. 

श्री अग्रवाल ने कहा कि कच्चे तेल की प्रति बैरल 74 अमेरिकी डॉलर की कीमत, चार साल पहले के प्रति बैरल 105 अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अभी भी कम है. तो मई 2014 की तुलना में आज पेट्रोल व डीजल की कीमतें ज्यादा क्यों है? बीते चार सालों से भाजपा सरकार तेल की कीमतों से अप्रत्याशित लाभ उठा रही है. तेल के अप्रत्याशित लाभ को छोड़कर भाजपा सरकार को इस बारे में कुछ अता-पता नहीं है

उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा शेखी बघारती है कि वह 22 राज्यों में सत्ता में है. तो फिर भाजपा सरकार पेट्रोलियम व पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के तहत लाने से इनकार क्यों कर रही है? इसका कारण भाजपा सरकार की ग्राहकों पर करों का बोझ लादने की नीति है.श्री अग्रवाल ने कहा कि जनता को राहत देने के लिए सभी राज्यों को वैट कम करना चाहिए.उन्होंने कहा, ‘पिछले नौ दिन में डीजल की कीमत दो रुपये 15 पैसे बढ़ी. ये कहते हैं कि इनका हस्तक्षेप नहीं है. फिर कर्नाटक के चुनाव के समय कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल की कीमतें क्यों नहीं बढ़ाई? उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने पेट्रोल और डीजल उत्पाद शुल्क बेतहाशा बढ़ा दिया है.

जीएसटी के तहत लाने की मांग

उन्होंने तंज कसते हुए कहा, पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ने से हर घर पर असर पड़ता है. जब डीजल की कीमत बढ़ने से आवश्यक वस्तुओं की कीमत पर असर पड़ता है. हमने पेट्रोल और डीजल की कीमतें जीएसटी के तहत लाने की मांग की थी, लेकिन एक महाराजा की तरह व्यवहार कर रहे मोदी जी ने हमे अनसुना कर दिया महाराजा मोदी तत्काल उत्पाद शुल्क घटाएं. भाजपा की राज्य सरकारों को भी वैट कम करना चाहिए.


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.