खबरे VIDEO: मनासा पहुंची वॉईस ऑफ एमपी की टीम, देर रात तक चल रहा है धूंआधार उमरावसिंह गुर्जर प्रचार, बोले बहुत दुखी है इस 15 साल के कुशासन से, देखे विडियों VIDEO: जावद पहुंची वॉईस ऑफ एमपी की टीम, कांग्रेस प्रत्‍याशी राजकुमार अहीर से हुई सीधी बात, बोले जनता कर रही है राजतिलक की तैयारी NEWS: भादवामाता पहुंचे नरेन्‍द्र सिंह तोमर, कुछ देर में करेगें सभा को संबोधित, पढें खबर APRADH: जिलाबदर के आदेश का उल्लंघन करने वाले आरोपी श्‍यामसिंह को 01 वर्ष का कारावास व जुर्माना, पढें खबर POLITICS: अब आपको भी कांग्रेस देगी पक्का मकान, गिरदौडा में बुजुर्गों का आशीर्वाद मिला तो युवाओ का साथ, पढें खबर SHOK KHABAR: नही रही श्रीमति प्रेमबाई मेघवाल, परिवार में शोक की लहर, शवयात्रा आज NEWS: कुछ देर में भादवामाता आने वाले है भाजपा के स्‍टार प्रचारक केंद्रीय मंत्री, बापू ने लिया जायजा, पढें खबर NEWS: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्रियों के नाम एवं पार्टी, पूरी लिस्ट, पढें खबर NEWS: विधानसभा चुनाव, वीआईपी भ्रमण को लेकर होटल, लॉज, ढाबों एवं धर्मशालाओं की चैंकिंग, पढें खबर OMG ! करोड़ों के हवाला कारोबार में अब कूरियर कंपनी का नाम, इसके ज़रिए जा रहा था पैसा, पढें खबर

RELATIONSHIP: सेक्स के बाद महिलाओं को क्यों होता है ज्यादा पछतावा

Image not avalible

RELATIONSHIP: सेक्स के बाद महिलाओं को क्यों होता है ज्यादा पछतावा

डेस्क :-

अचानक से किसी के साथ शारीरिक संबंध बन जाने को कैजुअल सेक्स कहा जाता है। ज़ाहिर है इसमें सहमति और पसंद भी होती है। कैजुअल सेक्स के बाद अक्सर लड़कियों में खेद और पछतावे की भावना घर करती है।

हाल ही में आई एक नई स्टडी के मुताबिक़ अगर सेक्स की पहल लड़कियां करती हैं और वो इसे इन्जॉय करती हैं तो उनमें खेद की भावना नहीं आती है। पहले की स्टडी में यह पाया गया था कि ‘वन नाइट स्टैंड’ में पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज़्यादा अफसोस और पछतावा होता है।

शोधकर्ताओं ने नॉवे की यूनिवर्सिटी में 547 और अमरीका की यूनिवर्सिटी में 216 छात्रों से बातचीत की। इनमें से कोई समलैंगिक नहीं था। इन सभी की बातचीत से कई चीज़े स्पष्ट हो गईं। कैजुअल सेक्स में लड़कियों और लड़कों की सोच बिल्कुल अलग होती है। इस स्टडी में पाया गया कि महिलाओं को उनका पार्टनर सक्षम और यौन संबंध के दौरान संतुष्ट करने वाला मिला तो उनके अंदर खेद की भावना नहीं आई।

इस स्टडी में शामिल होने वाले सारे लोग नॉर्वीयन यूनिर्सिटी ऑफ़ साइंस एंड टेक्नॉलजी (एनटीएनयू) और यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्सस के थे। सभी की उम्र 30 साल से कम थी। पहले स्टडी में पाया गया था कि कैजुअल सेक्स में पुरुषों को महिलाओं की तुलना में बहुत कम पछतावा होता है। इसके साथ यह भी कहा गया था कि इसका कोई मतलब नहीं होता है कि सेक्स की पहल किसने की थी।

यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सस के प्रोफ़ेसर डेविड बज़ का कहना है, ”अगर सेक्स के लिए महिला पहल करती है को इससे दो ख़ास चीज़ें सामने आती हैं. पहला यह कि सेक्स को लेकर दिमाग़ में सकारात्मक भावना है तो यौन संबंध के दौरान कामुकता खुलकर सामने आएगी.”
दूसरी बात यह कि महिला खुलकर अपनी इच्छा व्यक्त कर रही है और उसके भीतर कोई अपराधबोध नहीं होगा। ऐसे में खेद की भावना महिलाओं के भीतर न के बराबर आती है, क्योंकि इसमें किसी भी तरह का कोई दबाव नहीं होता है।

टेक्सस यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर जॉय पी वॉकॉफ़ का कहना है कि यौन संबंध में महिलाओं की मर्जी ख़ास मायने रखती है। उनका कहना है कि खेद की भावना एक अप्रिय और परेशान करने वाली भावना होती है। इस स्टडी में यह बात मुखरता से सामने आई है कि संबंध बनाने को लेकर ख़ुद का और दबावमुक्त निर्णय सबसे अहम होता है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.