खबरे SELFIE WITH VOTE: लोकतंत्र का महापर्व, नीमच-मंदसौर संसदीय क्षेत्र में मंतदान, सेल्‍फी का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, करें स्‍लाइड और देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: वॉईस ऑफ एमपी पर सेल्‍फी का सिलसिला लगातार जारी, आप भी करें मतदान और भेजे सेल्‍फी, स्‍लाइड में देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: लोकतंत्र का महापर्व, नीमच-मंदसौर संसदीय क्षेत्र में मंतदान, सेल्‍फी का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, करें स्‍लाइड और देखें तस्‍वीरें OMG ! एमपी में वोटिंग के दौरान कर्मचारी की हार्ट अटैक से मौत, पढें खबर ELECTION 2019: जिलें के इस गांव में हुआ दिव्यांगों का 100 प्रतिशत मतदान, पढें खबर SELFIE WITH VOTE: वॉईस ऑफ एमपी पर सेल्‍फी का सिलसिला लगातार जारी, आप भी करें मतदान और भेजे सेल्‍फी, स्‍लाइड में देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: लोकतंत्र के महापर्व पर जिलें में हर जगह से सेल्‍फी का दौर जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, स्‍लाइड में देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: लोकसभा का महातंत्र, जिलें में मतदान का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, करें स्‍लाइड और देखें तस्‍वीरें VIDEO: मतदान केन्‍द्र पर वॉईस ऑफ एमपी की टीम, तेज धूप के बाद भी मतदाताओ की कतार, देखे श्‍याम गुर्जर के साथ मुश्‍ताक अली की ये खबर SELFIE WITH VOTE: लोकसभा का महातंत्र, जिलें में मतदान का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, करें स्‍लाइड और देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: मतदान को लेकर वॉईस ऑफ एमपी पर सेल्‍फी विथ वोट का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, हम पहुंचाए लाखों लोगो तक, पढें खबर SELFIE WITH VOTE: लोकसभा का महातंत्र, जिलें में मतदान का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, करें स्‍लाइड और देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: लाखों में कुछ से पहली बार तो कुछ ने दूसरी बार किया मतदान, सेल्‍फी का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, स्‍लाइड कर देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: किसी ने परिवार तो किसी ने दोस्‍त के साथ किया मतदान, सेल्‍फी का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, स्‍लाइड कर देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: लोकतंत्र का महापर्व, नीमच-मंदसौर संसदीय क्षेत्र में मंतदान, सेल्‍फी का सिलसिला लगातार जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, करें स्‍लाइड और देखें तस्‍वीरें SELFIE WITH VOTE: लोकतंत्र के महापर्व पर जिलें में हर जगह से सेल्‍फी का दौर जारी, आप भी भेजे अपनी सेल्‍फी, स्‍लाइड में देखें तस्‍वीरें

NEWS: कृति संस्था का सम्मान समारोह सम्पन्न, अहमद हुसैन बोले गज़ल खुदा की अनमोल कला, पढें खबर

Image not avalible

NEWS: कृति संस्था का सम्मान समारोह सम्पन्न, अहमद हुसैन बोले गज़ल खुदा की अनमोल कला, पढें खबर

नीमच :-

नीमच 13 दिसम्बर 18 (केबीसी न्यूज)। गज़ल खुदा की अनमोल कला है । इस कला में निरन्तर अभ्यास से ही निखार आता है । सही  उस्ताद के मार्गदर्षन बिना सफलता की मंजिल नहीं मिलती है । इंसान के दर्द खुषी को सलीके से कहना गज़ल बन जाता है ।

BIG SHOT: अवैध डिब्‍बा कारोबारीयों में छिडी गैंगवार, ये वो डिब्‍बा गैंग है जिसने खुलेआम किया था दिलीप बापू को हराने का ऐलान, डीजीपी से हो रही है शिकायत, गैंगवार पर नवीन पाटीदार की स्‍पेशल रिपोर्ट

WOW: वॉइस ऑफ़ एमपी ने बनाया रिकॉर्ड, मंगलवार को हुए 10 लाख से अधिक हिट, चुनाव परिणामो के लिए लोगो ने देखा VOICE OF MP, पढ़िए नवीन पाटीदार की ये रिपोर्ट

BIG SHOT: नीमच से राजस्थान के चौमहला और प्रतापगढ़ तक फैले अवैध डिब्बा कारोबार के गैंग जांच एजेंसियों के राडार पर, दिल्ली में सेबी को हुयी शिकायत, हो सकती ही बड़ी कार्रवाही, पढ़े नवीन पाटीदार की ये एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

यह बात अन्र्तराश्ट्रीय गज़ल कलाकार अहमद हुसैन ने कही वे गुरूवार दोपहर 1 बजे साहित्यिक सामाजिक सांस्कृतिक संस्था कृति द्वारा उनके षिश्य गजलकार सुरेष कान्हा गुलषन के निवास 470, हुड़को कालोनी पर आयोजित सम्मान समारोह में अपने सम्मान के उपरान्त बोल रहे थे उन्होने कहा कि गजल के फणकार किसी कद्रदान के मोहताज नहीं होते है वे अपने हुनर से सदैव सफलता के षिखर की और आगे बढ़ते रहते है । हर इंसान प्यार करे सामाजिक सौहार्द भाईचारा प्रेम, एकता देष की सबसे बड़ी ताकत है हम सब षांति के साथ मिलजुल कर रहे तभी राश्ट्र तरक्की करेगा । प्राचीनकला में गज़ल के फनकार वर्शो कठिन अभ्यास करते थे तब कही जाकर उनकी आवाज में कषिस आती थी । युवा वर्ग पाष्चात्य संस्कृति की और जाये कोई बात नहीं लेकिन भारतीय संस्कृति को नहीं भूले तो गज़ल कला पिछडेगी नहीं । इस क्षेत्र में पिछड़ना हमारे लिए दुःखदायी है षिश्य कर्म योगी बने तभी गुरू या उस्ताद से सिद्धी की सफलता का मंत्र मिलता है युवा वर्ग गजल को पसंन्द करते है तभी फिल्मों में इसका उपयोग निरन्तर जारी है गज़ल आत्मा से निकली वो आवाज है जो ब्रहम का नांद बन जाती है । गज़ल की लोकप्रियता के चलते ही कव्वाली के प्ले बेक में गाई जाती है । जनता सदैव अच्छा गीत संगीत ही सुनना पसंद करती है आज संगीत का व्यापक दृश्टिकोण फैल रहा है इससे संगीत अपनी मूल रचना खो रहा है दुर दर्षन का दायरा सिमित था तो कलाकार अच्छे थे आज चैनल की बाढ़ आने से गुणवत्ता खत्म हो गई है षास्त्रीय संगीत को लोग कठिन समझ कर जुड़ते ही नहीं है जबकि यह विद्या सरस है कठिन नहीं है । मिडिया इसे सही ढंग से प्रस्तुत करे षास्त्रीय संगीत अपने स्थान पर वापस आ सकता है । बोरिंग में बच्चा गिरता है तो पुरा मिडिया फोकस करता है लेकिन कोई षास्त्रीय संगीत का कार्यक्रम हो तो उसे स्थान कम मिलता है । कला को सिखने के लिए समय देना पड़ता है घराना से कलाकार की पहचान षैली की जानकारी मिलती है । कलाकार परमात्मा स्वंय बनाता है गुरू तो उसे मंजिल का रास्ता दिखाता है तानसेन भी परमात्मा ही बनाते है । कलाकार की कला से प्रेम सभी करते हे । षायरी वह प्रसिद्ध होती है जो अच्छा संदेष देती है । कोई अच्छी रचना लिखते है तो उसे गाते भी है वह चाहे किसी वर्ग जाति का कलाकार हो लोग टीवी, मोबाईल से गजल को नुकसान पहुॅचा रहे है चिंतन का विशय है आज जगजीतसिंह गुलामअली जैसे कलाकारों का आगे नहीं आना सही गुरू का अभाव है ट्रेनिंग सेन्टर व्यवसायिक है वे केवल कला सिखाते है उसकी बारिकी की तकनीकी नहीं सिखाते है । कलाकार को सफल बनाने की जिम्मेदारी माता-पिता की होती है हुस्न इल्म को पहचाना मुष्किल होता है अहमद हुसैन ने में तेरे प्यार का मारा हुआ हूॅ सिकन्दर हूॅं मगर हारा हुआ हूॅं गजल सुनाई तो सभी भाव विहल हो गए । एक प्रष्न के उत्तर में गजलकार मोहम्द हुसैन ने बताया कि हमारी सफलता में हमारे पिता उस्ताद अख्तर हुसैन का योगदान अविस्मरणीय है मध्यप्रदेष हमारे लिए सौभाग्य षुभ है क्योंकि छत्तीसगढ़ के अम्बिकापुर षहर में ही हमारी पहली कम्पोजिषन हुई थी जिसे दुनिया जहान एवं लता मंगेषकर ने भी खुब पसंन्द किया यही हमारी सफलता की प्रथम सीढ़ी रही है मध्यप्रदेष के लोग गजल गीत के बड़े कद्रदान है यह सम्मान योग्य कदम है ।

गजल और भजन को किसी भी धर्म में नही बदले जब भी गाएं दिल से मानवता के लिए ही गाये तभी इंसान का जीवन सार्थक सफल सिद्ध होता है मो. हुसैन ने प्रषंसको की फरमाईष पर कलिया ना बिछाना हम पलके बिछाने वाले है गजल प्रस्तुत की तो सभी मंत्रमुग्ध हो गए । रियलटी षो अच्छा है लेकिन समय से पहले षोहरत गलत है । कृति संस्था द्वारा 1995 में नीमच में प्रस्तुत गजल कार्यक्रम की स्मृतिया आज भी हमारे जेहन में है जब बालकवि बैरागी ने हमारी गजल को सुना था । उल्लेखनीय है कि अन्र्तराश्ट्रीय प्रख्यात गजल कलाकार अहमद हुसैन, मोहम्मद हुसैन उज्जैन में उनके मित्र चेतन खिमेसरा के भाई राजेन्द्र खिमेसरा की पुत्री के विवाह में षामिल होने महाकाल की नगरी उज्जैन जाते समय नीमच प्रवास पर रूके तो गजल कलाकार एवं कृति संस्था द्वारा अहमद हुसैन, मोहम्मद हुसैन का पुश्पमालाओं से स्वागत सम्मान किया गया । और उन्होने 1995 के छायाचित्र की एलबम प्रर्दषित की जिसे देख कर वे अभिभूत हो गए ।

इस अवसर पर गजलकार सुरेष कान्हा गुलषन, गुलषन कान्हा, किषोर जेवरिया, प्रमोद रामावत प्रमोद, सुरेष सन्नाटा, जीवन कोषिक, सत्येन्द्र सक्सेना, डाॅ. पृथ्वीसिंह वर्मा, प्रकाष भटृ, रघुनंदन पाराषर, अजय राणावत, नरेन्द्र लोढ़ा, मंजुला धीर, राजेष जायसवाल विडियो, भरत जाजु, नरेन्द्र पोरवाल सहित बड़ी संख्या में गणमान्य लोग उपस्थित थे । 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.