खबरे WOW: इस IPS ने दूसरी बार ठुकराया बिग बॉस का ऑफर, फिटनेस के आगे बॉलीवुड स्टार्स भी हैं 'फेल', पढें खबर BIG NEWS: पुलिस ने हत्‍या करनें वालें आरोपी को किया गिरफ्तार, ट्रेन में चने बेचने वाला निकला हत्‍यारा, पढें खबर POLITICS: महाराष्‍ट्र कैबिनेट का विस्‍तार आज, ये नेता लेंगे मंत्री पद की शपथ, पढें खबर WOW: पाकिस्तानी कप्तान सरफराज के मामा बोले- बड़ी जीत दर्ज करे टीम इंडिया, पढें खबर NEWS: जिलें के सहकारी कर्मचारियों का आंदोलन 12वें दिन भी जारी, पढें खबर OMG ! पहलें बेटी और बेटी पर किया चाकू से वार, फिर गटक लिया जहरिला पदार्थ, आखिर क्‍यों, पढें और जानें BIG REPORT: शहर के सरस डेयरी पहुंची एसीबी टीम, क्यों बढ गई कर्मचारियों की धड़कनें, पढें खबर BIG NEWS: इस शहर में 500 रूपए में बिकता है पानी, रोजाना लाखों लीटर पानी का हो रहा अवैध व्‍यापार, पढें खबर POLITICS: कांग्रेस ने कर ली थी सरकार बनाने की तैयारी, राहुल ने तय कर लिए थे मंत्रियों के नाम-रिपोर्ट, पढें खबर WOW: कंपनी का नया फार्मूला, बिजली गुल, तो वॉट्सएप करेगा आपकी मदद, पढें खबर OMG ! भीड़ भरे बाजार में दुकानदार पर युवकों ने फेंक दिया खोलता हुआ पानी, पढें खबर BIG NEWS: अगर आप भी पी रहे है डिस्‍पोजल में चाय, तो हो जाए सावधान, हो सकती है घातक बिमारी, जाननें के लिए पढें यें खबर OMG ! अगर समय पर मानसून नहीं आया तो 5 हजार श्रमिक होंगे बेरोजगार, पढें खबर

HEALTH: डॉक्टरों से पहले और बेहतर तरीके से लंग कैंसर का पता लगाएगा गूगल का AI

Image not avalible

HEALTH: डॉक्टरों से पहले और बेहतर तरीके से लंग कैंसर का पता लगाएगा गूगल का AI

डेस्‍क :-

गूगल के वैज्ञानिकों ने एक नया आर्टिफिशल इंटेलिजेंस मॉडल विकसित किया है और वैज्ञानिकों का दावा है कि यह मॉडल एक्सपर्ट डॉक्टरों की तुलना में ज्यादा जल्दी और बेहतर तरीके से फेफड़ों के कैंसर का पता लगा सकता है। आंकड़ों पर गौर करें तो सभी तरह के कैंसर के बीच फेफड़ों के कैंसर की वजह से सबसे ज्यादा लोगों की मौत होती है। 

रेडियॉल्जिस्ट्स से आगे है नया डीप लर्निंग सिस्टम 
अनुसंधानकर्ताओं की मानें तो डीप लर्निंग जो आर्टिफिशल इंटेलिजेंस का एक फॉर्म है उसमें कम्प्यूटर्स को इस तरह से ट्रेन किया गया है कि वे फेफड़ों में मौजूद प्राणघातक कैंसर की मौजूदगी का जल्दी और बेहतर तरीके से पता लगाने में किसी भी एक्सपर्ट रेडियॉल्जिस्ट की तुलना में कहीं आगे है। इस डीप-लर्निंग सिस्टम में पहले से किए गए सीटी स्कैन और जब भी जरूरत हो मरीज से इनपुट के तौर पर फिर से एक सीटी स्कैन लेकर दोनों का ही इस्तेमाल करता है। 

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस 3डी इमेज की जांच करता है 
एक्सपर्ट्स की मानें तो आमतौर पर रेडियॉल्जिस्ट्स सैंकड़ों 2डी इमेजेज या सिंगल सीटी स्कैन इमेज को एग्जैमिन करते हैं। लेकिन यह नया मशीन लर्निंग सिस्टम 3डी इमेज में फेफड़ों को देखता है। आर्टिफिशल इंटेलिजेंस AI, 3डी में बहुत ज्यादा सेंसेटिव हो जाता है और रेडियॉल्जिस्ट्स की आंखों की तुलना में कहीं जल्दी और बेहतर तरीके से फेफड़ों में मौजूद कैंसर का पता लगा लेता है। 

इस नए सिस्टम की क्लिनिकल जांच की जरूरत 
हालांकि इस नई सिस्टम की क्लिनिकल जांच करने की जरूरत है ताकि इस मॉडल के जरिए फेफड़ों के कैंसर से जूझ रही एक बड़ी आबादी की मदद की जा सके और उन्हें बेहतर और जल्दी इलाज मुहैया कराया जा सके।

 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.