खबरे VIDEO NEWS : एमपी के लिये आज का दिन बड़ा, शुरू होगी कोर्ट में भौतिक रूप से सुनावई, इन्हे ही मिलेगी अनुमति, ये दुकाने रहेगी बंद, देखे एडिटर नवीन पाटीदार के साथ BIG BREAKING: मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने आदेश जारी किया, आज से कोर्ट में शुरू होगी भौतिक सुनवाई, गाइडलाइन का करना होगा पालन, पढें खबर BIG NEWS : राम मंदिर निर्माण के लिए सिंधिया ने दिया 5 लाख का दान, ट्वीट कर कहा राम काज कीन्हे बिना मोहि कहां विश्राम, पढें खबर BREAKING NEWS : कर्फ्यू हटा लेकिन एक साथ खड़े नहीं हो सकते पांच से ज्यादा व्यक्ति, जरूरतों अनुसार किए गए ये बदलाव, पढ़े खबर BREAKING NEWS : गांव में बन रही थी कच्ची शराब, विभाग ने 125 किलो महुआ लाहन किया जब्त, पढ़े खबर PILITICS NEWS : कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस करेगी सोमवार को रैली, एक हजार ट्रैक्टरो पर किसानों को लाने का बनाया लक्ष्य, पढ़े खबर BADI KHABAR : खुशी बदली गम में, सुबह होना था भोज, लेकिन उसी दोपहर घर से उठी मां-बेटी की अर्थी, पढ़े खबर BREAKING NEWS : 12 दिन में हुई 112 कौओं की मौत, स्टेट लैब में जांच के लिए भेजे, 28 सैंपल आए पॉजिटिव, पढ़े खबर BREAKING NEWS : 15 साल की लड़की को झांसा देकर बुलाया अपने शहर, मामा लेने आया तो किया हमला, पढ़े खबर BIG NEWS : सोमवार से सभी अदालतों में होगी सुनवाई, जबलपुर हाईकोर्ट ने जारी किए आदेश, पढ़े खबर BADI KHABAR : सरवानिया मे केबिनेट मंत्री के समक्ष युवा किसान सम्मेलन मे 40 लोगों ने छोड़ी कांग्रेस ,थामा भाजपा का दामन, पढ़ें दिनेश वीरवाल की खबर BIG NEWS : महिला सम्मान अभियान के अंतर्गत थाना रामपुरा के भोई मोहल्ला में कार्यक्रम संपन्न, पढ़े अजयसिहं सिसौदिया की खबर  BIG BREAKING : मंदसौर पुलिस का हल्लाबोल, 4235 लीटर महुआ लहान किया नष्ट, 13 आरोपियों को मौके से गिरफ्तार, पढ़े रवि पोरवाल की खबर 

HEALTH: युवा हो रहे रीढ़ की बीमारी के शिकार, गैजेट्स पहुंचा रहे नुकसान

Image not avalible

HEALTH: युवा हो रहे रीढ़ की बीमारी के शिकार, गैजेट्स पहुंचा रहे नुकसान

डेस्‍क :-

जो युवा गैजेट्स का इस्तेमाल अधिक करते हैं और लंबे समय तक एक ही पोजीशन में बैठकर काम करते हैं, उन्हें 'रिपिटिटिव इन्जरी' होने की आशंका बढ़ जाती है। इस प्रकार के 80 प्रतिशत मामलों का समाधान जीवनशैली में बदलाव से किया जा सकता है, जैसे अच्छा पोषण और भरपूर व्यायाम आदि अपनाकर। 20 से 40 साल की उम्र वाले प्रोफेशनल्स के बीच रीढ़ से जुड़ी समस्याएं अधिक देखी जा रही हैं।

रिपिटिटिव स्ट्रेस इन्जरी (आरएसआई) को बार-बार एक ही प्रकार की गतिशीलता और ओवर यूज की वजह से मांसपेशियों, टेंडंस और नव्र्स में दर्द के रूप में परिभाषित किया जाता है। इस स्थिति को ओवरयूज सिंड्रोम, वर्क रिलेटेड अपर लिंब डिसॉर्डर या नॉन-स्पेसिफिक अपर लिंब के रूप में भी जाना जाता है। इस आयुवर्ग वाले अधिकतर लोग वर्किंग प्रोफेशनल होते हैं जो ऑफिस पहुंचने के लंबी दूरी तक यात्रा करके, ड्राइव करके पहुंचते हैं और इसके बाद पूरा दिन अधिकतर समय एक जगह बैठकर काम करते रहते हैं। वे कम्प्यूटर या लैपटॉप पर काम करते हैं, लंबी मीटिंग के लिए बैठते हैं और अपने मोबाइल पर उपलब्ध हो चुके सोशल मीडिया पर व्यस्त रहते हैं। घर पहुंचने के बाद ये लोग किताबें पढ़ने के लिए गैजेट का इस्तेमाल करते हैं और पढ़ते-पढ़ते सो जाते हैं।

स्क्रीन का इतना लंबा एक्‍पोजर बना सकता है इन बीमारियों का शिकार 
स्क्रीन का इतना लंबा और अनावश्यक एक्सपोजर स्पाइन पर बेकार का तनाव डालता है और इससे लिगामेंट में स्प्रेन का खतरा बढ़ जाता है जो वर्टिब्रा को बांधकर रखता है, ऐसे में मांसपेशियों में कड़ापन आने लगता है और डिस्क में समस्या होने का खतरा बढ़ जाता है।

स्लिप डिस्क, रिपिटिटिव स्ट्रेस इन्जरी और सोर बैक का बढ़ता है खतरा 
इंसान की रीढ़ को मूवमेंट के सपोर्ट के लिए डिजाइन की गई है और अगर यह इस्तेमाल में रहती हैं तो स्वस्थ्य बनी रहती है। आज के युवाओं को समस्या इसलिए हो रही है, क्योंकि वे निष्क्रिय जीवनशैली जी रहे हैं, जिसमें गैजेट पर निर्भरता काफी ज्यादा बढ़ गई है। अधिकतर युवाओं में देखी जा रही आम समस्या है सर्विकल स्पाइन और पीठ की, जैसे कि स्लिप डिस्क, रिपिटिटिव स्ट्रेस इन्जरी, सोर बैक और लिमामेंट की चोट।

40 साल से कम उम्र के ज्‍यादा मरीज 
पिछले 12 महीनों में डॉक्‍टर के पास हर महीने औसतन 15.20 प्रतिशत ऐसे मरीज आ रहे हैं जो 40 साल से कम उम्र के होते हैं लेकिन उन्हें स्पाइन की गंभीर समस्या हो चुकी है और इनमें रिपिटिटिव स्ट्रेस इन्जरी सबसे ज्यादा आम है। 

इस मामले में सबसे जरूरी है समय पर समस्या की पहचान, जिससे मेडिकल और सर्जिकल इंटर्वेशन की जरूरत कम पड़ती है और समस्या का समाधान जीवनशैली में बदलाव लागू किया जा सकता है। इसके तहत अच्छा पोषण, हल्का व्यायाम और नियमित अंतराल में थोड़ी-थोड़ी देर तक टहलकर सिटिंग टाइम को कम करके दिक्कतों को दूर किया जा सकता है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NETWORK PVT LTD 2020. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.