खबरे BIG NEWS: अज्ञात बदमाशों ने एटीएम में की तोडफोड, किया चोरी का प्रयास, हुए नाकाम, घटना सीसीटीवी कैमरें में कैद, पुलिस ने की जांच शुरू, पढें खबर BIG NEWS: पुलिस ने मनाया स्‍मृति दिवस, शस्त्र झुकाकर और शोक बिगुल बजाकर दी शहीद जवानों को सलामी, पढें खबर BIG NEWS: शिक्षकों ने कलेक्टर से की प्राचार्य की शिकायत, कहा, करतें है अपशब्‍दों का प्रयोग, पढें खबर BIG NEWS: कुएं में तैरता दिखाई दिया अज्ञात व्‍यक्ति का शव, ईलाकें में फैली सनसनी, पुलिस ने बनाया पंचनामा, जांच शुरू, पढें खबर NEWS: जिला केन्द्र गायत्री परिवार ट्रस्ट का पुर्नगठन, बैठक संपन्न, पढें खबर NEWS: भाजपा मंडल भानपुरा ने अप्रत्यक्ष निर्वाचन प्रणाली के विरोध में सौंपा ज्ञापन, पढें खबर WOW: बारिश का दौर थमा, खेतों में भरा पानी सूखा , अब रबी की बुवाई करने जुटे किसान, पढें कैलाश शर्मा की खबर NEWS: उदय पब्लिक स्कूल में मनाई दीपावली, बच्चों ने दी मनमोहक प्रस्तुतियां, पढें कैलाश शर्मा की खबर NEWS: तेज रफ्तार कार ने बाइक सवार को मारी टक्‍कर, महिला गंभीर, पढें खबर NEWS: नगर में समाजजनों द्वारा मनाया जाएगा मोहर्रम पर्व, निकाले जाएंगे ताजिये, बाजार में भीड, नहीं है यातायात सुरक्षा के इंतजाम, पढें अब्‍दुल ईरानी की खबर NEWS: शहर में निःशुल्‍क स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण शिविर का आयोजन, हुई 250 मरीजों की जांच, पढें खबर WOW: शतरंज क्‍लब के तत्‍वाधान में 2 दिवसीय जिला स्‍तरीय अभिभाषक शतरंज प्रतियोगिता का आयोजन, पढें खबर NEWS: क्रोध मुक्त और शांतिपूर्ण जीवन के लिए प्रभु के प्रति आस्थावान होना जरुरी, पढें खबर NEWS: भारतीय शिक्षण मंडल की मनाई जाएगी 50वीं वर्षगांठ, पढें खबर NEWS: 11 साल से फरार स्थाई वारंटी को पुलिस ने किया गिरफ्तार, पढें कैलाश शर्मा की खबर BIG NEWS: करोड़ों के अस्पताल पर भारी पड़ रही एम्बुलेंस में मुफ्त डिलीवरी, 108 एम्बुलेंस स्टाफ ने 6 माह में कराई 30 सामान्य डिलीवरी, पढें खबर NEWS: जीवनोपयोगी सामग्री गरीबों को करें दान, पढें खबर

HEALTH: हर साल 52 हजार Plastic कण निगलते हैं हम

Image not avalible

HEALTH: हर साल 52 हजार Plastic कण निगलते हैं हम

डेस्‍क :-

प्लास्टिक वेस्ट किस तरह हमारी सेहत को सीधे तौर पर नुकसान पहुंचा रहा है इसका एक आकलन सामने आया है। बुधवार को सामने आए एक नए विश्लेषण में कहा गया है कि हर साल भोजन और सांस के जरिए हजारों माइक्रोप्लास्टिक कण मानव शरीर के अंदर प्रवेश कर जाते हैं। इस रिपोर्ट के साथ ही यह सवाल फिर से पैदा हो गया है कि प्लास्टिक वेस्ट हमारे लिए कितना नुकसानदेह है। 

मानव निर्मित उत्पादों से टूटकर बनते हैं माइक्रोप्लास्टिक कण 
माइक्रोप्लास्टिक, प्लास्टिक के महीन कण होते हैं जो मानव निर्मित उत्पादों जैसे सिंथेटिक कपड़ों, टायर और कॉन्टैक्ट लेंस आदि से टूट कर बनते हैं। माइक्रोप्लास्टिक पृथ्वी पर हर जगह मिलने वाली सामग्रियों में से एक है। वे दुनिया के सबसे ऊंचे कुछ ग्लेशियरों और सबसे गहरी समुद्री खाइयों की सतह पर भी पाए जाते हैं। पिछले कई अध्ययनों से स्पष्ट हुआ है कि कैसे माइक्रोप्लास्टिक मानव की खाद्य श्रृंखला में शामिल हो सकता है। पिछले साल सामने आए एक अध्ययन के अनुसार लगभग सभी प्रमुख बोतलबंद पानी ब्रांडों के नमूनों में भी माइक्रोप्लास्टिक पाया गया था। 

प्रदूषित हवा को भी शामिल कर लें तो आंकड़ा 1 लाख 21 हजार प्लास्टिक कण 
इस शोध में कनाडा के वैज्ञानिकों ने माइक्रोप्लास्टिक contamination पर सैकड़ों आंकड़ों का विश्लेषण किया और उनकी तुलना अमेरिकी लोगों के आहार और उपभोग की आदतों से की। उन्होंने पाया कि हर साल एक वयस्क पुरुष 52 हजार माइक्रोप्लास्टिक कणों को निगल सकता है। जिस प्रदूषित वातावरण में हम सांस लेते हैं अगर उसे भी इसमें शामिल कर लिया जाए तो यह आंकड़ा बढ़कर 1 लाख 21 हजार कणों तक पहुंच जाएगा, जो हर दिन 320 प्लास्टिक पार्टिकल्स के बराबर है। 

सिर्फ बॉटल वाला पानी पीने वालों में अतिरिक्त 90 हजार माइक्रोप्लास्टिक कण 
इन्वायरनमेंटल साइंस ऐंड टेक्नॉलजी नाम के जर्नल में प्रकाशित इस स्टडी के नतीजे बताते हैं कि अगर कोई व्यक्ति सिर्फ बॉटल वाला पानी ही पिए तो उसके शरीर में हर साल अतिरिक्त 90 हजार माइक्रोप्लास्टिक के कण पहुंचने लगेंगे। स्टडी के ऑथर ने बताया कि उनके आंकड़े सिर्फ एक अनुमान है। कोई व्यक्ति कितने प्लास्टिक का सेवन करता है यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि वह कहां रहता है और क्या खाता है। 

 

सेहत पर क्या और कैसा असर पड़ता है, इसकी फिलहाल जानकारी नहीं 
इन माइक्रोप्लास्टिक के कणों का इंसान के शरीर और सेहत पर क्या असर पड़ता है इस बारे में भी अभी कोई निश्चित जानकारी सामने नहीं आयी है। लेकिन इतना जरूर है कि 130 माइक्रोमीटर से छोटे माइक्रोप्लास्टिक के कण इंसान के टिशू में जाकर इम्यूनिटी को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। हालांकि अभी इस बात के पुख्ता सबूत नहीं मिले हैं कि स्टडी में जिन माइक्रोप्लास्टिक के कणों की बात की जा रही है वे इंसान की सेहत के लिए कितने खतरनाक हैं। 

 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.