खबरे OMG ! एक तरफ पुलिस पढ़ा रही यातायात का पाठ, दूसरी और उड़ रही यातायात नियमों की धज्जियां, जान जोखिम में डाल सफर कर रहे लोग, पढें WOW: प्रमुख चिकित्‍सा अधिकारी की अध्‍यक्षता में बैठक का आयोजन, अब चिकित्‍सालय के स्‍टॉफ को आना होगा ड्रेस कोड में, पढें खबर BIG NEWS: जिला चिकित्सालयों में जांचें फिर हुई शुरू रोगियों को मिलेगी राहत, पढें खबर OMG ! गांव से 5 साल की मासूम लापता, मासूम को ढूंढ रहा था पुलिस के साथ पूरा गांव, वह अपने खेत पर इस हालत में मिली, पढें खबर OMG ! नगरीय निकाय चुनाव को लेकर भाजपा ने की तैयारी, बिना पार्षद सभापति बनने के मामले में भाजपा ने किया विरोध, पढें खबर NEWS: शहर के 4 तैराक पहुंचेंगे इंदौर, राज्‍य स्‍तरीय तैराकी प्रतियोगिता में दिखाएंगे दम-खम, पढें खबर BIG NEWS: चित्तौडग़ढ़, निम्बाहेड़ा व रावतभाटा में अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन, नगरीय निकाय चुनाव की तैयारियां शुरू, कमेटियों का किया गठन, पढें खबर BIG NEWS: पुलिसकर्मी वाहन चालकों से कर रहे थे अवैध वसूली, पुलिस कप्‍तान को मिली शिकायत, 2 पुलिसकर्मियों को तत्‍काल प्रभार से किया निलंबित, पढें खबर NEWS: त्यौहारों के साथ जुड़ी शादियों की मांग, दिखने लगा उत्साह, फर्नीचर शोरूमों पर कॉर्नर सोफा व डबल बैड की अधिक मांग, पढें खबर OMG ! रिपोर्ट दर्ज होने के 4 माह बाद भी पुलिस ने नहीं की कार्रवाई, जांच की कछुआ चाल, ऑडिट को बनाया आड, पढें खबर BIG NEWS: हुसैन टेकरी पर हुआ मातम-ए-खंदक का आयोजन, जलतें अंगारो पर निकलें 42 दूल्हे, पढें खबर NEWS: सरपंच का रिपोर्ट कार्ड, बामनिया पंचायत के सरपंच हुवे फैल, जर्जर हुई गांव की गलियां, पंचायत भवन बना गोशाला व पार्किग मैदान, ग्रामीणो ने उठाई आवाज, नही मिले गरीब ग्रामीणो को पीएम आवास, डीएम तक पहुंचा मामला, पढें मुश्‍ताक अली की खबर NEWS: श्रीमति साधना बैरागी अखिल भारतीय वैष्णव सेवा संघ की महिला प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष नियुक्‍त, पढें आशिष बैरागी की खबर BIG NEWS: नगर के शासकीय स्‍कूल अभिभावक बैठक का आयोजन, दी परीक्षा परिणामों की जानकारी, पढें दिनेश वीरवाल की खबर WOW: शासकीय उच्‍चतर माध्‍यमिक विधालय सरवानिया महाराज जैव विविधता में दुसरें स्‍थान पर, शहर में हर्ष की लहर, पढें दिनेश वीरवाल की खबर BIG BREAKING : शहर के बडे धनिया और हल्‍दी कारोबारी धीरेंद्र इंटरनेशन पर छापा, एडीएम सहित प्रशासन मौके पर, पढें ब्रेकिंग न्‍यूज 

POLITICS: कांग्रेस अध्यक्ष बनेंगे या नहीं, ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले, पार्टी लेगी फैसला, पढें खबर

Image not avalible

POLITICS: कांग्रेस अध्यक्ष बनेंगे या नहीं, ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले, पार्टी लेगी फैसला, पढें खबर

डेस्‍क :-

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि राहुल गांधी के इस्तीफ़े के बाद पार्टी अध्यक्ष पद के लिए  जल्द फैसला होना चाहिए. वक्त तेज़ी से बीत रहा है. सबको मिलकर फैसला लेना होगा. उन्होंने कहा मैं कभी कुर्सी की दौड़ में शामिल नहीं रहा

पार्टी लेगी फैसला-

अध्यक्ष पद के लिए उनके नाम की चर्चा पर सिंधिया बोले पार्टी का यह संयुक्त फैसला होगा.मैं दुबारा कहूंगा कि फैसला जल्द होना चाहिए, समय बीत रहा है.जल्द ही सबको फैसला लेना होगा

भोपाल में प्रेस कॉन्फ्रेंस में ज्योतिरादित्य से  प्रदेश अध्यक्ष या राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर तैयारी को लेकर सवाल किया गया तो वो बोले-मैं इन 17 साल में  कभी भी कुर्सी की दौड़ में नहीं रहा. मुझे जो ज़िम्मेदारी मिली उसे निभाने की कोशिश की.मैं लोगों की सेवा के लिए लड़ूंगा,मैं सत्ता के लिए कभी नहीं लड़ूँगा

फ्रंटफुट पर बैटिंग-

लोकसभा चुनाव में ख़ुद की हार पर उन्होंने कहा-मैं कभी बैकफ़ुट पर बैटिंग नहीं करता, फ़्रंटफ़ुट पर खेलता हूं.जो परिणाम आए वो सरमाथे पर हैं. जो परिणाम आए उसके लिए हम ज़िम्मेदार हैं. वो आगे बोले, ज़रूर ज्योतिरादित्य सिंधिया की कमी रही जो वो हारे. हमें दोबारा मेहनत करके जनता का विश्वास जितना होगा

कांग्रेस के लिए गंभीर समय

राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से इस्तीफे पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा- कांग्रेस के लिए ये बड़ा गंभीर समय है.हमने बहुत कोशिश की कि हम उन्हें मना पाए लेकिन वो कोई फैसला लेते हैं तो अडिग रहते हैं.इस बात का गर्व भी है हमें. लेकिन अब समय हो गया है. अब ऐसे शख्स को मौका दिया जाना चाहिए जो कांग्रेस में नई जान फूंक सके.

भाजपा का एक ही लक्ष्य

भाजपा की एक ही सोच और एक ही लक्ष्य है. सरकार बनाओ मौज उड़ाओ. सिंधिया ने हार के बाद प्रदेश में एक्टिव रहने सवाल पर कहा-मेरी दौड़ सत्ता के लिए नहीं है. बल्कि मेरी दौड़ जनता की सेवा के लिए है. जनता के लिए आवाज़ उठाना मेरा काम है.

मंत्री-अफसरों को नसीहत

सिंधिया समर्थित मंत्रियों पर ब्यूरोक्रेसी हावी होने के सवाल पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, सरकार चलाने में ना कोई मंत्री ऊपर होता है ना अधिकारी. फ़र्स्ट अमंग्स ईक्वल नहीं होता.टीम भावना से काम चलना चाहिए. न ब्यूरोक्रेसी ऊपर न मंत्री ऊपर. न मुख्यमंत्री ऊपर.

पार्टी में वंशवाद

पार्टी में वंशवाद के सवाल पर सिंधिया बोले-पत्रकार, व्यापारी, वकील, डॉक्टर का बेटा वही पेशा अपनाए तो ठीक, लेकिन अगर किसी नेता के बेटे बेटी को तपने के बाद सदन में बैठने का मौका मिलता तो उसे वंशवाद क्यों कहा जाता है.वंशवाद वाले अगर जीतते हैं तो हारे भी हैं.उनमें से एक मैं भी आपके सामने बैठा हूं


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.