खबरे BIG REPORT: चित्तौड़गढ़ दुर्ग पर सैलानियों के साथ फोटोग्राफरों ने की 'शर्मनाक हरकत', 8 आरोपी गिरफ्तार, पढें खबर BIG NEWS: राजस्थान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल के मुख्य समारोह का संचालन करेंगी कवयित्री प्रेरणा ठाकरे, पढें खबर VIDEO: सोनिया गांधी के ऐलान के बाद राहुल की करीबी मैडम नटराजन बनाई जा सकती है एमपी पीसीसी चीफ, देखे जर्नलिस्‍ट मुस्‍तफा हुसैन की OMG ! अगर आपकें पास भी आता है केवाईसी अपडेट के लिए फोन, तो हो जाए सावधान, नहीं तो आपकें खातें से भी गायब हो सकतें है हजारों रूपए, इन नंबरों पर देंवे ध्‍यान, पढें खबर BIG NEWS: पुलिस अधिकारी बनकर हाइवे पर कर रहें थे वसूली, पुलिस ने की कार्रवाही, सिपाही और होमगार्ड जवान को किया गिरफ्तार, पढें खबर WEATHER: जब छाई कोहर की छाई चादर, क्या देखने को मिला नजारा, सर्द हवाओं ने ठिठुराया, दिन में भी तापते रहे अलाव, पढें खबर BIG NEWS: आधा दर्जन मेडिकल स्टोर्स पर पहुंचकर लिए दवाईयों के सैंपल, जांच के लिए भेजे, अमानक पाए जानें पर होगी कार्रवाही, पढें खबर BIG NEWS: अब हर शुक्रवार शाम को होगी जनाधिकार व 181 की समीक्षा, पढें खबर BIG REPORT: सांसद बोले, मेरी कुर्सी गलत जगह लगी है, मंत्री ने कहा, मैं आपको बैठक से बाहर कर सकता हूं, पढें खबर WOW: CRPF के जवानों ने पेश की मिसाल, कंधे पर लादकर गर्भवती महिला को पहुंचाया अस्पताल, पढें खबर BIG NEWS: मध्यप्रदेश के इस शहर में वायु-जल प्रदूषण की जांच, वैज्ञानिकों की टीम पहुंची, 4 स्थानों पर मशीन से की प्रदूषण की जांच, पढें खबर NEWS: समस्त पत्रकारों को एक साथ लेकर चलना मेरी पहली प़ाथमिकता, आप मुजे आदेशित करे, वरिष्‍ठ पत्रकार परिहार, पढें खबर   BIG REPORT: तिलस्वा महादेव जा रही बोलेरो कार अनियंत्रित होकर खाई पलटी, 2 की मौके पर मौत, 3 गंभीर, उपचार के बाद रैफर, पढें मेहबूब मेव की खबर NEWS: नगर में यज्ञमणि नरेंद्र नागदा के मुखारविंद 7 दिवसीय भागवत कथा का आयोजन, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर

NEWS: कांठल की धरा पर बगुलों का गूंज रहा कलरव, पढें खबर

Image not avalible

NEWS: कांठल की धरा पर बगुलों का गूंज रहा कलरव, पढें खबर

प्रतापगढ़ :-

प्रतापगढ़.इन दिनों मानसून शुरु होने के साथ ही कई स्थानों पर पेड़ पर बगुलों ने अपने आशियाने बना लिए है। इससे सुबह से शाम तक दिनभर बगुलों का कलरव गूंज रहा है। जुलाई-अगस्त का समय केटल इग्रेट (गाय बगुला) के लिए प्रजनन का रहता है। ऐसे में इन पेड़ों पर घोंसले बनाए गए है। जहां बगुलों की अठखेलियां देखी जा सकती है। गौरतलब है कि यह समूह में रहकर ऊंचाई वाले कंटीले और विशेषकर बबूल के पेड़ों पर अपने घोंसले बनाते है। जिले में गांवों और खेतों पर पेड़ों पर बगुले के घोंसले बने हुए है। खेतों में इनकी गतिविधियों देखी जा सकती है।

होते है कृषकों के होते है मित्र- 

केटल इग्रेट का भोजन मुख्यत: कीट, छोटे रेंगने वाले जीव होते है। खेतों में सिंचाई, हंकाई, मवेशियों के विचरण करने के दौरान इस प्रकार के कीट जमीन से बाहर निकलते है, इन कीटों का भक्षण करने के कारण किसानों के दोस्त भी कहे जाते है।

कंटीले पेड़ होते है सुरक्षित ठिकाने-

गौरतलब है कि मानसून काल में बगुले प्रजनन करते है। सुरक्षा के कारण यह अक्सर बबूल, कांटेदार पेड़ों पर समूह में घोंसले बनाते है। जिससे मांसाहारी पक्षी औ अन्य जीवों से इनके अंडे और बच्चे की सुरक्षा हो जाती है। मादा इग्रेट एक बार में अमुमन दो से तीन अंडे देते है।पक्षीविद् देवेन्द्र मिस्त्री ने बताया कि रात्रि में यह अक्सर एक ही पसंदीदा पेड़ों पर समूह के रूप में एक ही विश्राम करते है।बार-बार उसी जगह पर आते है। 

इसलिए नाम है केटल इग्रेट-

बगुले की यह प्रजाति केटल इग्रेट नाम से जानी जताी है। इसका कारण यह है कि ये खेतों, बीड़ आदि स्थानों पर मवेशियो के साथ विचरण करते रहते है। इन मवेशियों के चलने के दौरान कीट, छोटे जीव आदि जमीन से बाहर निकलते है। इनका भक्षण बगले करते है।इस कारण इस बगुले को को केटल इग्रेट कहा जाता है। 

बगुले है किसानों के मित्र, करें संरक्षण-

केटल इग्रेट किसानों का दोस्त होता है। जो खेतों में निकलने वालें कीटों का भक्षण करता है।इसका हमें संरक्षण करना चाहिए। अभी मानसून के बाद इसका प्रजनन काल चल रहा है। अभी पेड़ों पर आशियाने बना रखे है। जहां अभी चूजे निकल रहे हैं।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.