खबरे NEWS: नगर में धुमधाम व हर्षोल्लास से मनाया गया कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी पर्व, पढें आशिष बैरागी की खबर BIG NEWS: दिल्ली में गिराया संत रविदास मंदिर, नीमच में आज अम्बेडकर यूथ एक्सप्रेस एवं सभी सामाजिक संगठनों ने जिला कलेक्‍टर को सौंपा ज्ञापन, पढें आजाद मंसूरी की खबर BIG REPORT: जिले के इस पुलिस थानें में थानें के ही एसआई के खिलाफ हुई शिकायत, मामला लाखों रूपए का, पढें शब्‍बीर बोहरा की खबर JANMASHATHAMI SPECIAL: जन्‍माष्‍टमी पर्व पर ग्राम हिंगोरिया में मटकी फोड प्रतियोगिता का आयोजन, पढें दीपक बैरागी की खबर NEWS: सांवरिया सेठजी को लगाया सवा क्विंटल मख्खन केक का भोग, पढें खबर WOW: नीमच जिले की लोकेशन को फिल्मी दुनिया तक ले जाने का प्रयास कर रहा है नगर के ये बेटा, किया फिल्‍म जगत में नाम रोशन, पढें आशिष बैरागी की खास खबर BIG NEWS: सोयाबीन फसल में अफलन होने पर तुरंत सर्वे रिपोर्ट करें प्रस्तुत, कलेक्टर ने कृषि विभाग को दिए निर्देश, पढें खबर NEWS: मन की बात में बोले पीएम मोदी, सत्य और सेवा के साथ रहा है गांधी जी का अटूट नाता, पढें खबर BIG REPORT: कक्षा चौथी के मासूंम बच्‍चें को शिक्षक ने बेरहमी से पीटा, परिजनों ने जिला कलेक्‍टर को शिकायत, पढें खबर NEWS: किशन अहिरवार को उज्जैन संभाग प्रभारी नियुक्‍त, पढें खबर OMG ! सिंगरौली आवारा पशुओं का सड़क पर डेरा, दुर्घटनाओं में लोग हो रहे हताहत, राहगिरों को हो रहीं परेशानी, पढें उपेंद्र दुबे की खबर TOP NEWS: जिलें में मूसलाधार बारिश का दौर जारी, गांधी सागर बांध ने भरी उफान, अब तैयारी गेट खुलने की, पढें खबर BIG REPORT: जिला चिकित्‍सालय के जिम्‍मेदारों की लापरवाही एक बार फिर उजागर, लापरवाही से हुई जच्‍चा-बच्‍चा की मौत, परिजनों ने लगाया बडा आरोप, पढें उपेंद्र दुबे की खबर

REPORT : हम क्यों डरे सहमे है, आज़ाद भारत में आज हमारे में सच को सच कहने का माद्दा है, या फिर एक भारतीय पूरा जीवन डर में निकाल देता है, पढ़िए वरिष्ठ पत्रकार मुस्तफा हुसैन की फेसबुक वाल से

Image not avalible

REPORT : हम क्यों डरे सहमे है, आज़ाद भारत में आज हमारे में सच को सच कहने का माद्दा है, या फिर एक भारतीय पूरा जीवन डर में निकाल देता है, पढ़िए वरिष्ठ पत्रकार मुस्तफा हुसैन की फेसबुक वाल से

नीमच :-

आज महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आज़ाद की जयंती है. वैसे मेरे आइडियल शहीद भगत सिंह है लेकिन मेरे नज़दीक सम्मान सभी क्रांतिकारियों का उतना ही है जितना शहीद भगत सिंहजी का, आज महान क्रांतिकारी आज़ाद की जयंती  पर कुछ ख़याल मन में आया, सोचा आपसे शेयर करते है.

फ़्लैश बैक में गया तो सोचने लगा कितने मुश्किल दिन थे वो जब ये क्रांतिकारी तिरंगा थामे थे. वो अँगरेज़ जिनका पूरी दुनिया में कभी सूरज नहीं डूबता था, पूरी दुनिया पर उनका परचम लहराता था, ऐसे कठिन समय में इन क्रांतिकारियों ने अंग्रेजी सल्तनत के सामने अपना सीना ताना, क्या आज़ाद भारत में आज हमारे में सच को सच कहने का माद्दा है, या फिर एक भारतीय पूरा जीवन डर में निकाल देता है 

आज एक आम हिन्दुस्तानी फिर वह नेता हो, अफसर हो, व्यापारी हो या फिर आम आदमी हर कोई डरा सहमा है. अपने देश में हम क्यों डरे है, लोगो के अलावा हमें मौसम डराते है, तीज त्यौहार भी हम डर के ही मनाते है, ईद हो या हनुमान जयंती पुलिस के पहरे में मनती.मुझे समझ में नहीं आया जब अँगरेज़ थे तो ये क्रांतिकारी नहीं डरे फिर हम क्यों डरे सहमे है.

आज आम आदमी छोटी छोटी चीज़ो से डरता है, फिर वो बिजली विभाग का लाईन मेन हो या फिर नगर पालिका का बाबू, कोई सफाई वाले दरोगा से डरता है तो पुलिस के सिपाही से जिन लोगो से आम आदमी डरते है वे अपने ऊपर वालो के खौफ से डरे हुए है और ऊपर वाले नेताओ से चमके है और नेताओ की बात करे तो वे जनता से चमके है, लेकिन वे भी डर फैला रहे है कुल मिलाकर एक साइकल डर का बना हुआ है, सच कहने का साहस हम खोते जा रहे 

आज आम आदमी बेहिसाब समस्याओ से घिरा है, आम जीवन की नमालूम कितनी मुश्किलें है चाहे वो प्रशासन से हो, पुलिस से हो या फिर नेताओ से पर हम सच नहीं कह पाते हम सोचते भगत सिंह पड़ौसी के घर में पैदा हो, बुरा घटते देख हम आँखे मूँद लेते है, अपने हक़ के लिए लड़ने से हम खौफ खाते है, ऐसी स्थिति में मेरा सोचना है हम इन वीर   क्रांतिकारियों की जयंतिया क्यों मनाते है, क्यों फोटो अपनी दीवारों पर टांगते है.जब हम इनसे प्रेरणा नहीं ले सकते तो फिर इनकी तस्वीरों का क्या फायदा 

इन वीरो ने अंग्रेज़ो से लोहा लिया और देश के लिए अपने प्राणो की आहुति दी लेकिन हम डरपोक हो गए  ये देश हमारा  है, हमे इस देश में रहने का हक़ है, हमें संविधान ने उतने अधिकार दिए है जितने एक कलेक्टर या मिनिस्टर को फिर हम अपने हक़ के लिए गिड़गिड़ाते क्यों है, फ़रियाद करने के आदि हो गए हम. इस उम्मीद में बैठते है की कोई  आएगा  और हमारी मुश्किलों का अंत कर जाएगा, आज सरकारी दफ्तरों में यदि हम देखे तो मज़लूम और गरीब लोग धक्के  खाते मिलते है, वृद्धावस्था पेंशन नहीं मिलती, राशन की दूकान पर अनाज नहीं मिलता, घर में बिजली नहीं है और तो और पीने के पानी के लिए कत्ल हो जाते है, पटवारी बिना रूपए लिए खसरे खाते की नकल नहीं देता आखिर ये कैसे हालात है लेकिन इन हालातो के पीछे सबसे बड़े दोषी हम है क्योकि हम अपने हक़ के लिए लड़ना भूल गए है, आइये आज इस ख़ास दिन हम शहीद चंद्रशेखर आज़ाद को सच्ची श्रद्धांजलि देते हुए अपने हक़ के लिए लड़ना सीखे, क्योकि ये हमारा देश है और यहाँ के नागरिक है, जय हिन्द !  #mustafareporter #chandershekharazad #jayanti #azad #india #ilovemyindia 
अपनी अमूल्य राय यहाँ दीजिये 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.