खबरे BIG NEWS: रामपुरा के बाढ़ पीड़ितो के लिए डॉ. साजिद ने 250 से ज्यादा मरीजो को दी अपनी सेवाएं,आज भी रामपुरा में ही देंगे अपनी सेवाएं,पढे शाहिद अंसारी कि खबर BIG NEWS: मंदसौर के करीब 120 गांव बाढ़ की तबाही से पुरी तरह हुवे बर्बाद,बाढ़ यहां के लोगों का सब कुछ बहाकर ले गई, त्रासदी के 2 दिन बाद गांव पहुंचे SDM को लोगों का आक्रोश देखकर उल्टेा पांव भागना पड़ा.पढे खबर NEWS: ओमप्रकाश क्षत्रिय पाती में सम्मानित NEWS: चंबल नदी में उफान के कारण प्रशासन ने मुरैना के 89 गांवों में जारी किया अलर्ट,खतरे के निशान से 5 मीटर ऊपर बह रहा है चंबल का पानी,पढे खबर NEWS: पीएम नरेंद्र मोदी का जन्मदिन जावद भाजपा ने सेवा दिवस के रूप में मनाया,सरकारी अस्पदताल पहुंचकर मरीजो को फल वितरण किए,पढे आशीष बैरागी कि खबर NEWS रामपुरा बाढ पिडितो से मिली किरण शर्मा सीएम के साथ, हर संभव मदद का दिया भरोसा, पढें खबर VIDEO: रामपुरा बाढ़ पर सियासत, कमलनाथ सरकार के मंत्री बोले, शिवराज कर रहे राजनिती, देखे विडियों न्‍यूज NEWS: मंदसौर नगर के मुख्य मार्ग घंटाघर पहुंचे शिवराज, नाराज व्यापारियों ने किया चक्काजाम, पढें खबर NEWS: रामपुरा पहुँचे मानवाधिकार आयोग सदस्य, पढें खबर NEWS: कम होने लगा है गाधी सागर बाध का जलस्‍तर, 1311 पर पहुंचा, जल्‍द चालु होगा आवागमन, पढें खबर NEWS: मंदसौर में स्वास्थ्य परीक्षण शिविर के माध्यम से बाढ़ पीड़ितों का किया जा रहा उपचार, पढें खबर  NEWS: जावद में आज रात्रि 8 बजे प्रसिद्ध भजन सम्राट, गौ भक्त हिरालाल राव की भजन संध्या खोर दरवाजा में,पढे आशीष बैरागी कि खबर WOW: रामपुरा बाढ़ पीड़ितों के के लिये आगे आया लखेरा समाज, बांटे भोजन पैकेट, पढें खबर COMMODITY MARKET: कच्चा तेल उछला, सोने की चमक बढ़ी

BIG REPORT: कश्मीर घाटी में आगे भी अमन बनाए रखने के लिए सरकार ने बनाया यह प्लान, पढें खबर

Image not avalible

BIG REPORT: कश्मीर घाटी में आगे भी अमन बनाए रखने के लिए सरकार ने बनाया यह प्लान, पढें खबर

डेस्‍क :-

जम्मू-कश्मीर (Jammu And Kashmir) में नाकेबंदी और संचार ब्लैकआउट (Communications Blackout) धीरे-धीरे कम किया जा रहा है. इस महीने की शुरुआत में किए गए बदलावों के बाद किसी भी बुरे नतीजों से बचने के लिए सरकार ने व्यापक रणनीति अपनाई थी, जो अब सामान्य होती हुई दिख रही है. इस रणनीति के तहत राज्य के बड़े नेताओं को हिरासत में लिया गया, फोन और इंटरनेट लाइनों को प्रतिबंधित किया गया और कर्फ्यू लगाने जैसे फैसले लिए गए

सूत्रों का कहना है कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने हिंसक विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए राज्य में चार खास समूहों को संभालने की एक बेहद ही प्रभावशाली रणनीति तैयार की है. लोगों के पहले समूह को सरकार के अधिकारियों ने "मूवर्स एंड शेकर्स" करार दिया है. इसके तहत प्रदर्शनकारियों के बीच अपने लोगों को भेजकर खुफिया जानकारी हासिल करना शामिल है. ये लोग गुस्साई भीड़ में हिलमिल कर रहेंगे, किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएंगे

पहला समूह प्रदेश के नेताओं का-

इस तरह के प्रदर्शन के पीछे हुर्रियत या मुख्यधारा के राजनेताओं का हाथ होता है. पहले समूह में इन्हीं नेताओं को शामिल किया गया है. सूत्रों के मुताबिक इन नेताओं को हिरासत से रिहा कर नजरबंदी में रखा जाएगा. क्योंकि सरकार के लिए ये हाउस अरेस्ट की नीति फिट बैठती है और ये नीति जारी रहेगी

दूसरा समूह पत्थरबाजों का-

दूसरा समूह पत्थरबाजों और हिंसक प्रदर्शनकारियों का है, जिनमें ज्यादातर नए लड़के हैं. इनके लिए सरकार ने 'कम्युनिटी बॉन्ड' की एक रणनीति बनाई है, जिसमें 20 परिवार के सदस्यों और परिचितों को एक बॉन्ड पर हस्ताक्षर कराना शामिल है. इसके तहत वे सुनिश्चित करते हैं कि वे फिर से ऐसा नहीं करेंगे

तीसरे समूह में आतंकियों का-

तीसरे समूह में आतंकी हैं. प्रशासन को लगता है कि सेना सीमा और नियंत्रण रेखा पर ध्यान देगी, जहां से पाकिस्तान द्वारा आतंकवादियों को घाटी में घुसपैठ कराया जाता है. सरकार पंजाब और जम्मू में सीमा सुरक्षा की समीक्षा करने की भी योजना बना रही है

चौथा समूह मजहबी नेताओं का-

लोगों का चौथा समूह धार्मिक नेताओं जैसे प्रभावशाली व्यक्तियों का हैं. सूत्रों का कहना है कि सरकार उन धार्मिक नेताओं की पहचान करेगी और उन पर नज़र रखेगी, जिन्हें हिंसा भड़काने और अशांति फैलाते हुए देखा जाता है. अधिकारी ऐसे किसी भी व्यक्ति के साथ कठोरता से के साथ पेश आएंगे, और उन्हें फौरन गिरफ्तार करेंगे

जम्मू-कश्मीर अब दो हफ्ते से ज्यादा समय से इस स्थिति में है. जबसे सरकार ने पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को बाहर निकालना शुरू कर दिया था और पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती सहित लगभग 400 राजनीतिक नेताओं को उनके घरों में नजरबंद कर दिया था. कुछ प्रतिबंधों में ढील दी गई और शनिवार को कश्मीर घाटी के कुछ हिस्सों में 50,000 से अधिक लैंडलाइन फोन कनेक्शन बहाल कर दिए गए हैं. जम्मू और कश्मीर पुलिस ने कहा कि घाटी के कुछ हिस्सों में बड़ी सभाओं पर प्रतिबंध लगाने के आदेशों में ढील दी गई है. हालांकि प्रदेश में भारी सुरक्षा की स्थिति बनी रहेगी


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.