खबरे BREAKING NEWS: महू-नीमच हाईवें पर दो ट्रक चालकों में विवाद, एसडीओंपी और थाना प्रभारी मौके पर, पढें रवि पोरवाल की खबर BIG BREAKING: माता-पिता के साथ खेत पर जा रहा था 7 साल का मासूम, जंगली जानवर ने किया हमला, हुई दर्दनाक मौत, पढें खबर OMG ! विवादों में IIFA 2020, BJP ने काले रंग के झंडों पर जताई आपत्ति, कहा, ये मनहूसियत का प्रतीक, पढें खबर SHAHEEN BAG PROTEST: वजाहत हबीबुल्‍लाह ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया हलफनामा, अफरा-तफरी के लिए पुलिस को ठहराया जिम्‍मेदार, पढें खबर WOW: कमलनाथ सरकार की अब जिला, जनपद एवं ग्राम पंचायतों में प्रशासक बैठाने की तैयारी, ये है प्‍लान, पढें खबर BIG REPORT: रेलवे मार्च तक नहीं चलाएगा इन ट्रेनों को, 30 ट्रेनों की गति पर पडेगा असर, पढें खबर जानें ट्रेनों के नाम OMG ! मां ने बेटें को कहा, पढनें जा, बेटें ने किया मना, नाराज मां ने भेजा जंगल में, फिर हुआ यें, अब पसरा मातम, पढें खबर BIG NEWS: राजकीय महाविधालय में वार्षिकोत्‍सव एवं वॉटर कूलर का लोकार्पण, स्कूली विद्यार्थियों को भारद्वाज परिवार द्वारा वाटर कूलर की सौगात सराहनीय, आंजना, पढें खबर BIG NEWS: सरकारी की योजनाओं का लाभ मिलें मंदसौर को, ऐसा मेरा प्रयास रहेगा, केंद्रीय मंत्री गेहलोत, पढें खबर OMG ! पुरानें रिकॉर्ड से घबराया स्‍वास्‍थ्‍य विभाग, फिर किया स्‍वाइन फ्लू के लिए अलर्ट जारी, पढें खबर OMG ! खेत पर गया युवक हुआ लापता, परिजनों पहुंचे थानें, पारिवारिक विवाद के चलतें लगाया अपहरण का आरोप, पढें खबर BIG BREAKING: अज्ञात वाहन ने बाइक सवारों को मारी टक्‍कर, 2 युवक गंभीर, जिला अस्‍पताल रैफर, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर WOW: मुख‍बधिर बच्‍चों के लिए क्रिक्रेट प्रतियोगिता का आयोजन, एसपी रॉय और एएसपी मिश्रा ने बल्‍लेबाजी कर किया मैच का शुभारंभ, पढें अभिषेक शर्मा की खबर

BIG REPORT: कश्मीर घाटी में आगे भी अमन बनाए रखने के लिए सरकार ने बनाया यह प्लान, पढें खबर

Image not avalible

BIG REPORT: कश्मीर घाटी में आगे भी अमन बनाए रखने के लिए सरकार ने बनाया यह प्लान, पढें खबर

डेस्‍क :-

जम्मू-कश्मीर (Jammu And Kashmir) में नाकेबंदी और संचार ब्लैकआउट (Communications Blackout) धीरे-धीरे कम किया जा रहा है. इस महीने की शुरुआत में किए गए बदलावों के बाद किसी भी बुरे नतीजों से बचने के लिए सरकार ने व्यापक रणनीति अपनाई थी, जो अब सामान्य होती हुई दिख रही है. इस रणनीति के तहत राज्य के बड़े नेताओं को हिरासत में लिया गया, फोन और इंटरनेट लाइनों को प्रतिबंधित किया गया और कर्फ्यू लगाने जैसे फैसले लिए गए

सूत्रों का कहना है कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने हिंसक विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए राज्य में चार खास समूहों को संभालने की एक बेहद ही प्रभावशाली रणनीति तैयार की है. लोगों के पहले समूह को सरकार के अधिकारियों ने "मूवर्स एंड शेकर्स" करार दिया है. इसके तहत प्रदर्शनकारियों के बीच अपने लोगों को भेजकर खुफिया जानकारी हासिल करना शामिल है. ये लोग गुस्साई भीड़ में हिलमिल कर रहेंगे, किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएंगे

पहला समूह प्रदेश के नेताओं का-

इस तरह के प्रदर्शन के पीछे हुर्रियत या मुख्यधारा के राजनेताओं का हाथ होता है. पहले समूह में इन्हीं नेताओं को शामिल किया गया है. सूत्रों के मुताबिक इन नेताओं को हिरासत से रिहा कर नजरबंदी में रखा जाएगा. क्योंकि सरकार के लिए ये हाउस अरेस्ट की नीति फिट बैठती है और ये नीति जारी रहेगी

दूसरा समूह पत्थरबाजों का-

दूसरा समूह पत्थरबाजों और हिंसक प्रदर्शनकारियों का है, जिनमें ज्यादातर नए लड़के हैं. इनके लिए सरकार ने 'कम्युनिटी बॉन्ड' की एक रणनीति बनाई है, जिसमें 20 परिवार के सदस्यों और परिचितों को एक बॉन्ड पर हस्ताक्षर कराना शामिल है. इसके तहत वे सुनिश्चित करते हैं कि वे फिर से ऐसा नहीं करेंगे

तीसरे समूह में आतंकियों का-

तीसरे समूह में आतंकी हैं. प्रशासन को लगता है कि सेना सीमा और नियंत्रण रेखा पर ध्यान देगी, जहां से पाकिस्तान द्वारा आतंकवादियों को घाटी में घुसपैठ कराया जाता है. सरकार पंजाब और जम्मू में सीमा सुरक्षा की समीक्षा करने की भी योजना बना रही है

चौथा समूह मजहबी नेताओं का-

लोगों का चौथा समूह धार्मिक नेताओं जैसे प्रभावशाली व्यक्तियों का हैं. सूत्रों का कहना है कि सरकार उन धार्मिक नेताओं की पहचान करेगी और उन पर नज़र रखेगी, जिन्हें हिंसा भड़काने और अशांति फैलाते हुए देखा जाता है. अधिकारी ऐसे किसी भी व्यक्ति के साथ कठोरता से के साथ पेश आएंगे, और उन्हें फौरन गिरफ्तार करेंगे

जम्मू-कश्मीर अब दो हफ्ते से ज्यादा समय से इस स्थिति में है. जबसे सरकार ने पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को बाहर निकालना शुरू कर दिया था और पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती सहित लगभग 400 राजनीतिक नेताओं को उनके घरों में नजरबंद कर दिया था. कुछ प्रतिबंधों में ढील दी गई और शनिवार को कश्मीर घाटी के कुछ हिस्सों में 50,000 से अधिक लैंडलाइन फोन कनेक्शन बहाल कर दिए गए हैं. जम्मू और कश्मीर पुलिस ने कहा कि घाटी के कुछ हिस्सों में बड़ी सभाओं पर प्रतिबंध लगाने के आदेशों में ढील दी गई है. हालांकि प्रदेश में भारी सुरक्षा की स्थिति बनी रहेगी


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.