खबरे EXCLUSIVE NEWS: शहर के बाहर बने फ़ार्म हाऊस, नहीं बसी नई कालोनियाँ और बुक्की, जिनका दावा है पुलिस इनके खीसे में है, पढ़े क्रिकेट सट्टे की काली दुनिया का चौंकाने वाला सच डेस्क इंचार्ज अभिषेक शर्मा की कलम से BIG NEWS: भारतीय किसान संघ के सदस्‍य पहुंचेंगे दिल्‍ली, करेंगे प्रचार मंत्री से भेंट, ज्ञापन सौंप करेंगे किसानों को 10-10 आरी पट्टें बहाल करनें की मांग, पढें खबर OMG ! पिता बना अपनी बेटी की जान का दुश्‍मन, पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी आग, झुलसी युवती ने उपचार के दौरान तौडा दम, पढें खबर BIG NEWS: बदमाशों ने की फायरिंग, फिर दिया कार चालक को लूटनें के साथ इस बडीं वारदात कों अंजाम, ग्रामीणों ने लुटेरों को पकड कर दी धुनाई, पढें खबर BIG NEWS: तेज रफ्तार ट्रक ने ट्रैक्‍टर को पीछें से मारी टक्‍कर, एक की मौके पर मौत, एक गंभीर घायल, पढें खबर OMG ! घड़साना के रीको एरिया में मिला बम, पुलिस ने गड्ढा बनाकर रखवाया सुरक्षित, पढें खबर OPINION: प्रियंका गांधी के नाम पर किससे हिसाब चुकाना चाहते हैं कमलनाथ, पढें खबर BIG REPORT: कांग्रेस में बड़ा संकट, पार्टी नेत्री ने ज्योतिरादित्य सिंधिया से अलग पार्टी बनाने की मांग की, बोली, हम सब आपके साथ हैं, पढें खबर BIG BREAKING: अज्ञात वाहन ने बाइक सवार महिला पुरूष को मारी टक्‍कर, महिला की हालत गंभीर, 108 मौके पर, पढें खबर BIG NEWS: इस गांव में ग्रामीणों ने की रास्‍ता खुलावानें की मांग, कर चूकें एक दर्जन से ज्‍यादा शिकायतें, नहीं हुआ निराकरण, पढें खबर BIG NEWS: धारा 302 और 304 बी भादवी के आरोपी को आजीवन कारावास, जुर्माना भी, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर HAPPY BIRTHDAY: आंगनवाडी में मनाया साक्षी का जन्‍मदिन, काटा केक, बांटी मिठाईयां, पढें मेहबूब मेव की खबर WOW: गांव के बेटें ने किया जिलें का नाम रोशन, मध्‍यप्रदेश ग्रामीण बैंक में हुआ चयन, पढें खबर NEWS: एसडीओपी मोरे की उपस्थिति में शान्ति समिति की बैठक संपन्न, त्यौहारों को शान्तिपूर्वक मनाने के लिये दिये आवश्यक दिशा निर्देश, पढें मेहबूब मेव की खबर

BIG REPORT: पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का एम्स में लंबी बीमारी के बाद निधन, पढें खबर

Image not avalible

BIG REPORT: पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का एम्स में लंबी बीमारी के बाद निधन, पढें खबर

डेस्‍क :-

पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी (BJP) के वरिष्‍ठ नेता अरुण जेटली (Arun Jaitley) का शनिवार को दिल्‍ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया.  दोपहर 12 बजकर 07 मिनट पर उन्होंने आखिरी सांस ली. अरुण जेटली को कुछ दिन पहले ही सांस लेने में दिक्‍कत के कारण AIIMS में भर्ती कराया गया था. पिछले कुछ दिनों से उनकी स्थिति स्थिर बताई जा रही थी. बता दें कि जेटली काफी समय से एक के बाद एक बीमारी से लड़ रहे थे. इसी के चलते उन्‍होंने लोकसभा चुनाव, 2019 में बीजेपी को मिली प्रचंड जीत के बाद पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर मंत्रिमंडल में शामिल नहीं करने का आग्रह किया था

मंत्रिमंडल में शामिल नहीं करने के लिए लिखा था पत्र-

जेटली ने पत्र में लिखा था कि 18 महीने से मेरा स्‍वास्‍थ्‍य खराब चल रहा है. मैंने चुनाव प्रचार की सभी जिम्‍मेदारियों को निभाया. अब अपनी सेहत और इलाज पर ध्‍यान देना चाहता हूं. दरअसल, उन्‍हें अप्रैल, 2017 में एम्स में भर्ती कराया गया था, जहां वह डायलसिस पर थे. इसके बाद 14 मई, 2018 को दिल्ली के एम्स में उनका किडनी ट्रांसप्‍लांट हुआ. उनकी गैरमौजूदगी में रेल मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी सौंपी गई थी. इसके बाद जेटली ने 23 अगस्त, 2018 को फिर वित्त मंत्रालय की जिम्‍मेदारी संभाल ली

किडनी ट्रांसप्‍लांट के बाद हुआ सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा-

किडनी ट्रांसप्लांट के बाद अरुण जेटली को बाएं पैर में रेयर कैंसर (सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा) हो गया. उन्‍हें इसके ट्रीटमेंट के लिए जनवरी, 2019 में अमेरिका जाना पड़ा, जहां इसकी सर्जरी की गई. इसके बाद उनकी कुछ तस्‍वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुईं, जिसमें वह काफी कमजोर दिख रहे थे. दरअसल, बीजेपी से राज्‍यसभा सदस्‍य स्‍वप्‍न दास गुप्‍त ने कैंसर का इलाज कराकर लौटे अरुण जेटली से मुलाकात की. इस दौरान उन्‍होंने जेटली को अपनी किताब भी दी. मुलाकात के बाद किए ट्वीट में स्‍वप्‍न दास गुप्‍त ने एक तस्‍वीर शेयर की. जेटली की यही तस्‍वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई और उनकी सेहत को लेकर कयासबाजी शुरू हो गई. इसके बाद वह लोकसभा चुनाव, 2019 के प्रचार अभियान में सार्वजनिक मंचों पर भी नजर नहीं आए.

ट्यूमर के रूप में विकसित होता है यह रेयर कैंसर-

सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा रेयर कैंसर है. यह तब होता है, जब कोशिकाएं डीएनए के भीतर विकसित होने लगती हैं. यह कोशिकाओं में ट्यूमर के रूप में विकसित होता है और शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैलने लगता है. यह बीमारी शरीर के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकती है, खासकर कंधों और पैरों को अधिक प्रभावित करती है. सर्जरी के जरिये इसे निकाला जा सकता है. इसके अलावाा रेडिएशन और कीमोथेरेपी के जरिये भी इसका इलाज संभव है, लेकिन यह साइज, प्रकार और जगह पर निर्भर करता है

हो चुकी थी गैस्ट्रिक बाईपास और हार्ट सर्जरी-

सितंबर, 2014 में डायबिटीज मैनेज करने के लिए जेटली की गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी की गई थी. वहीं, 2005 में उनका दिल से जुड़ा ऑपरेशन भी किया गया था. पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) जेटली से मिलने के लिए शुक्रवार रात एम्स पहुंचे थे. मोदी-शाह के अलावा स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और लोकसभा अध्‍यक्ष ओम बिरला भी उनका हालचाल जानने एम्स गए थे

 


SHARE ON:-

image not found image not found

लोकप्रिय

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.