खबरे NEWS: विधायक देवड़ा पहुंचे जिलें के सभी ग्रामीण क्षेत्रों में, की शोक संवेदना व्यक्त, दुर्घटनाओं में हुए घायलो की कुशलक्षेम भी पूछी, पढें खबर NEWS: 41 हजार 222 रूपये की राशि स्‍वीकृत, पढें खबर NEWS: पुलिस लाईन में मनाया गया पुलिस स्मृति दिवस समारोह, पढें खबर NEWS: विश्व आयोडीन अल्पता निवारण दिवस पर कार्यक्रम सम्‍पन्‍न, पढें खबर NEWS: मुख्‍यमंत्री स्‍वरोजगार योजना से आत्‍मनिर्भर हुआ जगदीश, पढें खबर BIG REPORT: PM के बाद अमित शाह से मिले CM कमलनाथ, केंद्र सरकार ने दिया ये भरोसा, पढें खबर BIG NEWS: मेडिकल कॉलेज मामला, जिला प्रेस क्‍लब की मुहिम जारी, कॉलेज खोलने की मांग को लेकर जिले में चलाया पोस्‍टकार्ड अभियान, पढें खबर BIG REPORT: गस्‍त के दौरान छोटीसादडी पुलिस की कार्रवाही, एमपी-राजस्‍थान बॉर्डर पर लग्जरी कार से किए 3 लाख रुपए बरामद, कार में सवार 5 संदिग्धों को किया गिरफ्तार, पढें खबर WOW: राज्य स्तरीय फुटबॉल स्पर्धा में चैम्पियन बना मध्‍यप्रदेश का ये शहर, पढें खबर NEWS: मदनलाल चौहान के निधन पर परिवार की पहल, मीठा भोज नहीं बनानें की लिया निर्णय, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर NEWS: वाणी व व्यवहार से मानव की प्रवृत्ति ज्ञात होती है, पढें खबर WOW: मध्‍यप्रदेश के इस गांव में नहीं है प्राकतिक आपदा का असर, अब किसानों की होगी बल्‍ले-बल्‍ले, पढें खबर BIG NEWS: पूछताछ के लिए युवक को बुलाया, फिर की मारपीट, ग्रामीण में आक्रोश, किया विरोध, पढें खबर OMG ! साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने इस बार महात्मा गांधी को बताया, राष्ट्रपुत्र, कहा, मैं नहीं बदलूंगी, पढें खबर TOP NEWS: ज्योतिरादित्य सिंधिया की कमलनाथ के मंत्री को हिदायत, बोले, मैं कई कहानियां सुन रहा हूं, पढें खबर BIG NEWS: मुख्‍यमंत्री कमलनाथ पहुंचे दिल्‍ली, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से की मुलाकात, पढें शब्‍बीर बोहरा की खबर

HEALTH: कैंसर और HIV से ज्यादा खतरनाक है खून का थक्का बनने की बीमारी, पढ़ लें ये खबर

Image not avalible

HEALTH: कैंसर और HIV से ज्यादा खतरनाक है खून का थक्का बनने की बीमारी, पढ़ लें ये खबर

डेस्‍क :-

डीप वेन थ्रॉम्बोसिस या डीवीटी एक खून का थक्का बनने की बीमारी है जिसमें शरीर के अंदर किसी नस में थक्का बन जाता है। ब्लड क्लॉट तब बनता है जब ब्लड फ्लो में कोई रुकावट आ जाती है। ब्लड गाढ़ा हो जाता है या जमने लगता है। ज्यादातर डीप वेन ब्लड क्लॉट्स पैर के निचले हिस्से या जांघ में बनते हैं, हालांकि ये शरीर के दूसरे हिस्सों जैसे पेट और जांग के बीच या हाथ पर भी बन सकता है।

Ipsos की तरफ से वर्ल्ड थ्रॉम्बोसिस डे सर्वे किया गया जिसके जरिए दुनियाभर के देशों को इस बारे में जागरूक करने की कोशिश की गई। कम जानकारी के अलावा डीवीटी से जुड़े कई मिथ्स थे जो टूटे। वर्ल्ड थ्रॉम्बोसिस डे (13 अक्टूबर) से पहले अपोलो हॉस्पिटल वस्कुलर सर्जन डॉ पिंजला रामकृष्णन ने कुछ मिथ्स से पर्दा हटाया।

मिथ: ब्लड क्लॉट रेयर होते हैं, हमें इनके बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए।
हकीकत: पूरी दुनिया में 4 में से 1 इंसान की मौत ब्लड क्लॉट की वजह से पैदा हुई किसी कंडिशन से होती है। डीप वेन थ्रॉम्बोसिस (DVT) का एक फॉर्म काफी सीरियस होता है और यह डायग्नोस भी नहीं हो पाता। यह वेन में बने खून के थक्के की वजह से होता है। DVT की वजह से हुए कॉम्पलिकेशंस से हर साल इतने लोग मरते हैं जितने ब्रेस्ट कैंसर, ऐक्सिडेंट्स और एचआईवी को मिलाकर।

डीवीटी किसी को भी हो सकता है जिससे गंभीर बीमार और कुछ केसेज में मौत तक हो सकती है।अगर आपकी कोई सर्जरी, कैंसर, हार्ट या लंग की प्रॉब्लम हुई है तो आपको डीवीटी होने के ज्यादा चांसेज रहते हैं।

मिथ: हेल्दी और ऐक्टिव लोगों को डीवीटी का खतरा नहीं होता।
हकीकत: लगभग सभी को डीवीटी हो सकता है, चाहे आप यंग हों, बुजुर्ग हों, बिल्कुल ऐक्टिव न हों या ऐथलीट हों। सच तो यह है कि ऐथलीट्स को कोई फिजिकल इंजरी हुई हो, डिहाइड्रेशन हो या ज्यादा ट्रैवल करें तो उनमें ज्यादा खतरा होता है।

मिथ: बुजुर्ग और बीमार लोगों में डीवीटी का खतरा ज्यादा होता है।
हकीकत: यह सच है कि इस ग्रुप के लोगों में खतरा ज्यादा होता है लेकिन सच्चाई यह भी है कि डीवीटी यंग और फिट लोगों के लिए ज्यादा जानलेवा हो सकता है।

मिथ: महिलाओं को डीवीटी का ज्यादा खतरा।
हकीकत: कॉन्ट्रासेप्टिव लेने वाली या प्रेग्नेंट महिलाओं को ब्लड क्लॉट का ज्यादा खतरा रहता है लेकिन पुरुषों में भी डीवीटी काफी कॉमन है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.