खबरे NEWS: एक आरोपी को किया गया जिलाबदर, पढें खबर REPORT: हमारे मामा ने लैपटॉप की सौगात दी है, प्रतिभाशाली विद्यार्थी हुए प्रसन्न, खुशियों की दास्तां, पढें खबर NEWS: आईटीआई बाजना में इलेक्ट्रीशियन के 15 पद रिक्त, पढें खबर REPORT: जिला पंचायत अध्यक्ष तथा सीईओ ने रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, पढें खबर NEWS: खजाने की खोज प्रतियोगिता में अधिकतम 20 टीम हिस्सा लेंगी, पढें खबर REPORT: पत्रकार बीमा योजना में आवेदन करने की तिथि बढ़ी, 30 सितम्बर तक जमा हो सकेंगे आवेदन, पढें खबर GOOD NEWS: कलेक्‍टर एवं जनप्रतिनिधियों ने मेधावी विद्यार्थियों को किए प्रमाण पत्र वितरित, दी शुभकामनाएं, पढैं खबर REPORT: कलेक्टर ने पेयजल परीक्षण व स्वच्छता पखवाड़ा अभियान के रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, पढे खबर NEWS: जिले में अब तक 590.7 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज, पढें खबर BIG NEWS: मुख्यमंत्री चौहान 26 सितम्बर को करेंगे मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना का शुभारंभ, प्रत्येक किसान को वर्ष में 2 किश्तों में मिलेंगे 2-2 हजार रूपए, पढें खबर CORONA UPDATE: कोरोना महामारी से स्वस्थ होकर घर लौटे 19 लोगो को दी शुभकामनाएं , खुशियों की दास्तां, पढें खबर NEWS: दो अक्टूबर को रहेगा शुष्क दिवस, पढें खबर NEWS: 03 से 16 अक्टुबर 2020 तक एक्टीव केस फाइडिंग केम्पेन के तहत टीबी सर्विसेज टू डोर स्टेप का आयोजन NEWS: छोटीसादड़ी व सुहागपुरा में नाम निर्देषन शनिवार को NEWS: कुलमीपुरा ग्राम पंचायत में मॉक—ड्रिल कर लिया जायजा CORONA UPDATE: जिले में कुल कोरोना से संक्रमितों की संख्या बढ़कर हुई 1722, अब तक 1209 लोगों ने जिती जंग, एक्टिव केस 498, पढें खबर NEWS: राशमी में प्रधानमंत्री आंखें खोलो पोस्टकार्ड कार्यक्रम का जोरशोर से आगाज, पढें खबर NEWS: सुहागपुरा व छोटीसादड़ी रिटर्निंग अधिकारियों और सेक्टर मजिस्ट्रेट का प्रशिक्षण संपन्न, हर छोटी बारिकियों का दे ध्यानकृउप जिला निर्वाचन अधिकारी, पढें दिलीप भाद्वाज की रिपोर्ट NEWS: जिला स्‍तरीय जल उप‍योगिता समिति की बैठक 28 सितम्‍बर को, पढें खबर

BIG REPORT: महिला संबंधी अपराधों को लेकर पुलिस मुख्‍यालय सख्‍त, अब नई गाइडलाइन से मध्य प्रदेश में होगी महिला सुरक्षा, पढें खबर

Image not avalible

BIG REPORT: महिला संबंधी अपराधों को लेकर पुलिस मुख्‍यालय सख्‍त, अब नई गाइडलाइन से मध्य प्रदेश में होगी महिला सुरक्षा, पढें खबर

डेस्‍क :-

भोपाल. मध्य प्रदेश में हो रहे महिला अपराधों (Women Crime) को लेकर पुलिस मुख्यालय (Police Headquarter) सख्त हो गया है. डीजीपी वीके सिंह (DGP VK Singh) ने सभी आईजी को निर्देश जारी कर महिला अपराधों की जांच के लिए टाइम लिमिट बना दी है. यदि समय पर जांच पूरी नहीं हुई, तो अधिकारियों-कर्मचारियों पर गाज गिरेगी. निर्देशों के साथ महिला अपराधों से जुड़ी नई गाइडलाइन (New Guideline) भी जारी की गई है

डीजीपी ने दिया ये निर्देश-

प्रदेश में महिला अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस मुख्यालय ने बड़ा फैसला लिया है. डीजीपी वीके सिंह ने गाइडलाइन जारी कर महिला अपराधों की जांच से लेकर पुलिस अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की है. महिला अपराधों की विवेचना में अनावश्‍यक देरी करने और लापरवाही बरतने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच के साथ नियमानुसार सजा भी दी जाएगी. नई गाइडलाइन में विवेचनाधीन प्रकरणों की तत्‍परता से विवेचना पूर्ण कर न्‍यायालय से निराकरण कराने पर बल दिया है

ये है पीएचक्यू की नई गाइडलाइन-

>>महिलाओं के खिलाफ घटित होने वाले यौन अपराधों के प्रकरणों में दो महीने की अ‍वधि में विवेचना पूर्ण करने का वैधानिक प्रावधान है.

>>अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अत्‍याचार निवारण अधिनियम के तहत दर्ज प्रकरणों की विवेचना एक महीने में पूरी करनी होगी.

>>महिलाओं के खिलाफ होने वाले जिन अपराधों की विवेचना के लिए कोई स्‍पष्‍ट समय-सीमा निर्धारित नहीं है, उनकी विवेचना भी तीन महीने में पूरी करनी होगी.

>>न्‍यायालय के निर्णय, निर्देश, पुलिस मुख्‍यालय के आदेश और निर्देश के पालन में विवेचना तीन महीने में पूर्ण करनी होगी.

>>जिन प्रकरणों में समय सीमा में विवेचना पूरी नहीं हुई है, उनमें संबंधित पुलिस अधिकारी की जवाबदेही निर्धारित कर उसके खिलाफ विभागीय जांच की जाएगी.

>>आईजी, डीआईजी से लेकर पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्‍त पुलिस अधीक्षक, पुलिस उप अधीक्षक, नगर पु‍लिस अधीक्षक, अनुविभागीय पु‍लिस अधिकारी और थाना प्रभारी की जिम्मेदारी तय की गई है.

>>महिलाओं अपराधों की जांच तीन महीने से आगे जारी रखने के लिए विवेचक थाना प्रभारी को पहले प्रत्‍येक प्रकरण में जिला पुलिस अधीक्षक से अलग-अलग आदेश प्राप्‍त करना होगा.

>>पुलिस अधीक्षक एक बार में अधिक से अधिक एक महीने और अधिकतम तीन बार ( तीन अतिरिक्‍त महीने) तक के लिए विवेचना आगे बढ़ाने की अनुमति दे सकेंगे...

>>छह महीने से अधिक विवेचना जारी रखने के लिए पुलिस अधीक्षक की अनुमति पर रेंज के उप पुलिस महानिरीक्षक एक बार में दो महीने और अधिकतम तीन बार (छह महीने तक) विवेचना जारी रखने की अनुमति दे सकेंगे.

>>एक साल से अधिक विवेचना जारी रखने के लिए क्षेत्रीय पुलिस महानिरीक्षक एक बार में तीन अतिरिक्‍त माह के लिए अनुमति देने के लिए अधिकृत किए गए हैं.

>>विवेचना की अवधि बढ़ाने से पहले प्रत्‍येक अधिकारी विवेचना की समीक्षा कर पर्यवेक्षण निर्देश जारी करेंगे. साथ ही कारणों सहित स्‍पीकिंग ऑर्डर जारी करना होगा कि किन वजहों से विवेचना की अवधि बढ़ानी जरूरी है.

>>अधीनस्‍थ अधिकारी आदेश की प्रति अपने वरिष्‍ठ अधिकारी को भी भेजेंगे. हर आदेश में विवेचना पूर्ण करने की नई समय-सीमा भी निर्धारित करनी होगी.

ये मिलेगी सजा- 

जांच में देरी और लापरवाही सिद्ध होने पर दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 173 (8) के अधीन और लंबित विवेचना के तहत कार्रवाई होगी. यह उन प्रकरणों पर भी लागू होगा जिन प्रकरणों में आरोपी के खिलाफ गिरफ्तारी योग्‍य साक्ष्‍य होने के बावजूद उसकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है और संबंधित न्‍यायालय से दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 299 के तहत आरोपी की गैरहाजिरी में सुनवाई करने के लिए निवेदन के साथ चालान पेश किया गया है. यदि आरोपी से कोई जब्‍ती होनी है और फिर साक्ष्‍य बतौर उसका मेडिकल परीक्षण कराया जाना है तो भी विवेचना लंबित ही मानी जाएगी

 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.