खबरे BIG NEWS: नही हुआ किसानों की समस्‍या का समाधान, किया हंगामा, अधिकारी बोले, छूट तो पहले ही दे दी सरकार ने, फिर हुआ ये, पढें खबर OMG ! शहर का शासकीय स्‍कूली, विधार्थी खाना खानें के बाद बर्तन धोने को मजबूर, जिम्‍मेदार बने अंजाम, पढें उपेंद्र दुबे की खबर BIG NEWS: रेलवे अंडर ब्रिज मामला, प्रशासन ने नहीं ली सुध, किया आंदोलन, सौंपा ज्ञापन, पढें दिलीप सौराष्‍ट्रीय की खबर NEWS: भाजपा मंडल अध्‍यक्ष चुनाव, चौपडा और निर्वाचन अधिकारी अ‍वंतिका जाट पहुंची मनासा, पढें शब्‍बीर बोहरा की खबर BIG NEWS: भाजपा युवा नेता राजू नागदा ने की पूर्व सीएम उमा भारती से मुलाकात, गंगा यात्रा में हुए शामिल, पढें खबर VIDEO: एमपी मे शासकीय भूमि लीज पर देने का मामला, विधायक यशपाल सिंह ने किये सवाल खडें, लीज रेंट खत्म होने के बाद भी लोग काबिज है, शासन को हो रहा है करोड़ों रुपए का नुकसान, सरकार जवाब दे, देखे नरेन्‍द्र धनोतिया की खास रिपोर्ट NEWS: सिंधु सेना महिला संगठन ने विशेष आवश्यता वाले बच्चों के साथ मनाया बाल दिवस, पढें खबर JAIL: न्यायालय में 3 बोरी गेहूं पेश नही करने वाले आरोपी को 3 माह का सश्रम कारावास, जुर्माना भी, पढें खबर JAIL: जमीन विवाद को लेकर मारपीट करनें वालें 3 आरोपियों को 3-3 माह का सश्रम कारावास, जुर्माना भी, पढें खबर NEWS: नगर के आंगनवाडी केंद्र पर बाल दिवस के रूप में मनाया चाचा नेहरू का जन्‍मदिन, ली स्‍वच्‍छता की शपथ, पढें खबर HAPPY BIRTHDAY: वॉईस ऑफ एमपी के जाबाज रिपोर्टर मोहन नागदा का जन्‍मदिन आज, फेसबुक एवं वॉट्सएप्‍प पर चल रहा बधाईयों का दौर, वॉईस ऑफ एमपी परिवार ने भी दी बधाईयां, पढें खबर HAPPY BIRTHDAY: हेल्थ क्लब के सदस्य व शिक्षक श्री व्यास को पुष्‍पाहार पहनाकर एवं मिठाईयां खिलाकर दी जन्‍मदिन की बधाईयां, पढें खबर NEWS: सहकारिता मंत्री आंजना के नेतृत्व में कांग्रेस जनों ने पंडित नेहरु को माल्यार्पण कर किया याद, पढें खबर NEWS: स्‍वच्‍छता सर्वेक्षण 2019, प्रचार्य ने विधार्थियों को स्‍वच्‍छता के संबंध में दी समझाईश, नगर को नंबर- 1 बनाने हेतु छात्रों ने ली स्वच्छता की शपथ, पढें संतोष गुर्जर की खबर

NEWS: कार्तिक माह का महत्व, पवित्र माह की शुरूआत होती है शरद पूर्णिमा से, जाने कार्तिक माह का महत्‍व बद्रीलाल गुर्जर की कलम से

Image not avalible

NEWS: कार्तिक माह का महत्व, पवित्र माह की शुरूआत होती है शरद पूर्णिमा से, जाने कार्तिक माह का महत्‍व बद्रीलाल गुर्जर की कलम से

नीमच :-

नीमच, इस पवित्र महीने की शुरूआत शरद पूर्णिमा से होती है और अंत होता है कार्तिक पूर्णिमा या देव दीपावली से। इस बीच करवा चौथ, अहोई अष्टमी, रमा एकादशी, गौवत्स द्वादशी, धनतेरस, रूप चर्तुदशी, दीवाली, गोवर्धन पूजा, भैया दूज, सौभाग्य पंचमी, छठ, गोपाष्टमी, आंवला नवमी, देव एकादशी, बैकुंठ चर्तुदशी, कार्तिक पूर्णिमा या देव दीपावली को बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है। 

इस दौरान देव उठानी या प्रबोधिनी एकादशी का विशेष महत्व होता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु चार महीने की निद्रा के पश्चात उठते हैं। इस दिन के बाद से सारे मांगलिक कार्य शुरू किए जाते हैं।

कार्तिक महीने का हिन्दू धर्म में खास महत्व है। यह मास शरद पूर्णिमा से शुरू होकर कार्तिक पूर्णिमा पर खत्म होता है। इस महीने में दान, पूजा-पाठ तथा स्नान का बहुत महत्व होता है तथा इसे कार्तिक स्नान की संज्ञा दी जाती है। यह स्नान सूर्योदय से पूर्व किया जाता है। स्नान कर पूजा-पाठ को खास अहमियत दी जाती है। साथ ही देश की पवित्र नदियों में स्नान का खास महत्व होता है। इस दौरान घर की महिलाएं नदियों में ब्रह्ममूहुर्त में स्नान करती हैं। 

यह स्नान विवाहित तथा कुंवारी दोनों के लिए फलदायी होता है। इस महीने में दान करना भी लाभकारी होता है। दीपदान का भी खास विधान है। यह दीपदान मंदिरों, नदियों के अलावा आकाश में भी किया जाता है। यही नहीं ब्राह्मण भोज, गाय दान, तुलसी दान, आंवला दान तथा अन्न दान का भी महत्व होता है।

हिन्दू धर्म में इस महीने में कुछ परहेज बताए गए हैं। कार्तिक स्नान करने वाले श्रद्धालुओं को इसका पालन करना चाहिए। इस मास में धूम्रपान निषेध होता है। यही नहीं लहुसन, प्याज और मांसाहर का सेवन भी वर्जित होता है। इस महीने में भक्त को बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए उसे भूमि शयन करना चाहिए। इस दौरान सूर्य उपासना विशेष फलदायी होती है। साथ ही दाल खाना तथा दोपहर में सोना भी अच्छा नहीं माना जाता है।

कार्तिक महीने में तुलसी की पूजा का खास महत्व है। ऐसा माना जाता है कि तुलसी जी भगवान विष्णु की प्रिया हैं। तुलसी की पूजा कर भक्त भगवान विष्णु को भी प्रसन्न कर सकते हैं। इसलिए श्रद्धालु गण विशेष रूप से तुलसी की आराधना करते हैं। इस महीने में स्नान के बाद तुलसी तथा सूर्य को जल अर्पित किया जाता है तथा पूजा-अर्चना की जाती है। यही नहीं तुलसी के पत्तों को खाया भी जाता है जिससे शरीर निरोगी रहता है। साथ ही तुलसी के पत्तों को चरणामृत बनाते समय भी डाला जाता है। यही नहीं तुलसी के पौधे का कार्तिक महीने में दान भी दिया जाता है। 

तुलसी के पौधे के पास सुबह-शाम दीया भी जलाया जाता है। अगर यह पौधा घर के बाहर होता है तो किसी भी प्रकार का रोग तथा व्याधि घर में प्रवेश नहीं कर पाते हैं। तुलसी अर्चना से न केवल घर के रोग, दुख दूर होते हैं बल्कि अर्थ, धर्म, काम तथा मोक्ष की भी प्राप्ति होती है।
 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.