खबरे BIG BREAKING : नहीं रहे अंकुश अरोरा, उदयपुर में ली अंतिम सांस, शवयात्रा मंगलवार को सुबह 10 बजे BIG REPORT: खुलासे के बाद हड़कंप, शिवराज सिंह चौहान के शासन में हुआ महाघोटाला, अपात्रों ने भी उठाया संबल योजना का लाभ, पढें खबर NEWS: एसडीएम द्वारा जारी अनुमतियां निरस्‍त, पढें खबर NEWS: विधिक सेवा दिवस मनानें के साथ मध्यस्थता जागरूकता शिविर का आयोजन भी, पढें खबर, पढें खबर NEWS: तीन दिवसीय पैरालीगल वालेन्टियर्स प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्‍पन्‍न, पढें खबर NEWS: इस वर्ष 150 आदिवासी विद्यार्थियों को विदेश अध्ययन, छात्रवृत्ति और कोचिंग सुविधा, पढें खबर BIG NEWS: प्रभारी कलेक्‍टर भव्‍या मित्‍त्‍ल एवं एसपी राकेश कुमार सगर ने किया सभी का आभार व्‍यक्‍त, पढें खबर NEWS: स्वास्थ्य शिविर का आयोजन आज, पढें खबर NEWS: कार्तिक पूर्णिमा पर करमोही में होगा टाटियों का विसर्जन व दीपदान, पढें खबर NEWS: पारसोला में पिच्छी परिवर्तन और जैनेश्वरी दीक्षा में उमड़ा जन समुदाय, संयम का प्रतिक होती है पिच्छी, आचार्य विमदसागर, पढें खबर NEWS: नियमों का उलंघन करनें वालों पर यातायात पुलिस ने की कार्रवाही, बनाए 41 चालान, 24 हजार 500 रूपए शमन शुल्‍क वसूला, पढें खबर BIG NEWS: गोरी सोमनाथ महादेव मंदिर पर मंगलवार को लगाया जाएगा 111 किलों लड्डुओं का भोग, बैठक सम्‍पन्‍न, पढें खबर NEWS: मनमुटाव व पद की लालसा को छोड़ गुरु के प्रति समर्पित भाव से कार्य करें, पढें खबर OMG ! गिट्टी हटानें की ममूली बात, गुस्‍साएं युवक ने महिला एवं बेटे पर कर दिया तलावार से हमला, पुलिस ने किया प्रकरण दर्ज, जांच शुरू, पढें खबर WOW: राष्ट्रीय अधिवेशन में बालिका परिषद ने पाया पहला स्थान, पढें खबर BIG NEWS: 35 वर्ष की आयु निर्धारित, युवाओं में जोश, नगर में भाजपा मंडल अध्‍यक्ष को लेकर घमासान, पढें दशरथ नागदा की खबर BIG NEWS: भाजपा पदाधिकारी, कार्यकर्ताओं एवं नगरवासियों द्वारा मनाई गई पूर्व मुख्‍यमंत्री सुंदरलाल पटवा की जन्‍म जयंती, पढें दशरथ नागदा की खबर

BIG BREAKING: कांग्रेस को बड़ा झटका, मध्यप्रदेश में फिर बढ़ी भाजपा विधायकों की संख्या, ये है कारण, पढें खबर

Image not avalible

BIG BREAKING: कांग्रेस को बड़ा झटका, मध्यप्रदेश में फिर बढ़ी भाजपा विधायकों की संख्या, ये है कारण, पढें खबर

डेस्‍क :-

भोपाल. भाजपा विधायक प्रहलाद जोशी को जबलपुर हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है। हाईकोर्ट ने भाजपा विधायक प्रहलाद सिंह लोधी की सजा पर रोक लगा दी है। कोर्ट के फैसले के अनुसार सात जनवरी तक विधायक की सजा पर रोक रहेगी। कहा जा रहा है कि इस मामले में कोर्ट सात जनवरी तक अपना फैसला सुना सकती है। कोर्ट के इस फैसले के बाद अब प्रहलाद सिंह लोधी मध्यप्रदेश विधानसभा के सदस्य कहलाएंगे।

क्या विधायक बने रहेंगे-

विधानसभा अध्यक्ष ने भाजपा विधायक को दो साल की सजा का एलान होने के बाद पन्ना जिले की पवई सीट को रिक्त करने का नोटिफिकेशन जारी कर दिया था। जानकारों का कहना है कि हाईकोर्ट ने सजा में रोक लगा दी है जिस कारण से वो मध्यप्रदेश विधानसभा के सदस्य बने रहेंगे।

क्य़ा कहा राकेश सिंह ने-

मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा- सरकार ने आनन-फानन में विधायक की सदस्यता खत्म की थी। विधानसभा अध्यक्ष ने बिना राज्यपाल की अनुमति के फैसला लिया था। ये कार्रवाई राजनीतिक द्वेष के कारण हुई है।

विधायकों की संख्या बढ़ी-

मध्यप्रदेश विधानसबा चुनाव में भाजपा को 109 सीटों पर जीत मिली थी। लेकिन झाबुआ उपचुनाव में हार के बाद भाजपा विधायकों की संख्या 108 रह गई थी। 2 नवंबर को प्रहलाद सिंह लोधी की सदस्यता खत्म करने के बाद भाजपा के 107 विधायक हो गए थे लेकिन अब हाईकोर्ट की रोक के बाध भाजपा के विधायकों की संख्या 108 हो गई है।

कांग्रेस को बड़ा झटका-

हाईकोर्ट से विधायक की सजा पर स्टे मिलने के बाद जहां भाजपा को बड़ी राहत मिली है वहीं, कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। इस मामले में सीएम कमल नाथ ने कहा था कि भाजपा के 15 सालों के जो काम हैं वो अब हर हफ्ते और महीने सामने आएंगे। हालांकि राजनीतिक जानकार हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद इसे कांग्रेस को एक बड़ा झटका बता रहे हैं।

किस मामले में हुई थी विधायक को सजा-

भाजपा विधायक प्रहलाद सिंह लोधी समेत 12 लोगों पर आरोप था कि उन्होंने रेत खनन के खिलाफ कार्रवाई करने वाले रैपुरा तहसीलदार को बीच रोड पर रोककर मारपीट करते हुए बलवा किया था। मामला 28 अगस्त 2014 को सिमरिया थाना अंतर्गत का था।

2 नवंबर को खत्म की गई थी विधायक की सदस्यता-

2 नवंबर को विधानसभा सदस्य प्रहलाद सिंह लोधी की सदस्यता को समाप्त कर दिया गया। लोधी के खिलाफ एक आपराधिक मामले में भोपाल की विशेष अदालत ने उन्हें दो साल की सजा सुनाई थी। जिसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने विधायक की सदस्यता समाप्त कर दी थी।

किस नियम के कारण गई सदस्यता-

सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले के अऩुसार अगर किसी जनप्रतिनिधि को दो साल या उससे अधिक की सजा होती है तो सदस्यता खत्म हो जाएगी। साथ ही वह अगले छह साल तक चुनाव नहीं लड़ सकता है।

यह फैसला जस्टिस एके पटनायक और जस्टिस एसजे मुखोपाध्याय की पीठ ने जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 8(4) को असंवैधानिक करार देते हुए कहा था कि दोषी ठहराए जाने की तारीख से ही अयोग्यता प्रभावी होती है। क्योंकि इसी धारा के तहत आपराधिक रिकॉर्ड वाले जनप्रतिनिधियों को अयोग्यता से संरक्षण हासिल है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.