खबरे NEWS: शासकीय माध्‍यमिक विधालय आंत्रीखुर्द में हर्षोल्‍लास से मनाया गणतंत्र दिवस, विधार्थियों ने निकाली तिरंगा यात्रा, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर NEWS: माध्‍यमिक विधालय देवरी खवासा में मनाया गया 71 वां गणतंत्र दिवस, विधार्थियों ने दी सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्‍तुतियां, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर WOW: VOICE OF MP बना लाखों दिलों की धडकन, महज 28 दिनों में देखा गया 3 लाख से ज्‍यादा बार, आप भी करें सस्‍क्राइब, पढें खबर REPUBLIC DAY SPECIAL: नगर के न्‍यू ब्रिलियंट पब्लिक स्‍कूल में वार्षिकोत्‍सव सम्‍पन्‍न, विधार्थियों नें लोकगीतों पर एक से बढकर एक प्रस्‍तुतियां, पढें दशरथ नागदा की खबर VIDEO: नीमच में धूमधाम से मनाया गया 71 वां गणतंत्र दिवस, कलेक्‍टर-एसपी ने फहराया तिरंगा, देखे विडियों न्‍यूज VIDEO: खरगोन में राष्‍ट्रीय सेमिनार का आयोजन, प्रदेश सरकार के कृषि मंत्री सचिन यादव हुवे शामिल, देखे विडियों न्‍यूज REPUBLIC DAY SPECIAL: कारगिल युद्ध के समय सेना में हुए भर्ती, लौटें अपने शहर, शहरवासियों ने किया था भावभीना स्वागत, पढें खबर VIDEO: नीमच के अम्‍बेडकर सर्कल पर गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्‍या पर किया देश भक्ति गीतो को लेकर आयोजन, देखे विडियों न्‍यूज REPUBLIC DAY SPECIAL: उज्जैन, शाजापुर और आगर मालवा में तीन मंत्रियों ने फहराया तिरंगा, पढें खबर REPUBLIC DAY SPECIAL: मध्‍यप्रदेश के इस शहर में है अमर शहीदों का अनूठा मंदिर, पढें खबर BIG NEWS: ATM बदलकर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, दो बदमाशों सहित एक महिला गिरफ्तार, पढें खबर REPUBLIC DAY SPECIAL: रतलाम में उत्साह के साथ मनाया गया गणतंत्र दिवस, ध्‍वजारोहण कर दी सलामी, पढें खबर OMG ! चार साल चला अफेयर, 45 दिन की शादी, फिर हुआ यह, पुलिस भी रह गई दंग, अब जांच शुरू, पढें खबर

BIG NEWS: सांवलियाजी मंदिर के पुजारी को क्यो मिला नोटिस, मंदिर से बाहर क्यों नहीं जा पाएगा बाल स्वरूप, पढें खबर

Image not avalible

BIG NEWS: सांवलियाजी मंदिर के पुजारी को क्यो मिला नोटिस, मंदिर से बाहर क्यों नहीं जा पाएगा बाल स्वरूप, पढें खबर

चित्तौडग़ढ़़ :-

चित्तौडग़ढ़/भदेसर. मेवाड़ के प्रख्यात कृष्ण धाम सांवलियाजी मंदिर में विराजित भगवान सांवलिया सेठ के बालस्वरूप का देवउठनी एकादशी पर इंदौर में एक भक्त द्वारा राधा की प्रतिमा के साथ अनूठे विवाह आयोजन को लेकर मंदिर मंडल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुकेश कलाल ने एक पुजारी कमलेशदास पुत्र द्वारकादास को नोटिस देकर तीन दिन में स्पष्टीकरण मांगा है। मंदिर के शेष सभी पुजारियों को भी भगवान के बाल स्वरूप को बिना स्वीकृति के बाहर किसी कार्यक्रम में नहीं ले जाने के निर्देश जारी किए है।

पुजारी कमलेशदास को दिए गए नोटिस में कहा गया कि इंदौर में सांवलिया सेठ का राधा की प्रतिमा संग विवाह के कार्यक्रम के समाचार मीडिया व सोशल मीडिया में आए है। इस कार्यक्रम को मंदिर परम्परा के विरूद्ध बिना मंदिर मण्डल की स्वीकृति के निर्धारित किया गया। इस कृत्य से मंदिर की छवि धुमिल हुई है। इंदौर में आयोजित होने वाले भगवान सांवलिया सेठ के विवाह समारोह की मंदिर प्रशासन ने स्वीकृति नहीं दी है।

मंदिर मण्डल सीईओ के अनुसार भगवान सांवलिया सेठ की मुर्ति, शालीग्राम व लड्डु गोपाल आदि को निज मंदिर से बाहर के प्रान्तो व शहरों में ले जाकर वहां से प्राप्त भेंट, दान व चढावा राशि लेकर मंदिर कोष को नुकसान पहुंचाने के साथ श्रद्धालुओं की आस्था से भी खिलवाड किया जा रहा है।

उन्होंने इस पर तत्काल रोक लगाते हुए बिना सक्षम स्वीकृति से भगवान के बाल स्वरूप लड्डु गोपाल, शालीग्राम आदि को बाहर नहीं निकालने के निर्देश दिए है। ऐसा करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई व सेवा पुजन से निष्कासन की कार्रवाई की चेतावनी भ्ी दी गई है।

नहीं मिली तुलसी विवाह के लिए भी स्वीकृति-

इंदौर में सांवलियाजी के बाल स्वरूप के विवाह आयोजन के लिए मंदिर प्रशासन की स्वीकृति नहीं मिल पाई हैं, जबकि भक्तों ने इसके लिए प्रार्थना पत्र मंदिर मंडल को दिया था। इसमें बताया गया कि भगवान सांवलिया सेठ का इंदौर में तुलसी के संग विवाह समारोह आयोजित होना था। इंदौर निवासी आयोजक नकुल दगदी पुत्र जगदीश चंद्र दगदी ने बताया कि वह हर वर्ष तुलसी विवाह कराने का आयोजन करता है लेकिन राधा के संग सांवलिया सेठ का विवाह कराने की कोई योजना नहीं है ।

शपथ पत्र में तुलसी विवाह आयोजन की स्वीकृति की मांग की मंदिर के प्रशासनिक अधिकारी कैलाश चंद्र दाधीच ने बताया कि मंदिर प्रशासन ने इस तरह की कोई स्वीकृति नहीं जारी की है। मंदिर के ओसरा पूजारी ने पहले ही इस कार्यक्रम मे जाने से मना कर दिया, वंही प्रशासन ने भी इसकी अनुमति नहीं दी है, ऐसी स्थिति में ओसरा के बाहर वाले पूजारी इस कार्यक्रम मे जाते हैं तो मुख्य मंदिर के बालगोपाल नहीं ले जा सकते हैं।

मंदिर की परम्पराओं व मर्यादाओं को कायम रखा जाएगा-

सांवलियाजी मंदिर की परम्पराओं व मर्यादाओं को कायम रखा जाएगा। भगवान के बाल स्वरूप को पुजारी बिना अनुमति विवाह समारोह या कहीं भी नहीं ले जा सकते है। कोई भी पुजारी ऐसा करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।- मुकेश कलाल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, सांवलियाजी मंदिर मंडल


SHARE ON:-

image not found image not found

लोकप्रिय

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.