खबरे BIG NEWS : नीमच सिटी के पुरानी कचहरी परिसर से हटाया नवीन विस्तार, नगर पालिका का अमला पहुंचा मौके पर, साफ-सफाई कर की प्रकाश की व्यवस्था, सुरक्षा की दृष्टि से सीसीटीवी कैमरे भी लगाएं, पढ़े खबर KHABAR : मुख्यमंत्री नगरीय भू-अधिकार योजना के तहत 4 हजार 226 हितग्राहियों को भू-अधिकार पत्र-पट्टे वितरित, नीमच जिले के 97 हितग्राहियों को मिला जमीन का मालिकाना हक, पढ़े खबर  BIG NEWS : जिला दंडाधिकारी ने की आरोपी गुलाम रसुल के विरूद्ध रासुका की कार्रवाई, तीन माह तक जेल में निरूद्ध रखने के दिए आदेश, पढ़े मुश्ताक अली शाह की खबर REPORT : प्रदेश की पर्यटन, संस्‍कृति, धर्मस्‍व एवं धार्मिक न्‍यास मंत्री तथा नीमच जिले की प्रभारी मंत्री उषा ठाकुर ने किया स्वास्थ्य मेले का शुभारंभ, पढ़े खबर  REPORT : सिंगोली में बेरोजगार युवाओं को मार्गदर्शन देने विशेष शिविर संपन्न, मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना के तहत हुआ 102 युवाओं का पंजीयन, पढ़े मेहबूब मेव की खबर  KHABAR : राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण आयोजित, पढ़े प्रदीप महाजन की खबर   BIG BREAKING : नीमच पहुंची कोरोना की चौथी लहर, लंबे समय बाद 158 सैंपल की रिपोर्ट ने उड़ाए जिला प्रशासन के होश, सामने आया फिर नया केस, अब बढ़ेगी सख्ती, लग सकता है लॉकडाउन, पढ़े महावीर सैनी की खबर

BIG REPORT : अनुसूचित जनजाति की नाबालिग बालिका का अपहरण कर बलात्कार करने वाले आरोपित को तीसरा आजीवन कारावास, न्यायालय ने सुनाया अहम फैसला, पढ़े खबर 

Image not avalible

BIG REPORT : अनुसूचित जनजाति की नाबालिग बालिका का अपहरण कर बलात्कार करने वाले आरोपित को तीसरा आजीवन कारावास, न्यायालय ने सुनाया अहम फैसला, पढ़े खबर 

नीमच :-

नीमच। न्यायालय ने अनुसूचित जनजाति की नाबालिग बालिका का अपहरण कर बलात्कार करने वाले आरोपी को तीहरे आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही 5 हजार रूपये का जुर्माना भी आरोपित किया है। 

विशेष लोक अभियोजक जगदीश चौहान ने बताया कि घटना लगभग 2 वर्ष पूर्व दिनांक 26.06.2020 की रात्रि के समय थाना जावद क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम मोरका की हैं। पीड़िता की उम्र 16 वर्ष की होकर वह अनुसूचित जनजाति की सदस्या हैं तथा उसका गांव थाना जावद क्षेत्र के अंतर्गत आता हैं। वह दिनांक 26.06.2020 को देर रात्रि को परिवार को बिना बतायें कहीं चली गई थी, जो वह वापस नहीं आई तो पीडिता के माता-पिता व परिवार के सदस्यों ने उसकी गांव व रिश्तेदारी में काफी तलाश की, किन्तु उसका कोई पता नहीं चला। फिर उन्हें तलाशी के दौरान पता चला कि ग्राम जवासा का दिलीप नायक भी उस दिन गांव में उसके रिश्तेदार से मिलने आया था, जिस कारण उन्होंने संदेह के आधार पर आरोपी के विरूद्ध पुलिस थाना जावद में रिपोर्ट लिखाई।

जिस पर से अपराध क्रमांक 219/2020, धारा 363 भारतीय दण्ड संहिता, 1860 के अंतर्गत प्रथम सूचना रिपोर्ट पंजीबद्ध की गई। पुलिस जावद ने विवेचना के दौरान दिनांक 30.06.2020 को आरोपी द्वारा पीड़िता को लेकर उपस्थित होने पर उसे दस्तयाब किया। पीड़िता द्वारा पुलिस को बताया गया कि वह आरोपी को जानती थी तथा आरोपी उसके पास आया था और शादी करने का झाँसा देकर उसे अपने साथ मंदसौर जिले के किसी गांव के पास के मंदिर पर ले जाकर उसे शादी की तथा पास ही के जंगल में उसके साथ बलात्कार किया था। 

पीड़िता के बयानों के आधार पर पुलिस जावद द्वारा प्रकरण में भारतीय दण्ड संहिता, 1860 की धारा 366, 376(2)(एन), अनुसूचित जाति/जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 की धारा 3(2)(वी) व पॉक्सो एक्ट की धारा 5(एल)/6, की वृद्धि की गई। विवेचना के दौरान आरोपी को गिरफ्तार किया गया, पीडिता व आरोपी का मेडिकल कराया गया व दोनो के डी.एन.ए. सेंपल लिये गये। बाद विवेचना पुर्ण कर अभियोग-पत्र माननीय विषेष न्यायालय (पॉक्सों एक्ट), जिला नीमच के न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।

अभियोजन द्वारा मान. न्यायालय के समक्ष विचारण के दौरान जब पीड़िता व उसके माता-पिता के बयान कराये गये तो सभी के द्वारा घटना को पूर्ण रूप से नहीं बताते हुए रूपयों के लेन-देन के विवाद के कारण आरोपी के विरूद्व रिपोर्ट लिखाये जाने का बयान दिया गया। इन सब के बावजूद भी घटना के बाद आरोपी व पीड़िता के जो डी.एन.ए. सैम्पल लिये गये थे, उसकी रिपोर्ट पोजेटीव आई तथा यह प्रमाणित पाया गया कि आरोपी द्वारा 16 वर्षीय नाबालिग पीडिता के साथ संभोग किया गया था। 

अभियोजन द्वारा इस डी.एन.ए. रिपोर्ट के आधार पर यह तर्क रखा गया कि पीड़िता के बयान को मान्य न करते हुए इस वैज्ञानिक साक्ष्य के आधार पर यह मान्य किया जाये की आरोपी द्वारा 16 वर्षीय नाबालिग पीड़िता बालिका का अपहरण कर बलात्कार किया गया गया था।  मान. न्यायालय द्वारा उक्त तर्क को स्वीकार कर इस वैज्ञानिक साक्ष्य से सहमत होकर आरोपी के विरूद्ध अपराध को संदेह से परे प्रमाणित पाया। 

मान. विशेष न्यायालय द्वारा आरोपी को धारा 363 भारतीय दण्ड संहिता, 1860 के अंतर्गत 7 वर्ष के सश्रम कारावास व 1000 रू. जुर्माना, धारा 366 भारतीय दण्ड संहिता, 1860 के अंतर्गत 10 वर्ष के सश्रम कारावास व 1000 रू. जुर्माना तथा तीन धाराओं, धारा 376(2)(एन) भारतीय दण्ड संहिता, 1860, धारा 5(एल)/6 पॉक्सो एक्ट व धारा 3(2)(वी) अनुसूचित जाति/जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 में आजीवन कारावास एवं 1000-1000 रूपये जुर्माने से दण्डित किया। इसी प्रकार जुर्माने की कुल राशि 5000 रू. को पीड़िता को प्रतिकर के रूप में प्रदन किये जाने का आदेश भी पारित किया गया। न्यायालय में शासन की ओर से पैरवी विशेष लोक अभियोजक जगदीश चौहान द्वारा की गई।


SHARE ON:-

image not found image not found

लोकप्रिय

© Copyright BABJI NETWORK PVT LTD 2020. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.