NEWS: पंचतत्व में विलीन हुए भय्यूजी महाराज, बेटी कुहू ने दी मुखाग्नि, पढें खबर

Image not avalible

NEWS: पंचतत्व में विलीन हुए भय्यूजी महाराज, बेटी कुहू ने दी मुखाग्नि, पढें खबर

नीमच :-

इंदौर। संत भय्यूजी महाराज पंचतत्व में विलान हो गए, उनकी बेटी कुहू ने बिलखते हुए पिता को मुखाग्नि दी। अंतिम यात्रा में संतों से लेकर मंत्री, नेता सब मौजूद हैं, विधि-विधान के साथ पार्थिव देह को पंचतत्व में विलीन कराया गया। बेटी कुहू ने पिता को मुखाग्नि दी है। मंगलवार को उन्होंने अपने आवास पर गोली मारकर खुदकुशी की थी।

संत भय्यूजी महाराज पंच तत्व में विलान हो गए, इनका अंतिम संस्कार भमोरी स्थित मुक्तिधाम में शास्त्रोक्त विधि-विधान के साथ  संपन्न हुआ। उनकी बेटी कुहू ने बिलखते हुए पिता को मुखाग्नि दी। इस दौरान बड़ी संख्या में उनके श्रद्वालु और अनन्य भक्तों ने भैयू महाराज को नम आंखो से उन्हें विदाई दी। 

आत्मिक शांति की प्रार्थना
मुक्तिधान में उनके अंतिम दर्शन के लिए महाराष्ट्र सरकार के मंत्रीगण भूतपूर्व मंत्री और कई विशिष्टजन पहुंचे जिन्हें अपने चहेते महाराज को अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस दौरान मुक्तिधाम में ही उनकी आत्मिक शांति की प्रार्थना यहां मौजूद हजारों लोगों ने की। भैय्यू महाराज की पार्थिव देह आज सुबह उनके सर्वोदय आश्रम लाई गई थी इसके बाद से ही उनके दर्शन के लिए आश्रम और आश्रम के बाहर व्यापक जनसमुदाय उमड़ा। 

विलाप करती रहीं पत्नी और बेटी
इस दौरान सभी ने उन्हें नम आंखों से श्रद्धासुमन अर्पित कर उनके अंतिम दर्शन किए। देशभर से आए उनके अनुयायियाें ने उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित कर भय्यू महाराज के निधन को राष्ट्रीय क्षति निरुपित किया। आश्रम में उनकी पार्थिव देह के साथ उनके परिवार के सदस्यगण और उनकी बेटी और पत्नी डॉ आयुषी लगातार विलाप करती रहीं।

इस दौरान लगातार लोगों ने उन्हें ढाढस बंधाया। महाराष्ट्र सरकार की बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे, महाराष्ट्र के ही श्रीकांत भारती, राकांपा नेता अनिल देशमुख, करणी सेना गुजरात के राजू शेखावत, स्थानीय विधायक रमेश मेंदोला, गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष कृष्णमुरारी मोघे आदि ने उन्हें पुष्पांजली अर्पित की। 

विभिन्न धर्मों के प्रतिनिधि पहुंचे
यहां उनके अंतिम दर्शन के लिए कंप्यूटर महाराज के अलावा अन्य कई संत और विभिन्न धर्मों के प्रतिनिधि और भय्यू महाराज के शिष्य देश विदेश से उनके अंतिम दर्शक के लिए पहुंचे।। भय्यू महाराज के अंतिम संस्कार के दौरान श्रद्धालुओं द्वारा उनकी जयजयकार के नारे भी लगाए गये।  अचानक की दुनिया  को अलविदा कह चुके भय्यूजी महाराज अब कभी जीवंत रूप में सामने नही होंगे लेकिन उनसे जुड़े हर शख्स के जेहन में वे हमेशा बने रहेंगे। 


सुसाइड नोट की जांच
अचानक हुए इस हादसे में अब पुलिस की तफ्तीश शुरू होगी, ताकि एक संत की मौत की असली वजह सामने आ सके।  आज भय्यूजी महाराज का वह सुसाइड नोट भी सामने आया जिसमें उन्होंने विदित और आर्थिक जिम्मेदारी अपने सेवादार को दी है। पुलिस अभी सुसाइड नोट की सत्यता की जांच कर रही है इसके अलावा पूरी घटना में उनके परिवार के सदस्यों की संलिप्तता भी देखी जा रही है।  भय्यू जी महाराज की मौत की वजह  पारिवारिक कलह है।

पढ़ें-पिता का शव देख फूट-फूटकर रोयी बेटी, पत्नी भी बेसुध, मां-बेटी के विवाद ने ली भय्यूजी की जान?

सरकार की ओर से कोई नही
 राष्ट्र संत भय्यू महाराज के अंतिम संस्कार के दौरान महाराज सरकार के मंत्री समेत कई जनप्रतिनिधि पहुंचे थे लेकिन मध्यप्रदेश सरकार की ओर से कोई भी प्रतिनिधि इस दौरान नहीं पहुंचा मध्यप्रदेश में राज्यमंत्री का दर्जा पाने वाले राष्ट्रीय संत भय्यू  महाराज का राजकीय सम्मान भी सरकार की ओर से नहीं किया गया। हालांकि अंतिम संस्कार के पूर्व जिला प्रशासन की ओर से कलेक्टर समेत अन्य अधिकारियों ने उनके आश्रम पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की थी।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.