खबरे WOW: बाढ को देखतें हुए इस गांव के युवाओं ने उठाया ये बडा कदम, बाढ प्रभावित हो पहुंचाया सुरक्षित स्‍थान पर, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर OMG ! जिलें में मूसलाधार बारिश के बाद बाढ के हालात, जिलें में किस जगह हुई कितनी बारिश, पढें और जाने NEWS: आंचलिक पत्रकार संघ के सदस्‍य रतलाम के लिए रवाना, बनेंगे प्रदेश स्‍तरीय सम्‍मेलन का हिस्‍सा, पढें आशिष बैरागी की खबर BIG NEWS: जिलें की ब्राह्मणी नहीं ने दिखाया रोद्र रूप, उफान पर नदी, कई गांवों में घुसा पानी, प्रशासनिक टीम का रेस्‍क्‍यूं जारी, पढें खबर WOW: बारिश के बाद शहर की निचली बस्तियों में भरा पानी, गरीबों का सहारा बना स्वणर्कार समाज, पढें और जाने कैसे OMG ! गांधी सागर बांध वॉटर लेवल अपडेट, 19 गेट खुलनें के बाद भी गैलरी से पानी बाहर, छोडना होगा कुल इतने क्‍यूरेस पानी, पढें खबर BIG REPORT: पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराजसिंह चौहान शनिवार को पहुंचेंगे मंदसौर, लेंगे बाढ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा, करेंगे हर संभव मदद, पढें खबर BIG NEWS: मां के दरबार ग्राम आंत्री माता में पानी-पानी, ग्रामीणों ने छत पर चढ बचाई जान, रेस्‍क्‍यूं टीम भी मौके पर, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर OMG ! ग्राम देवरानन हुआ जलमग्‍न, नाव की मदद से रहवासियों को पहुंचाया सुरक्षित स्‍थान पर, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर BIG REPORT: जिलें में आफत की बारिश के बाद ग्राम झारडा के हालात, इस नदी पर बना पुल हुआ क्षतिग्रस्‍त, मौके पर बचाव के लिए पुलिसबल तैनात, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर OMG ! गांधी सागर बांध ने दिखाया अपना रंग, हमेशा 1308 पर गेट खुले, बारिश को देखतें हुए प्रशासन ने किया इंतजार, फिर खोलें वॉटर लेवल इतना होनें पर गेट, बांध का पानी घुसा इन गांवों में, पढें खबर VIDEO: नीमच में सरपंच पति की ग्रामीणो ने की चप्‍पल व डंडे से धुनाई, विडियों हुआ वायरल, देखे बद्रीलाल गुर्जर की विडियों न्‍यूज OMG ! गांधी सागर के गेट खुले, पहली बार डैम के पानी ने किया रिंगवाल को पार, पानी घुसा रामपुरा में, पढें खबर

POLITICS: निकाय नतीजे: बीजेपी के लिए खतरे की घंटी या कांग्रेस के आंगन में किलकारी

Image not avalible

POLITICS: निकाय नतीजे: बीजेपी के लिए खतरे की घंटी या कांग्रेस के आंगन में किलकारी

डेस्‍क :-

भोपाल। एमपी के हालिया निकाय चुनावों के नतीजों को बीजेपी के लिए खतरे की घंटी कहें या कांग्रेस के आंगन में किलकारी, नहीं पता। अलबत्ता, दोनों दलों को 9-9 स्थानों पर जीत जरूर मिली, जबकि जैतहरी नगर परिषद बीजेपी के बागी प्रत्याशी के खाते में गई।

ये नतीजे कांग्रेस के लिए ऑक्सीजन जरूर हैं क्योंकि एंटी इंकम्बेंसी जैसे माहौल के बावजूद, गुटबाजी घटी नहीं, अलबत्ता बिल्ली के भाग से छीका जरूर टूट गया। इस नाखुशी या भाजपा के गिरते ग्राफ को कांग्रेस, साल के आखीर में होने वाले विधानसभा चुनाव में कितना भुना पाएगी यह तो वही जाने, लेकिन इन चुनावों ने ईवीएम की साख पर सवाल नहीं उठने दिए, जो चुनाव आयोग के लिए सुकूनों से भरी सौगात होगी।

सबसे मजेदार वोटिंग का प्रतिशत रहा, जिसमें कांग्रेस और भाजपा दोनों को 43-43 फीसदी मत मिले। प्राप्त मतों का हिसाब और भी मजेदार है जिसमें 131470 भाजपा को तो 131389 कांग्रेस को मिले, यानी कांग्रेस केवल 81 मतों से पीछे। नतीजों में कांग्रेस को 2 का फायदा तो भाजपा को 3 का नुकसान हुआ।

धार की मनावर नगर पालिका 45 वर्षों तथा धार नगर पालिका 23 वर्षों के बाद कांग्रेस जीत सकी, वहीं दिग्गजों की अग्निपरीक्षा भी हुई, जिसमें कई मुंह की खा गए। मुख्यमंत्री का रोड शो भी कुछ खास नहीं कर सका क्योंकि विधायक बेल सिंह भूरिया के सरदारपुर, रंजना बघेल के मनावर, कालू सिंह ठाकुर के धरमपुरी, कुंवर हजारी लाल दांगी के खिचलीपुर में मिली हार धार की पहचान विक्रम वर्मा और विधायक नीना वर्मा के प्रत्याशी का हारना भाजपा के घटते प्रभाव का संकेत है।

भाजपा के पास 12 तो कांग्रेस के पास 7 थीं जो अब बराबर यानी 9-9 हो गईं
पहले दोनों ही स्थानों पर भाजपा काबिज थी, जबकि भिंड की अकोड़ा नगर परिषद में बसपा की संगीता कुर्सी बचाने में कामियाब रहीं। 2012 के इन 19 निकाय चुनावों में जहां भाजपा के पास 12 तो कांग्रेस के पास 7 थीं जो अब बराबर यानी 9-9 हो गईं हैं। अभी अगले दो विधानसभा उपचुनाव सेमीफाइनल जैसे होंगे। कोलारस और मुंगावली में मतदान 24 फरवरी और मतगणना 28 को होगी। इनमें उत्तरप्रदेश से आई इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों तथा हैदराबाद से आए वीवीपैट का इस्तेमाल होगा।

 

कांग्रेस इन नतीजों से सीख ले पाएगी या भाजपा फिर से अंर्तमंथन करेगी
दोनों सीटें कांग्रेस विधायक महेंद्र सिंह कालूखेड़ा और राम सिंह यादव के निधन से रिक्त हुई हैं। जाहिर है कांग्रेस से ज्यादा भाजपा को जोर होगा, लेकिन महीने भर से माथापच्ची के बाद भी अभी प्रत्याशियों को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है। मध्यप्रदेश के ये चुनाव हैरान-परेशान करने वाले तो नहीं हैं, लेकिन किसी को बागियों की कीमत तो कहीं गुटबाजी का अहसास जरूर कराते हैं। कांग्रेस इन नतीजों से कितना सीख ले पाएगी या भाजपा फिर से अंर्तमंथन करेगी, निश्चित रूप से दोनों का अंदरूनी मामला है

संभलने के लिए दोनों दलों को दलदल से निकलना होगा
फिलहाल तो निगाहें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर है, जिसे पहले से पता था कि आदिवासी और दलित क्षेत्रों में उसका जनाधार घट रहा है। शायद इसीलिए समरसता का कार्यक्रम भी चल रहा है और 23 जनवरी को पातालकोट महोत्सव मनाया जाएगा, जिसमें सरकार्यवाहक भैयाजी जोशी आएंगे जो अति पिछड़े आदिवासियों और दलितों के बीच होंगे। हां, इस नतीजे का 2019 के आम चुनाव में भी असर दिखेगा। संभलने के लिए दोनों दलों को दलदल से निकलना होगा।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.