WOW: अरावली पर्वतमाला की सुरम्य वादियों के बीच स्थित भंवरमाता में शनिवार को लगेगा हरियाली अमावस्या का विशाल मेला, उमड़ेगा श्रद्धालुओं का सैलाब, पढें कैलाशचंद शर्मा की खबर

Image not avalible

WOW: अरावली पर्वतमाला की सुरम्य वादियों के बीच स्थित भंवरमाता में शनिवार को लगेगा हरियाली अमावस्या का विशाल मेला, उमड़ेगा श्रद्धालुओं का सैलाब, पढें कैलाशचंद शर्मा की खबर

नीमच :-

प्रतापगढ़ जिले व मेवाड़ मालवा का प्रमुख शक्तिपीठ एवं तीर्थ स्थल भंवरमाता में शनिवार को हरियाली अमावस्या पर विशाल मेला लगेगा। भंवरमाता दर्शनीय स्थल विकास एवं सेवा ट्रस्ट के मंत्री प्रहलादराय साहू ने बताया कि ट्रस्ट की ओर से तैयारियां भी शुरू कर दी है। मेले में आने वाले दुकानदारों के लिए प्लॉट आवंटित करने का काम तथा तथा अन्य व्यवस्थाएं भी ट्रस्ट की ओर से पूरी कर ली गई है। मेले में श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए विशेष पुलिस बल तैनात रहेगा। इसके अलावा भारत स्काउट गाइड के छात्र-छात्राएं एवं नगर की सामाजिक, धार्मिक एवं अन्य स्वयंसेवी संस्थाएं भी सहयोग प्रदान करेगी। मेले में शनिवार को क्षेत्र सहित दूरदराज से बड़ी संख्या में श्रद्धालु अपने परिवार के साथ पहुंचेंगे तथा माता के दर्शन कर अरावली पर्वतमाला की सुरम्य वादियों को निहारकर तथा 70 फीट ऊंचाई से गिरने वाले जल प्रपात में नहाने का आनंद लेंगे तथा चाट-पकोड़ा व अन्य चीजों का लुफ्त उठाएंगे।

मेवाड़ मालवा का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है:भंवरमाता .......
छोटीसादडी उपखंड मुख्यालय से 3 किमी दूर  अरावली पर्वतमाला की ऊंची-ऊंची सुरम्य हरी-भरी वादियों के बीच स्थित भंवरमाता का मंदिर के सामने लगभग 70 फीट ऊँचाई से जल प्रपात कुण्ड में गिरता है। चट्टानों के बीच कल कल बहता झरना पर बरबस ही श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित कर उनका मन मोह लेता है। अरावली पर्वतमाला की इन्ही अट्टालिकाओं में केवड़े की नाल है। जिसकी प्राकृतिक सुन्दरता देखते ही बनती है। यहां आने वाले भक्त की हर मुराद पूरी होती है। इस रमणीय स्थल पर हर रविवार एवं नवरात्री में मेवाड़-मालवा मध्यप्रदेश सहित कई प्रदेशों के यात्री दर्शन लाभ लेने ओर प्राकृतिक छठा का आनंद लेते है। नीमच,निंबाहेड़ा, चितौडगढ़, रतलाम, मंदसौर, इंदौर, प्रतापगढ़ सहित आदि जगहों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं और मां के दर्शन कर यहां की सुंदरता को निहारते हैं।

हर मन्नत होती है पूरी......
किवंदिति है कि भंवरमाता पवित्र तीर्थ स्थान पर श्रावण मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मां ब्राह्मणी की कृपा बरसती है। यहां कई वर्षों से मेला लगता है। इस दिन जिन लोगों के प्रेत दोष या पितृ दोष होता है तथा जिन दंपत्तियों के संतान नहीं होती है। वे सपत्नीक पवित्र कुंड में स्नान कर माता के मंदिर के सात परिक्रमा कर मां को प्रणाम करके अपनी बात को शेर के कान में कहते है। ऐसा करने पर मां आशीर्वाद स्वरूप भक्तों की सभी कामनाएं पूर्ण करती है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.