NEWS: जिला चिकित्सालय संघर्ष समिति का एक और खुलासा, मैडम डॉ. सविता चमड़िया पडी फिर लोचे मे, CSP की रिपोर्ट में अपराधिक आरोप तय

Image not avalible

NEWS: जिला चिकित्सालय संघर्ष समिति का एक और खुलासा, मैडम डॉ. सविता चमड़िया पडी फिर लोचे मे, CSP की रिपोर्ट में अपराधिक आरोप तय

नीमच :-

जिला चिकित्सालय में व्याप्त समस्याओं को सुधारने के लिए प्रयासरत जिला चिकित्सालय संघर्ष समिति ने चिकित्सालय में डॉ. सविता चमड़िया की कार्यप्रणाली को लेकर एक और सनसनीखेज खुलासा किया है। खुलासे में बताया कि डॉ. चमड़िया आमनागरिकों के साथ ही ड्यूटी पदस्थ पुलिसकर्मियों से भी अभद्रता कर चुकी है जिसकी शिकायत भी महिला पुलिस आरक्षक ने कर रखी है जिसकी जांच में सीएमओ डॉ. केके वास्कले डॉ. चमड़िया को क्लीनचिट दे दिया हैं। जबकि सीएसपी अभिषेक दीवान की जांच में डॉ. चमड़िया पर लगाए गए आरोप सिध्द हो चुके हैं लेकिन जिला प्रशासन डॉ. सविता चमड़िया के खिलाफ किसी भी प्रकार की कार्रवाई करने से बच रहा है। जबकि इसमें सीधा-सीधा शासकीय कार्य में बाधा व डराने-धमकाने संबंधित मामले में डॉ. चमड़िया के विरूध्द प्रकरण दर्ज होना चाहिए। संघर्ष समिति के तरूण बाहेती व संदीप राठौर ने आरोप लगाया कि कई मामलों में शिकायत होने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने से लगता है कि कहीं न कहीं प्रशासन डॉ. चमड़िया का बचाने में लगा हुआ है। 

मामले का खुलासा करते हुए जिला चिकित्सालय संघर्ष समिति के तरूण बाहेती व संदीप राठौर ने बताया कि केंट थाने में पदस्थ महिला आरक्षक शबाना खान 30 जुलाई 2016 को रात्रि 9.45 बजे अपराध क्र. 249/16 के प्रकरण में दो युवतियों का मेडिकल कराने के लिए जिला चिकित्सालय गई थी। तब वहां डयूटी पर तैनात महिला महिला स्वास्थ्यकर्मियों ने महिला आरक्षक शबाना खान को कहा कि आप बैठों मेडम डॉ. सविता चमड़िया अभी आ रही है। कुछ देर बैठने के बाद महिला आरक्षक ने मौजूद स्वास्थ्यकर्मी से डॉ. चमड़िया के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि मेडम घर चली गई है। इसके बाद महिला आरक्षक ने डॉ. चमड़िया को फोन लगाया लेकिन उन्होंने नहीं उठाया फिर नर्स के मोबाईल से फोन लगाया तो डॉ. चमड़िया ने फोन उठा लिया और जब महिला आरक्षक ने डॉ. चमड़िया से बात की तो वह भड़क गई और अभद्र व्यवहार करते हुए महिला आरक्षक को धमकी देते हुए कहा कि तेरे वरिष्ठ अधिकारियों से तेरी शिकायत करूंगी। इसके बाद जब डॉ. चमड़िया चिकित्सालय पहुंची तो अस्पताल स्टाफ के समक्ष महिला आरक्षक से अभद्रता कर निलंबित कराने की धमकी दी।  इसके बाद महिला आरक्षक ने मामले से अपने वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया और केंट थाने के रोजनामचे में डॉ. चमड़िया की शिकायत की जिस पर पुलिस अधिकारियों ने कार्रवाई के लिए सीएमएचओ डॉ. वास्कले को प्रतिवेदन भेजा। डॉ. वास्कले मामले की जांच डॉ. मनीष यादव को सौंपी और डॉ. यादव ने जांच में रिपोर्ट में लिख दिया कि महिला आरक्षक को कथन के लिए बुलाया था वह नहीं आई। इस कारण शिकायत को निरस्त किया जाता है। पर शिकायतकर्ता महिला पुलिस आरक्षक का कहना है कि उसे बुलाया ही नहीं गया। इसके बाद यह मामला जिला चिकित्सालय संघर्ष समिति के समक्ष आया। समिति ने महिला आरक्षक से मुलाकात कर पुनः जांच के लिए पुलिस अधीक्षक को आवेदन दिलवाया और जांच कराई। इधर महिला आरक्षक की शिकायत पर सीएसपी श्री दीवान ने भी जांच की उन्होंने महिला आरक्षक के कथन लेने के बाद डॉ. चमड़िया को कथन के लिए बुलाया लेकिन वह कथन देने के लिए उपस्थित नहीं हुई। जांच के बाद पुलिस अधीक्षक को सौंपी जांच रिपोर्ट में सीएसपी दीवान ने लिखा है कि प्रथम दृष्टया पुष्टि होती है कि डॉ. चमड़िया ने महिला आरक्षक शबाना खान के साथ अभद्रता की है। 

हर मामले में डॉ. चमड़िया का बचा रहे सीएमएचओ-
संघर्ष समिति ने आरोप लगाया कि जिला चिकित्सालय समस्याओं घिरा हुआ है। आम आदमी के साथ-साथ शासकीय कर्मचारियों के साथ भी अभद्रता आम हो चुकी है। लापरवाही भ्रष्टाचार और अभद्र व्यवहार जिला चिकित्सालय की पहचान बन चुका है। संघर्ष समिति के तरूण बाहेती और संदीप राठौर ने बताया कि पिछले दिनो घटित रिश्वत कांड में भी डॉ. वास्कले से प्रशासन ने जांच कराई थी जिसमें भी उन्होंने डॉ. सविता चमड़िया को क्लीनचिट दे दी थीऔर इस मामले में डॉ. चमड़िया को क्लीनचिट सीएमएचओ की ओर मिल चुकी है। संघर्ष समिति ने आरोप लगाया कि जिला चिकित्सालय में चिकित्सकों की लापरवाही से किसी रोगी की मौत भी हो जाए तो उसे क्लीनचिट मिल जाता है। ऐसे हालत में कैसे कहें कि जिला चिकित्सालय में सुरक्षित उपचार मिल रहा है। इस ओर न तो प्रशासन ध्यान दे रहा है और न ही जनप्रतिनिधि जिसे देख लगता है कि चिकित्सालय के चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों को जनप्रतिनिधियों का संरक्षण प्राप्त है। 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.