CRIME: सावधान, नीमच में भी है श्रीजोगणिया ग्रुप के एजेंट, इनामी योजना में करोड़ों की ठगी करने वाले 3 गिरफ्तार, पढें खबर

Image not avalible

CRIME: सावधान, नीमच में भी है श्रीजोगणिया ग्रुप के एजेंट, इनामी योजना में करोड़ों की ठगी करने वाले 3 गिरफ्तार, पढें खबर

चित्तौड़गढ़ :-

शहर से सटे गणेशपुरा गांव में लाटरी के जरिये ईनामी योजना का प्रलोभन देकर करोड़ों रुपए की ठगी करने के मामले में सदर थाना पुलिस ने श्रीजोगणिया ग्रुप की गडबड़झाला का भंडाफोड़ करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया।  सदर थानाधिकारी शिवलाल मीणा ने बताया कि चंदेरिया क्षेत्र के पुठोली निवासी शांतिलाल सेन पुत्र बद्रीलाल सहित अन्य लोगों ने एसपी के समक्ष लाटरी के जरिये ठगी करने के मामले में परिवाद पेश किया था। 

सदर थाने में दर्ज प्रकरण के बाद शुरू हुई जांच में सामने आया कि ठगी के इस खेल में मंगलवाड़ क्षेत्र के संगेसरा गांव हाल बोदियाना नई आबादी निवासी तीनों भाई हीरापुरी राजुपुरी शिवपुरी पुत्र लक्षमणपुरी गोस्वामी के अलावा राशमी क्षेत्र के भीमगढ़ हाल गणेशपुरा निवासी गोपाल पुत्र मोहनलाल जाट ने मिलकर एक बुक पंपलेट छपवा कर इस जिले सहित भीलवाड़ा, एमपी के मंदसौर, नीमच राजसमंद, उदयपुर, कोटा, बारां आदि स्थानों पर प्रचार प्रसार कर इस लाटरी योजना के बारे में लोगों को बताते हुए लालच देकर स्कीम में शामिल करने के लिए एजेंट तैयार किए। 

ऐजेंटों ने लोगों से किश्तों में प्रतिमाह रुपए एकत्रित कर स्कीम संचालकों को देकर रसीद प्राप्त की। योजना में जुड़ने के लिए सदस्य तैयार करते थे। रुपए प्राप्ति के लिए दो हजार रसीद बुके 20 हजार पंपलेट भी प्रचार प्रसार के लिए छपवाए गए।

सीआई मीणा ने बताया कि पुलिस ने संचालकों के मोबाइल लोकेशन ट्रेस कर शिवपुरी, हीरापुरी राजुपुरी को गिरप्तार कर लिया। एक अन्य आरोपी गोपाल फरार हैं। गिरफ्तार आरोपियों ने लोगों से करोडों रुपए की ठगी करना स्वीकार किया हैं। आरोपियों को न्यायालय में पेश कर पीसी रिमांड पर लिया गया। उल्लेखनीय है कि कई सदस्यो के अंतिम ड्रा तक ईनाम नहीं खुलने एलईडी टीवी नहीं देने के बाद ठगी के शिकार लोगों ये मामला एसपी के समक्ष रखा था। 

हवाई यात्रा सोने के बिस्किट का दिया प्रलोभन 
सीआई मीणा ने बताया कि ठगी के लिए पंपलेट में मंहगी कारे, ट्रक, डंपर वोल्वो बस, जेसीबी मशीने, स्कूटी, सोने के बिस्किट सिक्के, हवाई जहाज से यात्रा कराने इनाम ड्रा में निकालने का लालच दिया। स्कीम में दस हजार सदस्य जोड़ते हुए उनसे शर्तो के अनुरुप रुपए जमा कराए गए। स्कीम संचालक प्रतिमाह अलग-अलग स्थानों पर ड्रा खोला जाता, लेकिन ड्रा के अनुसार लोगों को पूरा ईनाम नहीं देते थे। जिस सदस्य के अंतिम ड्रा तक कोई ईनाम नहीं खुलने पर उस सदस्य को 19 इंच का एलईडी टीवी देना तय था। 

परिवाद की सूचना मिलते ही फरार हो गए संचालक 
परिवाद पेश होने की जानकारी स्कीम संचालकों को होने के बाद सभी संचालक भी फरार हो गए। तीनों जने घटना के बाद से ही अपना मकान दूसरे को गिरवी रख फरार हो गए थे। उदयपुर में आरटीओ ऑफिस के पीछे सुखेर क्षेत्र में फ्लेट किराये से लेकर रह रहे थे। जिन्हे पुलिस ने जांच के बाद गिरफ्तार किया। 


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.