खबरे ELECTION 2019: 5 लाख युवा मतदाता बनेंगे लोकसभा में गेम चेंजर, पढें खबर EDUCATION: जनकपुर उमावि में कक्षा 10वीं और 12वीं के परीक्षा परिणाम रहे श्रेष्ठ, पढें खबर ELECTION 2019: चुनाव के चलतें 23 मई को यातायात व्‍यवस्‍था में होगा बदलाव, रहेगी चाक-चौबंद व्‍यवस्‍था, पढें खबर VIDEO: एमपी में विधायकों की हॉर्स ट्रेडिंग शुरू, कमलनाथ सरकार के मंत्री को आया 50 खोके का ऑफर, देखे खबर BIG NEWS: पुलिस की बडी कार्रवाही, जुआरियों के ठिकाने पर दी दबिश, 19 गिरफ्तार, 26 हजार 700 रूपए नकदी बरामद, पढें खबर BIG NEWS: बोरवेल व ट्रक भिड़े, दोनों के चालक फंसे, गैस कटर से ​कैबिन काटकर दोनों को निकाला बाहर, पढें खबर WOW: कैंसर को मात दे चुका ये शख्स अब कर रहा शहर को पॉलीथिन मुक्त, पढें खबर POLITICS: नमो ग्रुप जावद वार्ड क्रमांक 3 की कार्यकरणी गठित, धाकड़ अध्‍यक्ष नियुक्‍त, पढें खबर NEWS: प्रशिक्षण शिविर का बढा हुआ शुल्क तो घटा दिया, अब कर रहे प्रचार-प्रसार, पढें खबर BIG NEWS: काम के लिए कहा तो कर्मचारी ने डॉक्टर के खिलाफ किया इस्तगासा, न्‍यायालय ने किया खारिज, पढें खबर BIG NEWS: बिजली के झटके से किसान कुएं में गिरा, मौत, पढें खबर OMG ! इस शहर में देर रात इस बात को लेकर ग्रामीणों ने किया पुलिस पर पथराव, बाइक फूंकी, एएसआई घायल, पढें खबर BIG NEWS: ट्रेन के बाथरूम में मिला महिला का शव, शहर में फैली सनसनी, पति ने जताई हत्‍या की आशंका, पढें खबर

NEWS: यदि WIFE गर्भवती है तो कर्मचारी का ट्रांसफर नहीं कर सकते: हाईकोर्ट का आदेश

Image not avalible

NEWS: यदि WIFE गर्भवती है तो कर्मचारी का ट्रांसफर नहीं कर सकते: हाईकोर्ट का आदेश

नीमच :-

जबलपुर। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने शासकीय कर्मचारियों की तबादला नीति के संदर्भ में एक एतिहासिक आदेश जारी किया है। इसके तहत यदि किसी कर्मचारी की पत्नी गर्भवती है और उसके घर में देखभाल करने वाला कोई दूसरा पुरुष उपलब्ध नहीं है तो ऐसी स्थिति में कर्मचारी का तबादला 'अमानवीय ट्रांसफर' की श्रेणी में माना जाएगा। इस अवैध है। इसे निरस्त किया जाना चाहिए। 

न्यायमूर्ति एसए धर्माधिकारी की एकलपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान याचिकाकर्ता दमोह निवासी महेश गुप्ता की ओर से अधिवक्ता श्रीमती सुधा गौतम ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि पूर्व में हाईकोर्ट ने निर्देश दिया था कि पत्नी के गर्भवती होने के कारण दमोह से पन्ना ट्रांसफर पर पुनर्विचार किया जाए। इसके बावजूद ऐसा नहीं किया गया। 

इसके स्थान पर संवेदनहीन होकर कठोर आदेश पारित कर दिया गया। इसी से व्यथित होकर दोबारा हाईकोर्ट की शरण लेनी पड़ी। यदि ट्रांसफर आदेश पर रोक नहीं लगाई गई तो गर्भवती पत्नी दमोह में अपनी बीमार सास के साथ अकेली रह जाएगी। ऐसे में दोनों की देखभाल मुश्किल होगी।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.