खबरे NEWS ROUND: पढियें जिले की हर एक छोटी खबर सिर्फ 5 मिनट में POLITICS: भड़भड़िया की गलियों में गूंजा चप्पा चप्पा भाजपा, धूमधाम से निकला नवनिर्वाचित विधायक श्री परिहार का विजय जुलूस, पढें खबर BIG BREAKING : विकास नगर में चैन स्नेचिंग, 73 वर्षीय महिला के गले से छीनी चैन, पुलिस मौक़े पर NEWS: शीत लहर से कंपकंपाया मप्र, अभी और बढ़ेगी ठण्ड, पढें खबर NEWS: जीत का जुनून, मंदसौर में यशपाल सिंह की जीत की खुशी में फ्रि शेविंग-कटिंग, पढें खबर NEWS: भागवत कथा, पं. शास्‍त्री बोले अवतार महापुरूश को जन्म देने वाली मां भगवान से भी बड़ी होती है, पढें खबर NEWS: चलो शिर्डी चलो शिर्डी, नीमच से नीमच से शिर्डी सांई बस यात्रा 18 को, पढें खबर NEWS: मनोहर नागदा के श्रीमुख से श्रीराम कथा ज्ञान गंगा का शंखनाद आज से, पढें खबर Ground Report: बघाना के लोग गंदगी व मच्छरों के आतंक से बेहाल, नपा के जिम्‍मेदार अधिकारी बेखबर, पढें महेन्‍द्र अहीर प्‍यासा की खबर BIG NEWS: नीमच में ठंड बढ़ने के कारण समय बदला...सोमवार से सुबह 9 बजे लगेंगे सरकारी व निजी स्कूल, पढें खबर

RELATIONSHIP: क्‍यों उम्र बढ़ने के बाद महिलाओं में घटती जाती है सेक्‍स में द‍िलचस्‍पी, र‍िसर्च से सामने आया जवाब

Image not avalible

RELATIONSHIP: क्‍यों उम्र बढ़ने के बाद महिलाओं में घटती जाती है सेक्‍स में द‍िलचस्‍पी, र‍िसर्च से सामने आया जवाब

डेस्‍क :-

रजोनिवृत्ति किसी महिला के जीवन का वह समय होता है जब उनके अंडाशय की गतिविधियां समाप्त हो जाती हैं। यदि एक साल तक माहवारी की प्रक्रिया न हो तो ऐसा माना जाता है कि महिला रजोनिवृत्ति की स्थिति में है। बढ़ती उम्र के साथ जब महिलाएं रजोनिवृत्ति की अवस्था से गुजरती हैं तो उनमें शारीरिक संबंध बनाने को लेकर अरूचि की समस्या सामने आती है। हाल ही में एक शोध में इस बात को प्रमाणित भी किया गया है। नॉर्थ अमेरिकन मेनोपॉज सोसाइटी के वार्षिक सम्मेलन में पोर्टलैंड के कैसर पर्मानेंट सेंटर ऑफ हेल्थ रिसर्च के डॉ. एमांडा क्लार्क ने इस संबंध में एक शोधपत्र प्रस्तुत किया है।

शोधपत्र में रजोनिवृत्त महिलाओं में जोनिटोयूरीनरी सिंड्रोम (जीसीएम) के प्रसार का परीक्षण किया गया है। साथ ही यह भी पता लगाने की कोशिश की गई है कि कैसे यह रजोनिवृत्त महिलाओं के शारीरिक संबंध बनाने की इच्छाओं को भी प्रभावित करता है। जीएसएम महिलाओं के रजोनिवृत्ति या रजोनिवृत्ति के बाद योनि तथा मूत्र क्षेत्रों की समस्याओं से संबंधित बीमारी है। इस अध्ययन में डॉ. क्लार्क ने तकरीबन तीन महीने तक अपनी टीम के साथ 55 साल और उससे अधिक की उम्र की 1500 से ज्यादा महिलाओं पर सर्वे किया था।इन महिलाओं में से लगभग आधी ने पिछले 6 महीने से किसी भी तरह की सेक्शुअल एक्टिविटी से इनकार किया है। सर्वे में महिलाओं से उनके मूत्र तथा यौन लक्षणों से संबंधित पूछताछ की गई थी।

सर्वे में महिलाओं ने शारीरिक संबंधों को लेकर सक्रियता में कमी के अलग-अलग कारण बताए हैं। 47 प्रतिशत महिलाओं ने पार्टनर की अरूचि, शारीरिक अक्षमता तथा मेडिकल कारणों को सेक्शुअल एक्टिविटी में कमी का जिम्मेदार ठहराया। 7 प्रतिशत महिलाओं ने ब्लैडर लीक, अर्जेंसी और बार-बार पेशाब आने की समस्या को इसकी वजह बताया है वहीं 26 प्रतिशत महिलाओं ने योनि के शुष्क हो जाने, चिड़चिड़ापन और दर्द को सेक्सुअल इनएक्टिविटी का कारण बताया है।

इसके अलावा तकरीबन 24 प्रतिशत महिलाएं ऐसी थीं जिन्होंने इसका कारण दाईस्पेरेनिया बताया है। दाईस्पेरेनिया सेक्स के दौरान महिलाओं को होने वाले दर्द को कहा जाता है। रजोनिवृत्ति के बाद सेक्शुअली एक्टिव महिलाओं ने भी दर्द और असहजता की शिकायत के बारे में बताया है। तकरीबन 45 प्रतिशत महिलाओं ने अक्सर शारीरिक संबंधों के दौरान दर्द की बात को स्वीकार किया है जबकि 7 प्रतिशत महिलाओं ने सेक्स दौरान यूरीन लीकेज की भी शिकायत की है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.