VIDEO: मंदसौर निर्भयाकांड, पुलिस ने 14 दिनों में चालान किया पेश, पॉक्सो एक्ट के तहत आरोपियों को मिलेगी सजा, दर्ज हुए करीब 100 गवाहों के बयान, पढें श्‍याम गुर्जर की खबर

मंदसौर :-

मंदसौर। मंदसौर में आठ साल की मासूम बच्ची के साथ हुई हैवानियत के मामने में पुलिस ने 14 दिनों में ही आरोपियों के खिलाफ चालान पेश किया है। मन्दसौर की जिला एवंद द्वितीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश निशा गुप्ता की कोर्ट में पेश हुए चालान में 350 पेज हैं।

मन्दसौर की जिला एवं द्वितीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश निशा गुप्ता की कोर्ट में पेश किए गए चालान में कुल 92 गवाह हैं।  उक्त जानकारी देते हुए सहायक लोक अभियोजन अधिकारी नितेश कृष्णन ने बताया इस मामले में दोनों आरोपियों के खिलाफ फांसी से संबंधित सजा भी लगाई गई है, साथ ही दोनों आरोपियों को आज कोर्ट में पेश किया गया। 

वहीं सागर लैब से आई फॉरेंसिक रिपोर्ट को भी एसआईटी ने चालान के साथ पेश किया है। जानकारी के अनुसार एसआईटी ने चालान, भौतिक साक्ष्यों के साथ और भी बिंदुओं को शामिल किया गया है। इस दौरान आरोपियों के बालों का सेंपल और सीसीटीवी फुटेज,वीडियोग्राफी भी कोर्ट में पेश की गई। पुलिस द्वारा  पॉक्सो कोर्ट में 350 पेज का चालन पेश होने के बाद अब उक्त प्रकरण को पॉस्को एक्ट के तहत सुनवाई में लाया जाएगा, साथ ही पीड़िता को जल्द से जल्द न्याय दिलाने के लिए शासन की पहल पर फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई होगी।

गौरतलब है कि, 27 जून को मंदसौर में स्कूल से लौट रही आठ साल की मासूम बच्ची को मिठाई का लाचच देकर उसे आरोपियों ने अगवा किया और बाद में उसके साथ आसिफ और इरफान नाम के दरिंदों ने गैंगरेप कर उसकी हत्या करने की कोशिश की। बता दें कि आरोपी मासूम को झाड़ियों में फेंक कर फरार हो गए थे , जिन्हें बाद में गिरफ्तार कर लिया गया। 

वहीं पीड़िता को तत्काल मंदसौर से इंदौर के एम वाय अस्पताल रैफर किया गया था. जहां उसका इलाज जारी रहा। इलाज के दौरान उसकी जांच बचाने के लिए डॉक्टरों को उसकी एक आंत भी काटनी पड़ी। हालांकि एमवाय के डॉक्टरों के साथ दिल्ली के एम्स से आए डॉक्टरों की टीम ने उसका बेहतर इलाज किया। अब मासूम की हालत में काफी  सुधार है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.