RELATIONSHIP: रिश्ते में शारीरिक संबंध बनाना क्यों महत्वपूर्ण होता है

Image not avalible

RELATIONSHIP: रिश्ते में शारीरिक संबंध बनाना क्यों महत्वपूर्ण होता है

डेस्‍क :-

शादी से पहले शारीरिक संबंध बनाना गलत माना जाता है। खासकर भारतीय परिवारों में लोगों की यहीं अवधारणा रहती है कि शादी से पहले महिला और पुरुष के बीच किसी भी प्रकार का शारिरीक संबंध वर्जित होता है। लेकिन किसी के साथ भी शारीरिक संबंध का मतलब सिर्फ और सिर्फ यौन संबंध बनाने से नहीं होता है बल्कि शारीरिक संबंध का मतलब आपके पार्टनर का प्यार और स्नेह की गर्माहट को महसूस करना होता है। जब आपका पार्टनर आपको छूता है, चूमता है, गले मिलता है तो आप उसके प्यार की गर्माहट महसूस कर पाते हैं।

प्यार के रिश्ते में इंटिमेसी होना बहुत जरुरी होता है क्योंकि इंटिमेसी (intimacy) के बिना रिश्ता धीरे-धीरे कमजोर पड़ने लगता है और खत्म हो जाता है। रिलेशनशिप में शारीरिक संबंध ना सिर्फ रिश्ते को मजबूत बनाते है बल्कि दो लोगों के शरीर और आत्मा को भी एक साथ लाते हैं। यह आपका आपके पार्टनर के साथ सुरक्षात्मक संबंध भी बनाती है। इसी के साथ पार्टनर के साथ आपका शारीरिक संबंध (physical relationship) आपको स्वस्थ भी बनाता है। अगर आप अपने स्वास्थ्य के प्रति स्वयं जागरुक है तो इस तरह के संबंध बनाने में कोई परेशानी नहीं है। इस आर्टिकल में हम आपको विस्तार से समझाने जा रहे हैं कि एक रिश्ते में शारिरीक संबंध होना क्यों महत्वपूर्ण होता है और उसकी क्या जरुरत होती है। आइए जानते हैं रिश्ते में शारीरिक संबंध बनाने से जुड़ी कुछ विशेष बातों के बारे में।

दो प्यार करने वाले लोगों के बीच शारीरिक स्पर्श और इंटिमेसी करीबी को इतना बढ़ा देते हैं कि आप सोच भी नहीं सकते हैं। इसलिए अगर आप भी रिलेशनशिप में प्यार, जुड़ाव और करीबी बढ़ाना चाहते हैं तो उसके लिए शारीरिक संबंध बनाना कारगर होता है।

लव पार्टनर्स प्यार जताने के लिए एक-दूसरे को छूते हैं,  किस (Kiss) करते हैं,  गले मिलते हैं और आपका पार्टनर आपको अपनी बाहों में कस लेता है तो आपको उनकी बाहों में सुरक्षा का एहसास होता है। यह एहसास काफी अद्भभुत होता है साथ ही रिश्ते में प्यार भी बढ़ाता है।

जब आपका साथी आपको बाहों में लेता है तो आपको खुद-ब-खुद एहसास होता है कि आप उनके लिए कितने महत्वपूर्ण हैं। साथी के गले मिलने से आपके शरीर में जो हार्मोन स्रावित होते हैं वे आपको अपने आप खुशी का एहसास करवाते हैं और आपके पार्टनर का भी तनाव कम करते हैं।

पार्टनर्स के बीच चाहें कितना भी तनाव या गुस्सा क्यों ना हो  अगर आप एक-दूसरे के गले मिलते हैं तो आपको बेहद सूकून मिलता है। ठीक इसी प्रकार रिलेशनशिप में शारीरिक संबंध रिलेशनशिप को मजबूती देता है और पार्टनर्स की बीच सारी दूरियां मिटा देता है।

पार्टनर के द्वारा संवेदनशील जगहों पर छूने से आपके शरीर में जो सेंसेशन (sensation) यानि की संवेदना पैदा होती है दरअसल वह हार्मोन से स्राव के कारण पैदा होती है। यह संवेदना आपको उत्तेजना(excitement) और मादकता का एहसास करवाती है साथ ही तनाव को कम करने में भी मदद करती है।

रिश्ते में शारीरिक संबंध बनाना पार्टनर्स का एक-दूसरे के लिए प्यार जताने का एक बेहतर तरीका होता है। शारीरिक संबंधों की कमी के कारण रिश्ता खोखला होता जाता है और धीरे-धीरे खत्म भी हो जाता है  क्योंकि इसकी कमी के कारण रिश्ते में आत्मीयता और एक-दूसरे के प्रति भरोसे का एहसास नहीं होता है।

शारीरिक संबंध एक-दूसरे को भावनात्मक रुप से इतना करीब लाते हैं कि आप अपने पार्टनर को सबकुछ खुल कर बता पाते हैं। ऐसे में आपके जीवन में अकेलेपन और निराशा की कोई जगह नहीं रह जाती है।

बहुत बार एक स्वस्थ प्यार भरे रिश्ते में अगर शारीरिक संबंध नहीं होता है तो दो लोगों के बीच सबकुछ सही होते हुए भी दूरियां बढ़ने लग जाती है। लेकिन रिलेशनशिप में शारीरिक संबंध रिश्ते की परेशानियां खत्म कर देते है और आपके संबंध मजबूत और प्यार भरे बनते हैं। बहुत बार शारीरिक संबंध बनाने से आपके पार्टनर की सारी शिकायतें दूर हो जाती है।

इंटिमेसी (intimacy) और इंटरकोर्स (intercourse) दोनों ही दो अलग-अलग चीजें हैं। एक रिश्ते में इन दोनों का होना ही बहुत जरुरी होता है। रिलेशनशिप में यौन संबंध बनाने से पहले भी पार्टनर के साथ इंटिमेसी (intimacy) बहुत जरुरी होती है इसलिए अपने रिश्ते को प्यार भरा और खुशहाल बनाए रखने के लिए आपसी सहमति से इंटिमेसी (intimacy) और इंटरकोर्स (intercourse) गलत नहीं होता है।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.