VIDEO: किसान नेता तरूण बाहेती ने ग्रामीणों के साथ किया जल सत्‍याग्रह, मामला अंडर ब्रिज में जलभराव का, पढें खबरM7rJ0iY8ISo

नीमच :-

नीमच। ग्रामीणों की सुविधा के लिए बनाया गया जिले का सबसे बड़ा तालखेड़ा रेलवे अंडर ब्रिज ग्रामीणों के लिए दुविधा बन गया है। बिना उचित मापदंड के बना अंडरब्रिज में बारिश का पानी भर गया और करीब 20 गांवों का संपर्क टूट गया है। ग्रामीणों सूचना पर बुधवार को युवा कांग्रेस प्रदेश सचिव तरूण बाहेती मौके पर पहुंचे और समस्या निराकरण की मांग को लेकर पानी के बीच में लगभग 1 घंटे तक अडंर ब्रिज में खड़े होकर जल सत्याग्रह किया ।जल सत्याग्रह में युवाओं के साथ बड़ी संख्या में महिलाओ व वृद्धजन ने भी जल सत्याग्रह किया। जल सत्याग्रह आंदोलन की खबर मिलते ही जीरन तहसीलदार मधु नायक मौके पर पहुंची और उचित कार्रवाई का आश्वासन देकर आंदोलन को खत्म कराया। मामले में कांग्रेस नेता तरूण बाहेती ने बताया कि जीरन तहसील अंतर्गत आने वाले तालखेड़ा रेलवे अंडर ब्रिज से करीब 20 गांव जुड़े हुए हैं। ब्रिज नीमच जिले का सबसे बड़ा रेलवे अंडर ब्रिज है, जिसका निर्माण विगतकुछ माह पूर्व ही रेलवे ने किया है, लेकिन अंडर ब्रिज के निर्माण के दौरान पानी की निकासी के उचित प्रबंध नहीं किए गए, जिसके कारण पहली बारिश में ही अंडरब्रिज में करीब 4 फुट पानी भर चुका है। इस कारण करीब 20 गांवों का जिला एवं तहसील मुख्यालय से संपर्क टूट चुका है और आवागमन बाधित हो गया है, जिसमें तालखेड़ा, चल्दू, खेताखेड़ा, बरखेड़ा सौंधिया, शकरग्राम, बांसखेड़ा, आकली, बांसखेड़ी, सकरानी हरकियाखाल, जीरन आदि शामिल है। मंगलवार शाम को हुई बारिश के बाद तो हालत यह हो गए कि बड़े वाहनों का भी अंडर ब्रिज से निकला दुभर हो गया। श्री बाहेती ने बताया कि अंडर ब्रिज में पानी भरने और गांवों का संपर्क टूटने की खबर जैसे ही ग्रामीणों ने मुझे दी। मैं तत्काल मौके पर पहुंचा और सैंकड़ों ग्रामीणों के साथ नहर का रूप ले चुके तालखेड़ा अंडर ब्रिज में ही जल सत्याग्रह शुरू किया। आंदोलन की खबर मिलते ही करीब एक घंटा बाद जीरन तहसीलदार मधु नायक मौके पहुंची, जिन्होंने समस्या निराकरण करने का आश्वासन दिया।

तहसीलदार से बोले बाहेती कैसे पार करें अंडर ब्रिज को:-

मौके पर ग्रामीणों को समझाईश देने तहसीलदार सुश्री नायक से कांग्रेस नेता श्री बाहेती ने कहा कि अंडर ब्रिज के निर्माण के दौरान रेलवे के अधिकारियों ने इस बात पर ध्यान नहीं दिया कि अंडर ब्रिज में पानी भर गया तो कैसे ग्रामीण ब्रिज को पार करेंगे। श्री बाहेती ने तहसीदार को बताया कि पानी के कारण बच्चे 6 दिन से स्कूल नहीं जा पाए। इधर वर्तमान में कृषि कार्य चल रहा है, जिसके कारण किसानों को बीज-खाद के लिए जिला और तहसील मुख्यालय आना जाना पड़ता है, लेकिन अंडर ब्रिज में पानी के कारण वे कही आ जा नहीं पा रहे हैं। श्री बाहेती ने मांग करते हुए कहा कि 4 दिन में समस्या का हल किया जाए साथ ही भविष्य में इस तरह की दिक्कत न तो इसके लिए स्थाई समाधान किया जाए।

जनप्रतिनिधियों पर लगाए कमीशनखोरी के आरोप:-

श्री बाहेती ने क्षेत्र के सांसद और विधायक पर अंडर ब्रिज निर्माण के दौरान कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने और कमीशनखोरी के आरोप लगाए। उन्होंने बताया कि जब अंडर ब्रिज का निर्माण किया जा रहा था। तब न तो रेलवे के अधिकारियों ने इस बात पर ध्यान दिया कि बारिश के दिनों में अंडरब्रिज का रास्ता जलमग्न हो जाएगा और न ही सांसद या विधायक ने इस मुद्दे को उठाया। उन्होंने ने अंडर ब्रिज निर्माण में कमीशन मिलने के बाद इस तरफ ध्यान तक देना मुनासीब नहीं समझा। श्री बाहेती ने कहा कि अब हालात खराब हो चुके हैं, उसके बाद भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। श्री बाहेती ने कहा कि समस्या का जल्द से जल्द निराकरण नहीं किया जाता है और पांच दिन बाद अनिश्चित कालीन सत्याग्रह किया जाएगा तथा समस्या का स्थाई निराकरण नही हुआ तो रेल रोको आन्दोलन भी किया जाएगा।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.