NEWS: गायों का वध हेतु अवैध परिवहन करने वाले आरोपी को 06 माह का सश्रम कारावास एवं जुर्माना, पढें खबर

Image not avalible

NEWS: गायों का वध हेतु अवैध परिवहन करने वाले आरोपी को 06 माह का सश्रम कारावास एवं जुर्माना, पढें खबर

नीमच :-

नीमच। श्री संजीव कुमार पालीवाल, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, जावद द्वारा एक आरोपी को 38 गायों का वध किये जाने हेतु अवैध परिवहन किये जाने के आरोप का दोषी पाकर 06 माह के सश्रम कारावास एवं जुर्माने से दण्डित किया गया।

अभियोजन मिडीया सेल प्रभारी ए.डी.पी.ओ. रितेश कुमार सोमपुरा द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि घटना लगभग 18 वर्ष पुरानी होकर दिनांक 20.04.2000 की है। पुलिस नयागांव चौकी को मुखबीर द्वारा सूचना प्राप्त हुई की एक ट्रक में अवैध रूप से गायों को भरकर वध किये जाने हेतु धुलिया महाराष्ट की ओर से लाया जा रहा हैं।

सूचना की तस्दीक हेतु दिन के लगभग 12ः00 बजे नयागांव चौकी पुलिस फोर्स के साथ आर.टी.ओ. बैरियर, नयागांव पर पहुची जहॉ पर उन्हे मुखबीर सूचना के बताये अनुसार एक ट्रक क्रमांक एम.पी. 14 के. 0245 खड़ा हुआ दिखा, जिसकी तलाशी लिये जाने पर उसमें 38 गायें भरी हुई थी। ट्रक में ड्रायवर के अलावा एक व्यक्ति ओर था जिनके पास इन 38 गायो के परिवहन के संबंध में कोई कागजात नही थे। सख्ती से पूछताछ करने पर दोनों आरोपियों के द्वारा बताया कि वे गायो को वध हेतु ले रहे हैं।

पुलिस नयागांव चौकी द्वारा ट्रक व गायो को जप्त कर आरोपियों के विरूद्ध थाना जावद अपराध क्रमांक 111/2000, धारा 10 म.प्र. कृषिक पशु परिरक्षण अधिनियम, 1959 के अंतर्गत पंजीबद्ध कर शेष विवेचना पूर्ण कर चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। विचारण के दौरान एक आरोपी फखरूद्दीन फरार हो गया।अभियोजन पक्ष की ओर से जप्तीकर्ता पुलिस फोर्स के सदस्यों अलावा मौके के पंचान साक्षी सहित सभी आवश्यक गवाहों के बयान न्यायालय में कराकर आरोपी के विरूद्ध अपराध को संदेह से परे प्रमाणित कराया गया। दण्ड के प्रश्न पर अभियोजन की ओर से तर्क किया गया कि आरोपी द्वारा निर्दयतापूर्वक गायो का वध करने के उद्देश्य से उनको ले जाया जा रहा था, अतः आरोपी को कठोर कारावास से दण्डित किया जाये।

अभियोजन के तर्को से सहमत होकर संजीव कुमार पालीवाल, न्यायिक दण्डिधिकारी प्रथम श्रेणी, जावद द्वारा आरोपी शौकत पिता कासम कुरैशी, उम्र-42 वर्ष, निवासी-ग्राम बौतलगंज, जिला-मंदसौर को धारा 10 म.प्र. कृषिक पशु परिरक्षण अधिनियम 1959 में 06 माह के सश्रम कारावास व 1,000रू. जुर्माने से दण्डित किया। न्यायालय में शासन की ओर से रमेश नावडे़, एडीपीओ द्वारा पैरवी की गई।


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright VOICEOFMP 2017. Design and Developed By Pioneer Technoplayers Pvt Ltd.