खबरे BIG NEWS: भावगढ़ थाना पुलिस की बड़ी कार्रवाही, 30 पेटी अवैध शराब के साथ वाहन जब्‍त, 1 आरोपी गिरफ्तार, पढें खबर BIG BREAKING: धारदार हथियारों के साथ 2 दर्जन बदमाशों ने युवक की किया जानलेवा हमला, युवक गंभीर, पुलिस मौके पर, पढें दिनेश मेनारिया की खबर TOP NEWS: मंदसौर गोलीकांड की बरसी, कांग्रेस ने सिंधिया का वीडियो ट्वीट कर याद दिलायी उनकी बात, पढें खबर BIG REPORT: शिवराज सरकार और कांग्रेस के बीच ट्विटर वार, CM बोले, वो राजनीति करते रहे और हम काम, पढें खबर , पढें खबर BIG NEWS: क्रियाशील कोविड केयर सेन्‍टर तथा डेडीकेटेड कोविड सेन्‍टर के चिकित्‍सकों, स्‍टॉफ नर्स, गार्ड एवं सफाई कर्मचारियों का 2 दिवसीय प्रशिक्षण सम्पन्न, पढें कमलेश चौहान की खबर BIG REPORT : 3 साल 6 जून और किसान आंदोलन, भाजपा-कांग्रेस कार्यकर्ताओं और आम जनता ने शहीद किसानों को दी श्रध्‍दांजलि, देखें दीपक खताबिया की रिपोर्ट BIG NEWS: सरवानिया मोरवन मंडल मे नव नियुक्त अध्यक्ष ने युवामोर्चा के आयोजन मे वितरित किये मास्क और सेनेटाइजर, पढ़ें दिनेश वीरवाल की खबर BLOOD DONATE: टीम जीनवदाता के नेतृत्‍व में रक्‍दान शिविर का आयोजन, युवा पीड़ी ने बढ़ाए हाथ, 120 यूनिट किया रक्‍तदान, नारी शक्ति ने भी निभाई अहम भूमिका, पढें खबर BIG NEWS: विश्‍व पर्यावरण दिवस, शिव सैनिकों ने किया पौधारोपण, पर्यावरण बिनना मानव जीवन सुरक्षित नहीं, रंजन स्वामी, पढें खबर BIG NEWS: न्‍यायालयों के लिए लॉक डाउन की अवधि रहेगी 13 जून तक, पूर्व आदेशानुसार कार्य होगा निष्‍पादन, पढें शब्‍बीर बोहरा की खबर BIG NEWS: मन्दिर पहुंचने पर नहीं हो पायेंगे दर्शन, प्री-बुकिंग के आधार पर मन्दिर में होगा प्रवेश, 8 जून से भक्‍तों के लिये खोला जायेगा श्री महाकालेश्वर मन्दिर, 3 स्लॉट में होंगे दर्शन, कलेक्टर सिंह की अध्यक्षता में मन्दिर प्रबंध समिति की बैठक सम्पन्न, पढें खबर BIG NEWS: फार्मर प्रोडयुसर कंपनी व चंबल माता अग्रणी कृषक प्रोड्युसर कंपनी के साथ कलेक्टर ने की बैठक, कही यें बड़ी बात, पढें कमलेश चौहान की खबर BIG NEWS: 100 किलो गांजे का अवैध परिवहन करने वाले आरोपी अपने पिता के अंतिम दर्शन से हुआ वंचित, समाज के व्यापक हित हेतु आरोपी का जमानत आवेदन निरस्त, पढें दिलीप सौराष्‍ट्रीय की खबर BIG NEWS: साढ़े 14 किलो गांजे का अवैध परिवहन करने वाले आरोपीगण का जमानत आवेदन निरस्त, पढें दिलीप सौराष्‍ट्रीय की खबर

HEALTH: होम्‍योपैथी की दवा खाने से पहले जरूरी है इन बातों का ध्यान रखना

Image not avalible

HEALTH: होम्‍योपैथी की दवा खाने से पहले जरूरी है इन बातों का ध्यान रखना

डेस्‍क :-

कई असाध्‍य रोगों में होम्योपैथिक दवाएं एक तरीके से वरदान मानी जाती हैं. इन मीठी गोलियों का जादू ऐसा है कि ये कई खतरनाक बीमारियों से हमेशा के लिए निजात दिला देती हैं. हाल में ही आईं एक रिपोर्ट के अनुसार किडनी और थायरायड रोग से निजात दिलाने के लिए सबसे अच्छा तरीका हौम्योपैथिक दवाएं हैं. बावजूद इसके कई अच्‍छे डॉक्‍टर भी हैरान रह जाते हैं कि उनकी दवा मरीज पर असर क्‍यों नहीं कर रही हैं. दरअसल डॉक्‍टर की सलाह के बावजूद हम कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं कि दवा का असर नहीं हो पाता. तो ये है होम्योपैथी दवाओं को लेने का सही तरीका.

डॉ पुनीत सरपाल के अनुसार जब भी हम दवा लें तो हमारा मुंह साफ हो, किसी भी प्रकार का खाद्य पदार्थ मुंह में न हो. कुछ भी खाने के 5 मिनट बाद ही दवा लें. ध्यान रखें कि यदि गंध वाली चीज जैसे इलायची, लहसुन, प्याज या पिपरमिंट खाई है तो 30 मिनट के बाद ही दवा लें. इस दौरान कॉफी न पीएं. ये दवा के असर को खत्म करती है. 

इसे निगलने व चबाने की बजाय चूसकर ही खाएं क्योंकि दवा का असर जीभ के जरिये होता है. दवा खाने के 5-10 मिनट बाद तक कुछ न खाएं. होम्‍योपैथी दवाओं का असर इस बात पर निर्भर करता है कि मरीज का रोग एक्यूट है या क्रॉनिक. एक्यूट रोगों में यह 5 से 30 मिनट और क्रॉनिक बीमारियों में यह 5 से 7 दिन में असर दिखाती है. 
जो काम 2 गोली करती है वही चार गोलियां करेंगी. इसलिए ज्यादा या कम दवा लेने से कोई फर्क नहीं पड़ता. दवा की एक डोज भी काफी होती है.

होम्योपैथी दवाएं मीठी क्यों होती हैं 

इस बारे में डॉ सरपाल बताते हैं कि होम्योपैथिक औषधियां अल्कोहल में तैयार की जाती हैं जो काफी कड़वा होता है. कुछ अल्कोहल काफी कड़वे होते हैं जिससे मुंह में छाले पड़ने की आशंका रहती है. इसलिए इसे सफेद मीठी गोलियों में डालकर देते हैं. दवा के हाथ में आते ही उसमें मौजूद अल्कोहल वाष्पीकृत होने के कारण असर कम हो जाता है. इसलिए दवा को ढक्कन या कागज पर रखकर खाने को कहा जाता है.

दवा की पोटेंसी 

अक्सर होम्योपैथी दवाओं को देते समय डॉक्टर पोटेंसी की बात करते हैं. पोटेंसी दवा को रोग के अनुसार प्रभावी बनाने का काम करती है. जरूरत से ज्यादा पोटेंसी तकलीफ बढ़ा सकती है और जरूरत से कम इलाज के समय को लंबा करती है. यह रोग की गंभीरता, समयावधि, तीव्रता, लक्षण, उम्र और स्वभाव के आधार पर तय की जाती है. होम्योपैथी चिकित्सा में पोटेंसी का मतलब ‘पावर ऑफ मेडिसिन’ होता है. यह दवा की गुणवत्ता को तय कर असर करती है.

ये दो तरह की होती हैं लोअर पोटेंसी और हायर पोटेंसी. लोअर पोटेंसी एक्यूट डिजीज जैसे सर्दी-जुकाम में दी जाती है. इसके अलावा एलर्जिक डिजीज जैसे अस्थमा, एक्जिमा जिसमें लक्षण स्पष्ट नहीं होते, ऐसी स्थिति में भी लोअर पोटेंसी दी जाती है. हायर का स्तर छह से लेकर एक लाख पोटेंसी तक होता है. इसमें यदि मरीज का स्वभाव बीमारी के साथ बदल रहा हो तो उचित पोटेंसी का चयन करते हैं. लोअर पोटेंसी हफ्ते में 4-6 बार और हायर पोटेंसी हफ्ते या 15 दिन में एक बार देते हैं.


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.