खबरे NEWS: मनासा व्‍यापारी संघ ने नीलकंठ महादेव में किया वार्षीक सम्‍मेलन का आयोजन, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर NEWS: मनासा विधानसभा में हुई मूसलाधार बारिश, रहवासियों के नुकसान को लेकर कांग्रेस नेता गुर्जर ने की जिला कलेक्‍टर व एसडीएम से चर्चा, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर BIG NEWS: ऑपरेशन प्रहार, नार्कोटिक्‍स पुलिस को मिली बडीं सफलता, अवैध मादक पदार्थ अफीम जब्‍त, आरोपी भी गिरफ्तार, पढें शब्‍बीर बोहरा की खबर BIG REPORT: जिला कलेक्‍टर गंगवार व पुलिस कप्‍तान सगर पहुंचे मनासा तहसील, ग्राम ढाणी का लिया जायजा, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर WOW: नगर में धुमधाम से मनाई गई लव-कुश जयंती, समाजजनों ने निकाली भव्‍य शोभायात्रा, पढें दशरथ नागदा की खबर BIG NEWS: पुर्व सांसद मिनाक्षी नटराजन पहुंचे कुकडेंश्‍वर तहसील, बारिश में पीडित रहवासियों की सुनी समस्‍या, दिया आश्‍वासन, पढें दशरथ नागदा की खबर NEWS: छोटीसादड़ी से बड़ीसादड़ी उदयपुर मार्ग पर रोडवेज बसें बंद, अवैध वाहनों में सफर करने पर मजबूर हैं यात्री, पढें कैलाश शर्मा की खबर OMG ! नगर के महाराणा बस स्‍टेंड बना बियर बार, सजती है शराबियों की महफिलें, पुलिस ने अब त‍क नहीं की कोई कार्रवाही, पढें कैलाश शर्मा की खबर NEWS: पश्चिमांचल माहेश्वरी युवा संगठन ने नवनिर्वाचित माहेश्वरी समाज अध्यक्ष दिलीप बांगड का किया स्वागत, पढें आशिष बैरागी की खबर BIG REPORT: विन्ध्‍यानगर पुलिस की बड़ी कार्रवाई, अवैध मादक पदार्थ हैरोईन की जब्‍त, 2 आरोपी भी गिरफ्तार, पढें उपेंद्र दुबे की खबर OMG ! 19 दिनों से थाने के चक्कर काट रहे फरियादी की नही हुई अब तक एफआईआर दर्ज, पुलिस बरत रहीं लापरवाही, पढें रवि पोरवाल की खबर SHOK KHABAR: नहीं रहें कृष्‍णगोपाल मालू, परिवार में शोक की लहर, शवयात्रा सोमवार सुबह 9 बजें, पढें खबर WOW: मोर कुएं में गिरा, ग्रामीणों में अपनी जान पर खेल बचाई मौर की जान, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर

HEALTH: होम्‍योपैथी की दवा खाने से पहले जरूरी है इन बातों का ध्यान रखना

Image not avalible

HEALTH: होम्‍योपैथी की दवा खाने से पहले जरूरी है इन बातों का ध्यान रखना

डेस्‍क :-

कई असाध्‍य रोगों में होम्योपैथिक दवाएं एक तरीके से वरदान मानी जाती हैं. इन मीठी गोलियों का जादू ऐसा है कि ये कई खतरनाक बीमारियों से हमेशा के लिए निजात दिला देती हैं. हाल में ही आईं एक रिपोर्ट के अनुसार किडनी और थायरायड रोग से निजात दिलाने के लिए सबसे अच्छा तरीका हौम्योपैथिक दवाएं हैं. बावजूद इसके कई अच्‍छे डॉक्‍टर भी हैरान रह जाते हैं कि उनकी दवा मरीज पर असर क्‍यों नहीं कर रही हैं. दरअसल डॉक्‍टर की सलाह के बावजूद हम कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं कि दवा का असर नहीं हो पाता. तो ये है होम्योपैथी दवाओं को लेने का सही तरीका.

डॉ पुनीत सरपाल के अनुसार जब भी हम दवा लें तो हमारा मुंह साफ हो, किसी भी प्रकार का खाद्य पदार्थ मुंह में न हो. कुछ भी खाने के 5 मिनट बाद ही दवा लें. ध्यान रखें कि यदि गंध वाली चीज जैसे इलायची, लहसुन, प्याज या पिपरमिंट खाई है तो 30 मिनट के बाद ही दवा लें. इस दौरान कॉफी न पीएं. ये दवा के असर को खत्म करती है. 

इसे निगलने व चबाने की बजाय चूसकर ही खाएं क्योंकि दवा का असर जीभ के जरिये होता है. दवा खाने के 5-10 मिनट बाद तक कुछ न खाएं. होम्‍योपैथी दवाओं का असर इस बात पर निर्भर करता है कि मरीज का रोग एक्यूट है या क्रॉनिक. एक्यूट रोगों में यह 5 से 30 मिनट और क्रॉनिक बीमारियों में यह 5 से 7 दिन में असर दिखाती है. 
जो काम 2 गोली करती है वही चार गोलियां करेंगी. इसलिए ज्यादा या कम दवा लेने से कोई फर्क नहीं पड़ता. दवा की एक डोज भी काफी होती है.

होम्योपैथी दवाएं मीठी क्यों होती हैं 

इस बारे में डॉ सरपाल बताते हैं कि होम्योपैथिक औषधियां अल्कोहल में तैयार की जाती हैं जो काफी कड़वा होता है. कुछ अल्कोहल काफी कड़वे होते हैं जिससे मुंह में छाले पड़ने की आशंका रहती है. इसलिए इसे सफेद मीठी गोलियों में डालकर देते हैं. दवा के हाथ में आते ही उसमें मौजूद अल्कोहल वाष्पीकृत होने के कारण असर कम हो जाता है. इसलिए दवा को ढक्कन या कागज पर रखकर खाने को कहा जाता है.

दवा की पोटेंसी 

अक्सर होम्योपैथी दवाओं को देते समय डॉक्टर पोटेंसी की बात करते हैं. पोटेंसी दवा को रोग के अनुसार प्रभावी बनाने का काम करती है. जरूरत से ज्यादा पोटेंसी तकलीफ बढ़ा सकती है और जरूरत से कम इलाज के समय को लंबा करती है. यह रोग की गंभीरता, समयावधि, तीव्रता, लक्षण, उम्र और स्वभाव के आधार पर तय की जाती है. होम्योपैथी चिकित्सा में पोटेंसी का मतलब ‘पावर ऑफ मेडिसिन’ होता है. यह दवा की गुणवत्ता को तय कर असर करती है.

ये दो तरह की होती हैं लोअर पोटेंसी और हायर पोटेंसी. लोअर पोटेंसी एक्यूट डिजीज जैसे सर्दी-जुकाम में दी जाती है. इसके अलावा एलर्जिक डिजीज जैसे अस्थमा, एक्जिमा जिसमें लक्षण स्पष्ट नहीं होते, ऐसी स्थिति में भी लोअर पोटेंसी दी जाती है. हायर का स्तर छह से लेकर एक लाख पोटेंसी तक होता है. इसमें यदि मरीज का स्वभाव बीमारी के साथ बदल रहा हो तो उचित पोटेंसी का चयन करते हैं. लोअर पोटेंसी हफ्ते में 4-6 बार और हायर पोटेंसी हफ्ते या 15 दिन में एक बार देते हैं.


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.